ब्लास्ट के समय एम्बेसी के आसपास 45 हजार मोबाइल फोन एक्टिव थे

ब्लास्ट के समय एम्बेसी के आसपास 45 हजार मोबाइल फोन एक्टिव थे
Share

नई दिल्ली (एजेंसी)। इजराइली दूतावास के पास शुक्रवार शाम को हुए ब्लास्ट के समय आसपास के इलाके में 45 हजार मोबाइल फोन एक्टिव थे। सूत्रों के हवाले से यह जानकारी मिली है। जांच टीम को उस एरिया के मोबाइल टॉवर के यह डेटा मिला। यह साफ नहीं है कि धमाके को अंजाम देने वाले लोग वारदात के दौरान अपने साथ फोन रखे हुए थे या नहीं।

स्पेशल सेल, एनआईए और एनएसजी की टीम ने मौके पर पहुंचकर जांच की।

दिल्ली पुलिस की क्राइम ब्रांच एपीजे अब्दुल कलाम रोड पर आने या यहां से जाने के लिए कैब बुक करने वालों के डेटा की पड़ताल भी कर रही है। इनमें ओला और उबर समेत दूसरी कैब सर्विस शामिल हैं। सूत्रों ने खबर दी है कि मामले की जांच के लिए इजराइल की खुफिया एजेंसी मोसाद की टीम दिल्ली आ सकती है। एनएसए लेवल की बातचीत के बाद इजराइल सरकार ने यह फैसला लिया है।

सीसीटीवी में कैब से उतरते दिखे थे दो संदिग्ध गुलाबी दुपट्टे की भी होगी जांच

इस्राइल दूतावास के पास जहां धमाका हुआ था वहां से बरामद लिफाफे और जले हुए पिंक कलर के दुपट्टे की पुलिस जांच कर रही है। पुलिस को मिले लिफाफे के अंदर से एक चि_ी भी बरामद हुई है। इसमें ‘यह तो ट्रेलर हैÓ लिखा है। पुलिस ने दो ईरानी नागरिकों को हिरासत में लेकर उनसे पूछताछ कर रही है। सूत्रों का दावा है कि बम धमाके से पूर्व दो संदिग्ध कैब से आते देखे गए थे। स्पेशल सेल की टीम ने एफआरआरओ से पिछले एक माह के दौरान ईरान से आए यात्रियों के आने-जाने वाले नागरिकों का डाटा मांगा, पुलिस को आशंका है कि धमाके में ईरानी कनेक्शन हो सकता है।


Share