बॉम्बे  हाई कोर्ट से नहीं मिली अर्नब को राहत

Share

मुंबई ( कार्यालय सवांददातता ) | इंटीरियर डिज़ाइनर को आत्महत्या के लिए उकसाने के आरोप में ग्रिफ्तार किये गए रिपब्लिक मीडिया ग्रुप के एडिटर- इन- चीफ अर्नब गोस्वामी की मुश्किलें  कम होने  का नाम नहीं  ले  रही हैं | अर्नब  को गुरूवार को बॉम्बे हाई कोर्ट की डिवीज़न बेंच से भी राहत नहीं मिली | बेंच शुक्रवार  को मामले की फिर से सुनवाई | बता दे कि अर्नब गोस्वामी ने आत्महत्या के मामले में अपनी गिरफ्तारी को गैरकानूनी बताते हुए बॉम्बे हाई कोर्ट में याचिका दायर करी थी | याचिका  में गोस्वामी ने तुरंत रिहा किये जाने कि मांग की हैं |

अर्नब को अलीबाग पुलिस ने बुधवार सुबह गिरफ़्तार किआ था, जिसके बाद रात में हाई कोर्ट ने 14 दिनों की न्यायिक हिरासत में भेज दिया था | टीवी एंकर गोस्वामी ने गुरूवार को मेजिस्ट्रेट के सामने जमानत अर्जी दाखिल की थी, जिसे बाद में वापस ले लिया और फिर हाई कोर्ट में याचिका दायर की |

रिपब्लिक टीवी के एडिटर – इन – चीफ के वकील, वरिष्ठ एडवोकेट ऐवाद पोंडा ने कोर्ट से कहा कि 2018 में पुलिस ने केस को बंद कर दिया था | यह मामला बिना कोर्ट के आदेश के पुलिस फिर से नहीं खोल सकती हैं | पोंडा ने कहा, यह ( मेजिस्ट्रयल आदेश समरी रिपोर्ट को स्वीकार करने और मामले को बंद करने ) ताबूत में एक कील था |

 


Share