तालिबानी खतरे पर आर्मी चीफ ने किया सावधान – कश्मीर में घुसने की कोशिश कर सकते अफगानिस्तान के आतंकी

आतंकी हमले में सैनिक शहीद, 3 घायल
Share

नई दिल्ली (एजेंसी)। सेना प्रमुख जनरल एमएम नरवणे ने शनिवार को इस संभावना को खारिज नहीं किया कि अफगानी मूल के विदेशी आतंकवादी जम्मू-कश्मीर में घुसने की कोशिश कर सकते हैं। उन्होंने दो दशक पहले अफगानिस्तान में तालिबान शासन के दौरान के इस तरह के उदाहरण भी दिए। सेना प्रमुख ने यह भी कहा कि भारतीय सेना इस तरह की किसी हिमाकत का जवाब देने के लिए तैयार हैं।

इंडिया टुडे कॉनक्लेव में सेना प्रमुख से पूछा गया कि जम्मू-कश्मीर में हाल में की गई हत्याओं और अफगानिस्तान में तालिबान के कब्जे के बीच कोई संबंध है? जनरल नरवणे ने कहा कि यह नहीं कहा जा सकता कि इसमें कोई कनेक्शन है या नहीं।  सेना प्रमुख ने कहा, निश्चित तौर पर गतिविधियां (जम्मू-कश्मीर) बढ़ी हैं, लेकिन क्या अफगानिस्तान में जो हो रहा है उससे इसका कोई सीधा संबंध है या नहीं, हम नहीं कह सकते।

सेना प्रमुख ने कहा, लेकिन हम जो कह सकते हैं और इतिहास से जान सकते हैं वह यह कि तालिबान के पूर्व के शासन के समय जम्मू-कश्मीर में अफगान मूल के विदेशी आतंकवादी थे। इसलिए यह विश्वास करने की वजहें हैं कि अफगानिस्तान में स्थिति समान्य होने के बाद उसी तरह की चीजें हो सकती हैं। तब हम अफगानिस्तान से इन लड़ाकों की आवक देख सकते हैं।

सेना प्रमुख ने कहा कि भारतीय सेना इस तरह की कोशिशों से निपटने के लिए पूरी तरह तैयार है। उन्होंने कहा, हम इस तरह की किसी स्थिति के लिए तैयार हैं।


Share