अलवर नगर परिषद सभापति बेटे के साथ घर पर 80 हजार रुपए लेती हुई गिरफ्तार

अलवर नगर परिषद सभापति बेटे के साथ घर पर 80 हजार रुपए लेती हुई गिरफ्तार
Share

अलवर (कार्यालय संवाददाता)। कांग्रेस नेता व अलवर नगर परिषद सभापति बीना गुप्ता और उनके बेटे कुलदीप गुप्ता को एसीबी  ने सोमवार को रिश्वत लेते गिरफ्तार किया। सभापति गुप्ता ने खुद के घर पर ऑक्शनर से रिश्वत मांगी थी। रिश्वत के रूप में 3 लाख 50 हजार रुपए देना तय हुआ। करीब 1 लाख 35 हजार रुपए पहले दिए जा चुके थे। अब 80 हजार रुपए लेते हुए गिरफ्तार किए गए हैं।

अस्थायी दुकानों का ऑक्शन करने वाले से कमीशन

शिकायतकर्ता मोहनलाल ने एसीबी को करीब सवा महीने पहले शिकायत दी थी कि वह नगर परिषद में ऑक्शनर है। परिषद की अस्थायी जगह पर दुकान लगाने के ठेके देता है। इसके अलावा प्रचार-प्रसार के काम करता है। इसके लिए परिषद की ओर से उसे 2 पर्सेंट कमीशन मिलता है। सभापति बीना गुप्ता इस कमीशन की राशि में से 50त्न रिश्वत मांगती हैं।

बिना रिश्वत दिए नहीं मिल रही राशि

शिकायतकर्ता ने बताया था कि उसके काम के एवज में मिलने वाली राशि तभी मिलेगी जब वह सभापति को रिश्वत देगा। एसीबी ने करीब 1 महीने पहले शिकायत का सत्यापन कर लिया था। उसका सत्यापन होने के बाद एसीबी ने सोमवार को अलवर शहर में अशोका टॉकीज के पास गाय वाले मोहल्ले में बीना गुप्ता को उसके घर पर ट्रैप किया।

रिश्वत की राशि देते समय दोनों से बात

एसीबी के एएसपी बजरंग सिंह ने बताया कि सोमवार शाम करीब साढ़े चार बजे रिश्वत की राशि देते समय सभापति व उसके बेटे कुलदीप दोनों से बात हुई। फिर रिश्वत के 1 लाख रुपए दिए गए। इसमें से 20 हजार रुपए वापस कर दिए। कुल 80 हजार रुपए रख लिए गए। इसके तुरंत बाद एसीबी ने रिश्वत की राशि के साथ दोनों को ट्रैप कर गिरफ्तार कर लिया।

घर से ही ऑफिस का काम

एसीबी के अधिकारी ने बताया कि ऑक्शनर के काम के एवज में मिलने वाली कमीशन की राशि का चेक उसे घर से ही दिया गया। मतलब ऑफिस का काम भी घर से होता था।

बड़ी मात्रा में गोल्ड भी मिला

एसीबी ने अभी सभापति के घर पर सम्पति व नकदी मिलने की जानकारी नहीं दी है। सूत्रों से पता चला है कि घर में बड़ी मात्रा में सोना मिला है। इसके अलावा प्रॉपर्टी के दस्तावेज भी मिले हैं। जांच जारी है।

एक टीम जयपुर से

एसीबी की जयपुर की टीम कार्रवाई करने पहुंची। साथ में अलवर एसीबी की टीम के अधिकारी भी मौजूद रहे। एसीबी के अधिकारियों को करीब सवा महीने पहले शिकायत मिली थी। अब ट्रैप किया गया। संभव है कि मंगलवार को सभापति व उसके बेटे को कोर्ट में पेश किया जाएगा। इसके बाद जेल भेजा जा सकता है। एसीबी की कार्रवाई के दौरान घर के बाहर भीड़ जुट गई थी।


Share