टीम इंडिया के लिए खतरे की घंटी, इंग्लैंड ने न्यूजीलैंड को 3-0 से क्लीन स्वीप किया, 1 जुलाई से भारत के खिलाफ टेस्ट

टीम इंडिया के लिए खतरे की घंटी, इंग्लैंड ने न्यूजीलैंड को 3-0 से क्लीन स्वीप किया, 1 जुलाई से भारत के खिलाफ टेस्ट
Share

लीड्स (एजेंसी)। इंग्लैंड ने लगातार तीसरे टेस्ट मैच में 275+ रन का टारगेट चेज कर इतिहास बना दिया है। अंग्रेजों ने न्यूजीलैंड के खिलाफ सीरीज के तीसरे और आखिरी टेस्ट मैच में 296 रन का टारगेट सिर्फ तीन विकेट खोकर हासिल कर लिया। इसके साथ ही मेजबान टीम ने तीन मैचों की सीरीज में 3-0 से क्लीन स्वीप कर लिया है।

इंग्लैंड की यह जीत टीम इंडिया के लिए खतरे की घंटी के समान है। 1 जुलाई से भारत और इंग्लैंड के बीच बर्मिंघम में टेस्ट मैच खेला जाना है। यह मैच पिछले साल कोरोना के कारण स्थगित हुई सीरीज का हिस्सा है। तब 5 में से 4 टेस्ट ही खेले जा सके थे।

रूट ने बनाए नाबाद 96 रन, दो और बल्लेबाजों के अर्धशतक

इंग्लैंड की जीत में पूर्व कप्तान जो रूट ने एक बार फिर अहम योगदान दिया। वे 86 रन बनाकर नाबाद रहे। रूट के अलावा जॉनी बेयरस्टो (71) और ओली पोप (82) ने भी अर्धशतक जमाए। रूट ने अपनी पारी में जहां 125 गेंदों का सामना किया वहीं बेयरस्टो ने सिर्फ 44 गेंदों पर 71 रन बना दिए। तीसरे टेस्ट में न्यूजीलैंड ने पहले बल्लेबाजी करते हुए 329 रन बनाए। जवाब में इंग्लैंड ने 360 रन बनाकर 31 रन की बढ़त हासिल की थी। न्यूजीलैंड ने अपनी दूसरी पारी में 326 रन बनाकर इंग्लैंड के सामने 296 रन का टारगेट सेट किया था।

आखिरी दिन गिरा सिर्फ 1 विकेट

इंग्लैंड ने तीसरे टेस्ट के पांचवें दिन की शुरुआत 2 विकेट पर 18& रन के स्कोर से की थी। तब ओली पोप 81 और जो रूट 55 रन बनाकर खेल रहे थे। पोप पिछले दिन के अपने स्कोर में सिर्फ 1 रन का इजाफा कर सके और 82 रन बनाकर टिम साउदी का शिकार बने। इसके बाद अंग्रेजों ने और कोई विकेट नहीं गंवाया। रूट और बेयरस्टो ने चौथे विकेट की साझेदारी में नाबाद 111 रन जोड़े।

इंग्लैंड ने सातवीं बार न्यूजीलैंड को क्लीन स्वीप किया

यह सातवां मौका है जब इंग्लैंड ने दो या इससे यादा टेस्ट मैचों की सीरीज में न्यूजीलैंड को क्लीन स्वीप किया है। इससे पहले टीम ने 1955, 1963, 1965, 1978, 1983 और 2004 में खेली गई सीरीजों में भी कीवी टीम का सफाया कर दिया था।

नए कप्तान और कोच ने बदला इंग्लैंड का मिजाज

इस सीरीज से पहले इंग्लैंड ने टेस्ट टीम का कप्तान और कोच दोनों बदल दिया। जो रूट के स्थान पर बेन स्टोक्स कप्तान बनाए गए। वहीं, क्रिस सिल्वरवुड की जगह न्यूजीलैंड के ब्रैंडन मैकुलम को कोच बनाया गया। इन बदलावों के बाद इंग्लैंड की टीम ‘यादा आक्रामक अंदाज में खेल रही है ।


Share