एयरो इंडिया शो में वायुसेना ने भरी हुंकार- सुखोई ने त्रिशूल फॉर्मेशन कर सबको किया चकित

एयरो इंडिया शो में वायुसेना ने भरी हुंकार
Share

बेंगलुरू (एजेंसी)। बेंगलुरू में एयरो इंडिया-2021 के दौरान भारतीय सेना ने आसमान में आपनी ताकत से दुनिया को एहसास कराया है। रक्षा मंत्री राजनाथ सिंह और कर्नाटक के मुख्यमंत्री बीएस येदियुरप्पा की मौजूदगी में लड़ाकू विमानों ने हवा में हुंकार भरी। इस दौरान जब सुखोई एसयु-30एमकेआई के लड़ाके हवा में त्रिशूल बना रहे थो तो वहां मौजूद भीड़ ने जमकर तालियां बजाई। इससे पहले प्र.म. नरेंद्र मोदी ने ट्वीट कर लिखा,भारत डिफेंस में और एयरोस्पेस में असीमित क्षमता प्रदान करता है। इन क्षेत्रों में सहयोग के लिए एयरो इंडिया एक अद्भुत मंच है।

ब्रह्मोस सुपरसोनिक क्रूज मिसाइल के एयर-लॉन्च संस्करण से लैस भारतीय वायु सेना एसयु-30 एमकेआई फाइटर जेट, बेंगलुरू में एयरो इंडिया शो में अपनी ताकत का प्रदर्शन किया। वायु सेना का एक समर्पित स्क्वाड्रन इन मिसाइलों से लैस है जो 400 किमी से अधिक दूरी पर लक्ष्य को मार सकता है।

एयरबोर्न अर्ली वार्निंग एंड कंट्रोल सिस्टम ने शो के दौरान नेत्र फॉर्मेशन किया। रक्षा अनुसंधान और विकास संगठन ने एयरो इंडिया में भारत के अंडर-डेवलपमेंट पांचवें पीढ़ी के लड़ाकू विमान एडवांस्ड मीडियम कॉम्बैट एयरक्राफ्ट का प्रदर्शन किया है। डीआरडीओ के अनुसार, विमान मल्टिपल फीचर्स और मल्टीरोल फाइटर प्लेन की सभी क्षमताओं के साथ आएगा। ब्रह्मोस सुपरसोनिक क्रूज मिसाइल को तटीय रक्षा भूमिका में  एयरो इंडिया शो में प्रदर्शित किया गया। भारतीय नौसेना अगली पीढ़ी की समुद्री समुद्री तटीय रक्षा बैटरी भूमिका के तहत मिसाइल को शामिल करने जा रही है।

बता दें कि कोरोना वायरस महामारी के बीच देश की प्रतिष्ठित एयरोस्पेस एवं रक्षा प्रदर्शनी एयरो इंडिया 2021 बुधवार को आरंभ हुई। इसमें ‘आत्मनिर्भर भारत अभियान’ और ‘मेक इन इंडिया’ का प्रभाव दिख रहा है। अधिकारियों ने बताया कि इस द्विवार्षिक अंतरराष्ट्रीय कार्यक्रम का यह 13वां संस्करण है और येलहांका एयरफोर्स स्टेशन पर होने वाला यह दुनिया का पहला मिश्रित किस्म का एयरोस्पेस शो है।

आयोजन में 601 कंपनियों ने हिस्सा लेने की पुष्टि की है जिनमें से 523 भारतीय तथा 78 विदेशी हैं। इसमें 14 देशों के प्रतिनिधि भी भाग ले रहे हैं। दसॉल्ट सिस्टम्स, इंडिया में एरोस्पेस ऐंड डिफेंस के इंडस्ट्री लीड एवं निदेशक रविकिरण पोथुकुची ने कहा कि भारत में एयरोस्पेस और रक्षा क्षेत्र परिवर्तन के दौर से गुजर रहा है क्योंकि यहां की सरकार बड़े पैमाने पर आधुनिकीकरण और स्वेदशीकरण कार्यक्रमों का संचालन कर रही है।


Share