एम्स की डॉक्टर ने उठाए सवाल- ‘बीमारी बढऩे की वजह इंडस्ट्रीयल ऑक्सीजन का प्रयोग’

केंद्र की योजना सिंगापुर और यूएई से उच्च क्षमता वाले ऑक्सीजन टैंकरों को आयात करने की है
Share

नई दिल्ली (एजेंसी)। कोरोना संकट के बीच देशभर में ब्लैक फंगस (म्यूकरमाइकोसिस) के मामले लगातार सामने आ रहे हैं। कुछ राज्यों ने ब्लैक फंगस को अपने यहां महामारी भी घोषित कर दिया है। ब्लैक फंगस नाम की बीमारी ने लोगों को नए टेंशन में डाल दिया है। ऐसे में बड़ा सवाल यह है कि आखिर यह बीमारी किन वजहों से बढ़ रही है।

शुरूआती तौर पर कहा जा रहा था कि ब्लैक फंगस की मुख्य वजह स्टेरॉयड का दिया जाना है। लेकिन अब दिल्ली के प्रतिष्ठित अस्पताल एम्स की डॉक्टर प्रोफेसर उमा कुमार ने इस पर सवाल उठाया है और उनका दावा है कि इस बीमारी की कई और वजहें हैं।

ब्लैक फंगस के मामले लगातार बढऩे के कारणों के बारे में डॉक्टर प्रोफेसर उमा कुमार ने कहा कि कोरोना मरीजों को मेडिकल ऑक्सीजन की जगह इंडस्ट्रीयल ऑक्सीजन दिए जाने की वजह से मामले बढ़ रहे हैं। साथ ही उन्होंने कहा कि ह्यूमिडिफायर में स्टेरायल वाटर की जगह गंदे पानी का इस्तेमाल किया जा रहा है। इसके अलावा बिना धुले गंदे मास्क का उपयोग किया जा रहा है। साथ ही स्टेरॉयड का गलत इस्तेमाल भी इसकी बड़ी वजह है।

देशभर में 7 हजार से ज्यादा केस

देश के कई राज्यों में ब्लैक फंगस के मामले आ चुके हैं। अब तक इसके 7,251 केस सामने आए हैं जिसमें 219 लोगों की मौत भी हो गई है।

केंद्र सरकार ने कल गुरूवार को राज्यों से कहा था कि राज्यों को महामारी अधिनियम के तहत ब्लैक फंगस को महामारी घोषित करना चाहिए। ब्लैक फंगस से सबसे ज्यादा प्रभावित राज्य है महाराष्ट्र और यहां पर 1500 मामले आ चुके हैं जबकि 90 मौतें भी हो चुकी हैं।


Share