एम्स के निदेशक ने चेताया- तीसरी लहर 6-8 हफ्तों में आ सकती

बेंगलुरू के अपार्टमेंट में कोरोना विस्फोट
LUCKNOW, FEB 15 (UNI):- Uttar Pradesh Vidhan Parishad emlployees undergo coronavirus (Covid 19) testing before Budget Session U P Assembly at Vidhan Bhawan in Lucknow on Monday. UNI PHOTO-LKW PC 2U
Share

नई दिल्ली (एजेंसी)। कोरोना की तीसरी लहर कब आ सकती है? इसको लेकर एम्स के निदेशक डॉ. रणदीप गुलेरिया ने अहम बात कही है। एम्स के निदेशक ने शनिवार को कहा है कि अगले 6 से 8 हफ्ते में कोरोना की तीसरी लहर आ सकती है। उन्होंने चेताया है कि अगर लोगों ने मास्क और सोशल डिस्टेन्सिंग जैसे जरूरी गाइडलाइन को फॉलो नहीं किया तब काफी मुश्किल हालात पैदा हो सकते हैं। एम्स के निदेशक ने कहा है कि कोरोना के केस बढऩे पर सर्विलांस और जिस क्षेत्र में केस बढ़ते हैं उसकी पहचान कर वहां लॉकडाउन लगाने की भी जरूरत पड़ सकती है। गुलेरिया ने कहा कि अगर कोरोना से जुड़े गाइडलाइन को फॉलो नहीं किया गया तो तीसरी लहर 6-8 हफ्तों में आ सकती है। जरूरत है कि वैक्सीनेशन होने तक हम आक्रामक रूप से अपनी जंग को जारी रखें।

एम्स के निदेशक ने कहा है कि अगर किसी क्षेत्र में कोरोना संक्रमण का दर 5 प्रतिशत से ऊपर जाता है तो वहां लॉकडाउन लगाने यहा उस क्षेत्र को कैन्टेन्मेंट जोन घोषित करने जैसे जरूरी कदम उठाना चाहिए। एम्स के निदेशक ने यह भी कहा है कि आर्थिक गतिविधियों को ध्यान में रखते हुए कोरोना की किसी भी लहर से निपटने के लिए पूरे देश में लॉकडाउन लगाना कोई उपाय नहीं है। बता दें कि कोविड-19 की दूसरी लहर ने अप्रैल और मई के महीने में देश को बुरी तरह से प्रभावित किया था। दावा किया गया था कोविड की वजह से हर रोज कई लोगों की जान चली गई। कई अस्पतालों में ऑक्सीजन की कमी होने की बात भी कही गई थी।

हालांकि, पिछले कुछ दिनों से कोरोना के केसों में कमी दर्ज की गई है। जहां हर रोज कोरोना के 4 लाख केस आ रहे थे वहीं पिछले कुछ दिनों से यह दर 60,000 के आसपास पहुंच गया है। शनिवार को देश में 60,753 नए कोविड-19 केस दर्ज किये गये। इसके अलावा 1,647 लोगों की मौत कोरोना की वजह से हुई है।


Share