अग्नि-4 का सफल परीक्षण

अग्नि-4 का सफल परीक्षण
Share

ओडिशा (एजेंसी)। अग्नि-4 का सोमवार को सफल परीक्षण किया गया। रक्षा मंत्रालय ने बताया कि मिसाइल को ओडिशा के एपीजे अब्दुल कलाम द्वीप से लॉन्च किया गया। यह एक इंटरमीडिएट-रेंज बैलिस्टिक मिसाइल है, जो परमाणु हमले में सक्षम और 4000 किलोमीटर तक वार कर सकती है।

अग्नि श्रृंखला में अग्नि- 4 चौथी मिसाइल है, जिसे पहले अग्नि 2 प्राइम के रूप में जाना जाता है। रक्षा अनुसंधान और विकास संगठन द्वारा इसे विकसित किया गया था। पिछले साल, भारत ने परमाणु-सक्षम रणनीतिक अग्नि प्राइम मिसाइल का सफलतापूर्वक परीक्षण किया, जिसमें 1000 से 2000 किलोमीटर के बीच लक्ष्य को भेदने की क्षमता है। भारत नई तकनीकों और क्षमताओं को अपनाकर अपनी ताकत को और मजबूत करने में जुटा है।

इससे पहले भारत ने अग्नि-5 बैलिस्टिक मिसाइल का सफल परीक्षण किया था, यह मिसाइल सतह से सतह में 5000 किलोमीटर तक वार करने में सक्षम है। इसके अलावा, कुछ दिन पहले ही नौसेना एंटी-शिप मिसाइल का भी सफल परीक्षण किया जा चुका है।

अग्नि-4 की खास बातें

  • यह जमीन से जमीन में 4000 किलोमीटर तक प्रहार कर सकती है। इस तरह यह मिसाइल सिर्फ 20 मिनट में ही चीन और पाकिस्तान के किसी भी शहर को तबाह कर सकती है। यह 20 मीटर लंबी और डेढ़ मीटर चौड़ी एवं 17 टन के वजन की मिसाइल है, जो 1 हजार किलो वजन तक विस्फोटक ले जाने की क्षमता रखती है।
  • यह मिसाइल अत्याधुनिक तकनीक से लैस है, जिसमें पांचवीं पीढ़ी के कंप्यूटर लगे हैं। यह उड़ान के दौरान आने वाली खामियों को खुद ठीक कर इसे दिशा निर्देशत करने में भी सक्षम है। साथ ही, स्वदेशी रूप से विकसित रिंग लेजर ज्योरो और मिश्रित राकेट मोटर इसकी क्षमता और ज्याद बढ़ाता है। यह डेढ़ मीटर की ऊंचाई पर छोटे से छोट लक्ष्य को भी ध्वस्त करने में सक्षम है।
  • इस मिसाइल का कई बार परीक्षण किया जा चुका है। पहली बार इसका परीक्षण 11 दिसंबर, 2010 को किया गया था। आज डीआरडीओ के वरिष्ठ विज्ञानियों और अधिकारियों के दल की मौजूदगी में ओडिशा के चांदीपुर स्थित अब्दुल कलाम द्वीप के एलसी-4 से मिसाइल का परीक्षण किया गया था। इसका कई बार सुबह, दोपहर, शाम और रात के समय सफलतापूर्वक परीक्षण किया जा चुका है।

Share