भारत पर फिर 26/11 जैसा हमला नामुमकिन

भारत पर फिर 26/11 जैसा हमला नामुमकिन
Share

नई दिल्ली (एजेंसी)। चीन के साथ महीनों से जारी तनाव के बीच रक्षा मंत्री राजनाथ सिंह ने कहा है कि भारत युद्ध नहीं चाहता लेकिन इसके लिए पूरी तरह तैयार भी है। हिंदुस्तान टाइम्स लीडरशीप समिट में रक्षा मंत्री ने कहा कि भारत की एक इंच जमीन पर भी कोई कब्जा नहीं कर सकता। 26/11 मुंबई आतंकी हमले पर उन्होंने कहा कि इसे भुलाया नहीं जा सकता। लेकिन उस हमले के बाद से भारत ने आंतरिक और बाहरी सुरक्षा को इतना मजबूत कर लिया है कि अब 26/11 को दोहरा पाना नामुमकिन है। गुरूवार को मुंबई हमले की 13वीं बरसी भी थी जिसमें 166 लोगों की मौत हुई थी।

पूर्वी लद्दाख में मई महीने से ही एलएसी पर चीन के साथ जारी गतिरोध पर रक्षा मंत्री ने कहा कि दोनों देशों में बातचीत का सिलसिला चल रहा है लेकिन नतीजों की गारंटी नहीं दे सकते। राजनाथ सिंह ने कहा कि इतिहास गवाह है कि भारत ने कभी किसी देश पर हमला नहीं किया, किसी की एक इंच भी जमीन नहीं कब्जाई। भारत युद्ध नहीं चाहता लेकिन इसके लिए जरूरी है कि युद्ध के लिए पूरी तरह तैयार भी रहें। उन्होंने कहा कि हमारी सरकार ने सुरक्षा बलों को खुली छूट दे रखी है कि किसी की भी हिमाकत का मुंहतोड़ जवाब दें। गलवान में भी यही हुआ। राजनाथ सिंह ने कहा कि चीन की सेना एलएसी पर एकतरफा ढंग से किसी भी तरह का बदलाव नहीं कर सकती।

राजनाथ सिंह ने कहा कि 26/11 की घटना को भुलाया नहीं जा सकता, तब देश की संप्रभुता को चुनौती दी गई थी। उन्होंने कहा कि हम देशवासियों को यकीन दिलाते हैं कि अब भारत में फिर कभी 26/11 जैसा हमला नहीं किया जा सकता। रक्षा मंत्री ने कहा कि भारत ने आंतरिक और बाहरी सुरक्षा को इतना मजबूत कर लिया है कि मुंबई जैसा हमला नामुमकिन हो गया है। उन्होंने जम्मू-कश्मीर के नगरोटा में पिछले हफ्ते मारे गए 4 आतंकियों का जिक्र करते हुए कहा कि उन्हें मुंबई जैसे हमले के लिए ही भेजा गा था लेकिन सुरक्षा बलों ने उनकी नापाक साजिश नाकाम कर दी।

रक्षा मंत्री राजनाथ सिंह ने कहा कि पाकिस्तान को आतंकवाद की भारी कीमत चुकानी पड़ रही है। उस पर फाइनैंशल ऐक्शन टास्क फोर्स की तलवार लटक रही है। आतंक पर पाकिस्तान को चेतावनी देते हुए रक्षा मंत्री ने कहा कि भारत अब जरूरत पडऩे पर एलओसी के पार जाकर भी जवाब देता है। रक्षा मंत्री ने कहा कि जल, थल, नभ तीनों में भारत की सुरक्षा मजबूत हुई है।


Share