23 साल बाद महिला टीम ने इंग्लैंड में जीती वनडे सीरीज,अंग्रेजों को 88 रन से हराया, कप्तान हरमनप्रीत ने 111 बॉल पर बनाए 143 रन

After 23 years, the women's team won the ODI series in England
Share

कैंटरबरी (एजेंसी)। भारतीय महिला क्रिकेट टीम ने इंग्लैंड के खिलाफ कैंटबरी में खेला गया दूसरा मुकाबला 88 रनों से जीत लिया है। इसी के साथ तीन मैचों की सीरीज में भारतीय टीम ने 2-0 की अजेय बढ़त बना ली है। हरमनप्रीत सिंह की कप्तानी वाली टीम को इंग्लैंड की सरजमीं पर 23 साल बाद वनडे सीरीज में जीत मिली है। इससे पहले भारत को 1999 में अंजुम चोपड़ा की कप्तानी में 2-1 से जीत मिली थी।

मैच में भारत ने पहले बल्लेबाजी करते हुए 50 ओवर में 5 विकेट खोकर 333 रन का पहाड़ जैसा स्कोर खड़ा कर दिया था। यह इंग्लैंड के खिलाफ टीम इंडिया का वनडे में सबसे बड़ा स्कोर है। हरमनप्रीत कौर ने तूफानी पारी खेलते हुए 143 रन सिर्फ 111 पर बना दिए थे। इस दौरान उनके बल्ले से 18 चौके और 4 छक्के निकले। यह वनडे क्रिकेट में उनका 5वां शतक रहा। वह इंग्लैंड में वनडे में शतक लगाने वाली एशिया की पहली कप्तान भी बनीं।

जवाबी पारी खेलते हुए इंग्लैंड की पूरी टीम 44.2 ओवर में 245 रन पर ऑल-आउट हो गई।

हरलीन देओल ने भी लगाई फिफ्टी

हरमनप्रीत के अलावा हरलीन देओल ने भी मैच में शानदार 58 रनों की पारी खेली। उन्होंने 72 गेंदों का सामना किया। आखिरी 24 गेंद में टीम इंडिया ने 71 रन जोड़े। हरमनप्रीत कौर और दीप्ति शर्मा की जोड़ी ने छठे विकेट के लिए सिर्फ 24 गेंदों में 71 रनों की साझेदारी निभाई। इस साझेदारी में दीप्ति ने 15 रनों का योगदान दिया। वहीं, हरमनप्रीत ने अपनी पारी की आखिरी 11 गेंदों में 43 रन बना दिए।

रेणुका सिंह ने झटके 4 विकेट

टीम इंडिया के लिए तेज गेंदबाज रेणुजा सिंह ने 4 विकेट अपने नाम किए। उन्होंने 10 ओवर में 57 रन खर्च किए। वहीं, हेमलता ने 2, जबकि दीप्ति सिंह और शेफाली वर्मा को 1-1 सफलता मिली।

मंधाना ने तोड़ा मिताली राज का रिकॉर्ड

इस मुकाबले में स्मृति मंधाना ने वनडे क्रिकेट में अपने 3,000 रन पूरे किए। वह महिला वनडे मैचों में यह उपलब्धि हासिल करने वाली तीसरी भारतीय खिलाड़ी बन गईं। उनसे पहले पूर्व भारतीय कप्तान मिताली राज और वर्तमान कप्तान हरमनप्रीत कौर ऐसा कर चुकी हैं। उन्होंने सबसे तेज 3 हजार रन बनाने के मामले में पूर्व कप्तान मिताली राज को पीछे छोड़ दिया, जिन्होंने 88 पारियों में यह आंकड़ा पार किया था।


Share