कानून नहीं बंदूक से चलेगा अफगानिस्तान- संसद में घुसे तालिबानी- हथियार लेकर स्पीकर की कुर्सी पर बैठे

कानून नहीं बंदूक से चलेगा अफगानिस्तान- संसद में घुसे तालिबानी- हथियार लेकर स्पीकर की कुर्सी पर बैठे
Share

 

काबुल (एजेंसी)। आने वाले दिनों में अफगानिस्तान की तकदीर क्या होगी और किस तरह तालिबानी इसे चलाने जा रहे हैं, इसकी बानगी दिखने लगी है। राष्ट्रपति भवन के साथ ही तालिबानियों ने संसद भवन पर भी कब्जा कर लिया है। किसी लोकतंत्र में मंदिर की तरह पवित्र माने जाने वाले संसद के भीतर तालिबानी लड़ाके हथियारों के साथ घुसे और यहां तक कि स्पीकर की कुर्सी पर भी जाकर बैठ गए। बता दें, इस संसद भवन का निर्माण भारत ने ही कराया था और 2015 में पीएम मोदी की मौजूदगी में इसका उद्घाटन किया गया। सोशल मीडिया पर वायरल वीडियो में दिख रहा है कि संसद भवन के भीतर तालिबानी लड़ाके बंदूक लहरा रहे हैं। एक लड़ाका बंदूक लेकर स्पीकर की कुर्सी पर बैठा हुआ दिख रहा है तो उन कुर्सियों पर भी बंदूकधारी बैठे हुए नजर आ रहे हैं, जिन पर दो सप्ताह पहले ही अफगानिस्तान के जनप्रतिनिधि बैठते थे।

रविवार को तालिबान ने काबुल में प्रवेश के साथ राष्ट्रपति भवन पर कब्जा कर लिया। इन तस्वीरों के साथ ही दुनिया में इस बात का ऐलान हो गया कि अफगानिस्तान से अमेरिकी सैनिकों की वापसी की प्रक्रिया पूरी होने से पहले ही विद्रोहियों ने अपने मंसूबों को अंजाम दे दिया है। कुछ ही देर में राष्ट्रपति के देश छोडऩे की भी खबर आ गई और इस तरह तालिबानराज का आगाज हो गया है। राजधानी काबुल सहित देश के सभी बड़े शहरों और प्रमुख स्थानों पर तालिबानी लड़ाके मोर्चा संभाले हुए नजर आ रहे हैं। कट्टरवादी बंदूकधारियों के डर से अफगानिस्तान में भगदड़ मच चुकी है। लोग देश छोड़कर भाग रहे हैं। सोमवार काबुल एयरपोर्ट से बेहद चौंकाने वाली तस्वीरें सामने आईं। लोगों ने विमानों के बाहरी हिस्से पर लटकर भागने की कोशिश की और गिरकर मारे गए।

जिंदगी के लिए मौत की दौड़

काबुल पर तालिबान के कब्जे के बाद देश छोडऩे की कोशिशें कर रहे है। इसी कोशिश में काबुल एयरपोर्ट पर यूएस एयरफोर्स के रनवे पर दौड़ते विमान को पकडऩे की कोशिश में दौड़ लगाते लोग।


Share