कृषि बजट में 85 लाख किसानों को ये मिला, किसानों के लिए एक हजार ड्रोन खरीदेगी सरकार, 13 जिलों के लिए ईआरसीपी कॉर्पोरेशन बनाकर 9600 करोड़ खर्च होगा

85 lakh farmers got this in agriculture budget, government will buy one thousand drones for farmers, 9600 crore will be spent by forming ERCP corporation for 13 districts
Share

जयपुर (कार्यालय संवाददाता)। मुख्यमंत्री अशोक गहलोत बुधवार को पहला कृषि बजट पेश किया। मुख्यमंत्री ने कृषि बजट में किसानों की उन्नति के लिए 11 मिशन बनाने की घोषणा की है। ईस्टर्न राजस्थान कैनाल प्रोजेक्ट (ईआरसीपी) के लिए ईआरसीपी कॉर्पोरेशन बनेगा। ईआरसीपी के लिए 9600 करोड़ का प्रावधान किया गया है। गहलोत सरकार ने कृषि बजट में कुल 78 हजार 938 करोड़ का प्रावधान किया है। कृषि बजट राज्य की जीएसडीपी का 5.9 फीसदी है।

नोदरा, इसरदा लिंक का काम अब राज्य सरकार करेगी। ईस्टर्न कैनाल का काम अब राजस्थान सरकार ने खुद करने का फैसला किया है। पिछले विधानसभा चुनाव में प्र.म. मोदी ने इसे राष्ट्रीय परियोजना घोषित करने का आश्वासन दिया था। अब तक इसे राष्ट्रीय परियोजना का दर्जा नहीं मिला है। गहलोत कई बार प्र.म. को लिख चुके हैं। अब गहलोत सरकार ने ईआरसीपी का काम खुद करने का फैसला किया है। ईस्टर्न कैनाल से पूर्वी राजस्थान के 13 जिलों को सिंचाई और पीने का पानी मिलेगा।

कृषि बजट की मुख्य घोषणाएं

  • मुख्यमंत्री कृषक साथी योजना के तहत 5000 करोड़ की घोषणा
  • राजस्थान के कृषकों के लिए 11 मिशन शुरू करेंगे
  • सूक्ष्म सिंचाई मिशन के तहत 2000 हजार करोड़ का ऐलान
  • संभागों के लिए बीज लैब बनेगी
  • मुख्यमंत्री जैविक खेती मिशन शुरू होगा, इसके तहत 600 करोड़ का ऐलान
  • राजस्थान कमोडिटी बोर्ड का गठन।
  • राजस्थान मिलट योजना बनेगी।
  • हॉर्टिकल्चर मिशन पर 100 करोड़ रूपए खर्च होंगे। 5 करोड़ रूपए की लागत से सेंटर ऑफ एक्सीलेंस फॉर मिलेट की स्थापना की जाएगी। इसमें 15000 किसानों को लाभान्वित करने के लिए 100 करोड़ की लागत से 2 साल में फल बगीचे विकसित करने के लिए किसानों को अनुदान दिया जाएगा।
  • 25000 किसानों को ग्रीन हाउस जैसी अन्य सुविधाएं मिलेंगी
  • मसाला फसलों का 3000 हेक्टेयर क्षेत्र में विकास करवाया जाएगा
  • राजस्थान फसल सुरक्षा मिशन शुरू होगा। 35 हजार किसानों को खेतों की तारबंदी के लिए अनुदान मिलेगा।
  • 3 लाख पशुपालकों को हरा चारा बीज मिनी किट उपलब्ध कराए जाएंगे।
  • 60 हजार किसानों को कृषि यंत्रों पर 150 करोड़ रूपए अनुदान मिलेगा।
  • टिड्डी हमला रोकने के लिए 1000 ड्रोन खरीदे जाएंगे।
  • मधुमक्खी पालन के लिए 50 करोड़ का अनुदान दिया जाएगा।
  • सोलर पंप स्थापित करने के लिए 500 करोड़ का अनुदान दिया जाएगा। एक लाख किसानों लाभान्वित होंगे।
  • तीन साल में 2 लाख 48 हजार कृषि कनेक्शन दिए हैं। 31 दिसंबर 2012 से 9 साल से चली आ रही पेंडिंग को आगामी दो साल में खत्म करेंगे। 22 फरवरी तक सरकार के पास 3 लाख 38 हजार आवेदन आ चुके हैं।
  • सभी जिलों में किसानों को सिंचाई के लिए दिन में बिजली अनुदान मिलेगा।
  • इस साल 20 हजार करोड़ के सहकारी फसली कर्ज बांटे जाएंगे, 5 लाख नए किसानों को फसली कर्ज दिए जाएंगे।
  • राजस्थान के करीब 1 लाख अकृषि परिवारों को भी 2 हजार करोड़ का ब्याज मुक्त कर्ज मिलेगा।
  • भूमिहीन कृषि मजदूरों को 5000 रूपए की सहायता देगी सरकार।
  • 4171 ग्राम पंचायत मुख्यालयों पर ग्राम सेवा सहकारी समिति जीएसएस बनेंगी। जीएसएस खोने के मापदंडों में भी छूट दी।
  • सीएम ने नहर परियोजना निगम के गठन की घोषणा की है। इंदिरा गांधी नहरों को 200 करोड़ खर्च कर सुधारा जाएगा।
  • पशुपालकों को दूध पर अनुदान राशि बढ़ाई। 2 रुपए लीटर की जगह 5 रूपए लीटर राशि मिलेगी। 5 लाख दूध उत्पादकों को 500 करोड़ रूपए मिलेंगे।
  • 5000 नए डेयरी बूथ खोले जाएंगे।
  • बांसवाड़ा में बांधों का जीर्णोद्धार करवाया जाएगा।
  • कृषक कल्याण कोष के रूप में लगने वाला टैक्स घटाया गया।
  • कृषक कल्याण टैक्स में छूट की अवधि एक साल बढ़ाई गई है।
  • नील गाय से फसलों को बचाने के लिए 100 करोड़ की लागत से होगी तारबंदी।

Share