दो हफ्तों में दिल्ली एयरपोर्ट पर 7 हजार उतरे

दो हफ्तों में दिल्ली एयरपोर्ट पर 7 हजार उतरे
Share

नई दिल्ली (एजेंसी)। ब्रिटेन में सामने आए कोरोना वायरस के नए स्वरूप (स्ट्रेन) को लेकर बढ़ती चिंताओं के बीच दिल्ली सरकार ने मंगलवार को कहा कि वह हाल में ब्रिटेन से आए यात्रियों के स्वास्थ्य की स्थिति की जांच उनके घर जाकर करेगी। स्वास्थ्य मंत्री सत्येंद्र जैन ने संवाददाताओं को बताया कि ब्रिटेन से आने वाले सभी यात्रियों की दिल्ली हवाई अड्डे पर कोविड-19 के लिये जांच की जा रही है। उन्होंने कहा, दिल्ली सरकार ब्रिटेन में मिले कोरोना वायरस के एक नए स्वरूप के मद्देनजर सतर्क है। स्थिति पर करीबी नजर रखी जा रही है और उस देश से आने वाले सभी यात्रियों की दिल्ली हवाई अड्डे पर अनिवार्य जांच की जा रही है।

जैन ने कहा कि दिल्ली ने कोविड-19 की मुश्किल जंग लड़ी है और यह सुनिश्चित करने के सभी प्रयास किये जाएंगे कि महामारी के प्रबंधन में आया सुधार पुरानी स्थिति में न पहुंचे। नागर विमानन मंत्रालय ने सोमवार को कहा था कि कोरोना वायरस का नया प्रकार (स्ट्रेन) सामने आने के मद्देनजर 23 से 31 दिसम्बर तक ब्रिटेन से भारत आने-जाने वाली उड़ानें स्थगित रहेंगी। जैन ने कहा कि बीते दो हफ्तों में करीब छह से सात हजार लोग दिल्ली हवाईअड्डे पर उतरे हैं और उनमें से कई ने पंजाब और अन्य जगहों की यात्रा की।

‘लक्षण दिखें तो होंगे इंस्टिट्यूशनल क्वारंटीन’

उन्होंने कहा, हम घर-घर जाएंगे और उनके स्वास्थ्य की स्थिति के आकलन के लिये यात्रियों की जांच करेंगे और इसके साथ ही उन्हें कुछ दिन पृथकवास में रहने की सलाह भी देंगे। सूत्रों ने कहा कि ब्रिटेन से आ रहे यात्रियों की हवाईअड्डे पर आरटी-पीसीआर जांच की जा रही है। उन्होंने कहा कि किसी व्यक्ति की जांच में संक्रमण नहीं मिलता लेकिन उसमें लक्षण नजर आते हैं तो उसे संस्थागत पृथकवास में रखा जाएगा जबकि जिन लोगों में संक्रमण नहीं मिलता उनसे भी सात दिनों के लिये खुद को पृथकवास में रखने को कहा जाएगा।


Share