माही बांध के 6 गेट आधा-आधा मीटर खोले, उदयपुर संभाग में झमाझम बारिश का दौर जारी > कई बांध ओवरफ्लो, रास्ते अवरूद्ध

Akodara Dam overflow with 60 feet capacity
Share

नगर संवाददाता . उदयपुर। झीलों की नगरी उदयपुर सहित पूरे उदयपुर संभाग में सोमवार और मंगलवार को मेघों ने जमकर बारिश करते हुए शहर, कस्बे, गांव-देहात तर-बतर कर दिए। अधिकतर जलाशय ओवरफ्लो हो गए तो कुछ पर चादर चली। रपटों पर पानी बहने से रास्ते अवरूद्ध हो गए तो कुछ जगह लोग पानी के बहाव से हादसों के भी शिकार हुए।  मध्यप्रदेश और प्रतापगढ़ के कैचमेंट क्षेत्र से अच्छी जल आवक से मंगलवार शाम संभाग के बड़े माही बांध के 6 गेट आधा-आधा मीटर खोल दिए गए। इस सीजन में माही बांध के गेट पहली बार खोलेे गए हैं। कैचमेंट में तेज बारिश से माही बांध का जलस्तर मंगलवार को 281.50 मीटर के मुकाबले 279.40 मीटर पर पहुंच गया। जलस्तर बढऩे पर माही परियोजना खण्ड बांसवाड़ा के अधिशासी अभियंता प्रकाश रैगर की देखरेख में शाम 5 बजकर 40 मिनट पर माही बांध के 16 में से 6 गेट आधा-आधा मीटर खोल दिए गए। इससे माही बांध से करीब 16 हजार क्यूसेक पानी की निकासी हो रही है। सायरन बजाकर निचले इलाके के लोगों को सावचेत किया गया। जाखम बांध भी लबालब होने के बाद शाम को सवा 6 बजे छलक गया। भंवर सेमला बांध के तीन गेट 50 सेंंटीमीटर मंगलवार सुबह 9.15 बजे खोल दिए। प्रतापगढ़ में  सुहागपुरा के पास स्थित भंवर सेमला बांध पर करीब आधा मीटर की चादर चली। इसके तीन गेट खोलने पड़े। इसी तरह हमजा खेड़ी और चाचा खेड़ी बांध भी ओवरफ्लो हो गए।

6 घंटे जाम रहा हाईवे

भारी बरसात के चलते जहां उदयपुर-अहमदाबाद हाइवे पर जाम लग गया है। उदयपुर-अहमदाबाद हाइवे पर बॉर्डर के आगे हिम्मतनगर के पास जबरदस्त बरसात से पानी भर गया। इसमें कई प्राइवेट बसें और गाडिय़ां फंस गई। इससे 6 घंटे तक इस रोड पर जाम लगा रहा। यह जाम देर शाम जाकर खुला। इसके चलते गाडिय़ां हाइवे पर ही फंसी रही।

उदयपुर में भी झमाझम बारिश : उदयपुर शहर में भी तेज बारिश का दौर चल रहा है। सीसारमा नदी का वेग बढ़कर 4 फीट 2 इंच हो गए है। वल्लभनगर बांध के भी बुधवार को छलकने की उम्मीद है। उदयपुर में एक इंच बारिश दर्ज की गई। फतहसागर, पिछोला, उदयसागर छलक गए हैं। अब एशिया की सबसे बड़ी मीठे पानी की झील जयसमंद के छलकने की उम्मीद है। जयसमंद झील को भरने वाली प्रमुख नदियों में शामिल झामरी नदी उफान पर है। जलस्तर 15 फ़ीट 5 इंच हो गया है। साढे 27 फीट इसकी कुल क्षमता है। पीछोला झील का जलस्तर 11 फीट से कम कर 10 फीट 2 इंच बनाकर रखा गया है क्योंकि सीसारमा नदी से लगातार आवक जारी है। स्वरूपसागर के चारों गेट में से एक गेट बंद कर दिए गए हैं। फ़तहसागर पर 3 इंच की चादर चल रही है। उदयसागर के दोनों गेट छह-छह फीट खोल दिए गए।

गंभीरी व घोसुण्डा बांध के गेट खोले : चित्तौडग़ढ़ में गम्भीरी बांध पर दो फीट की चादर चलने के बाद शाम को आठ छोटे गेट खोले गए। वहीं, घोसुण्डा बांध का एक गेट खोल दिया गया। गंभीरी बांध के गेट खोलने के बाद चित्तौड़ शहर के बीचों बीच बहने वाली गंभीरी नदी में पानी का स्तर बढ़ता जा रहा है। जिला कलेक्टर ने इसको लेकर अलर्ट जारी किया है।

प्रतापगढ़ में चार इंच बारिश : मेवाड़ सहित प्रदेश में कई जगह मंगलवार को भी तेज बारिश का दौर रहा। शाम 6 बजे तक बारिश के आंकड़ों के अनुसार उदयपुर के सराड़ा में 67 मिलीमीटर, वल्लभनगर 52, मावली 41, उदयपुर शहर 25, सलूंबर में 62 मिमी बारिश हुई। प्रतापगढ़ के अरनोद में 100, प्रतापगढ़ 100, बांसवाड़ा के अरथुना में 50, जगपुरा 59, चित्तौड के भदेसर में 48, डूंगरपुर के सांबला में 72, चीखली में 48 मिमी बारिश हुई। उदयपुर संभाग की मंगलवार सुबह समाप्त हुए 24 घंटे की बारिश को देखें तो बांसवाड़ा के भूंगड़ा में 180 मिलीमीटर यानी करीब सवा सात इंच बारिश हुई। उदयपुर जिले में जयसमंद में 117 करीब पौने पांच इंच बारिश हुई।


Share