मानसून आने के 1 माह बाद भी 40% कम वर्षा – 27 जिलों में सामान्य से कम बारिश

बदला मौसम : राजस्थान के कई जिलों में बारिश
Share

जयपुर (कार्यालय संवाददाता)। राजस्थान में इस बार मानसून के आने के एक महीने बाद भी करीब 40 प्रतिशत वर्षा की कमी बनी हुई हैं जिससे प्रदेश के 27 जिलों में अब तक सामान्य बरसात भी नहीं हुई।

जल संसाधन विभाग के अनुसार प्रदेश में गत एक जून से 18 जुलाई तक सामान्य वर्षा 160.88 मिमी बारिश के मुकाबले 97.56 मिमी वर्षा हुई जो सामान्य से 39.4 प्रतिशत कम है। उल्लेखनीय है कि गत वर्ष इस दौरान 120.96 मिमी बरसात हो चुकी थी।

राज्य में मानसून के गत 18 जून को प्रवेश करने के एक-दो दिन बाद ही फीका पड़ जाने से पिछले एक महीने में बहुत कम वर्षा हुई जिससे प्रदेश के 27 जिलों में बरसात की कमी बनी हुई हैं। इनमें 10 जिले ऐसे हैं जहां 50 प्रतिशत से अधिक की वर्षा की कमी है। बरसात की कमी वाले जिलों में धौलपुर एवं बूंदी जिलों में अल्प वर्षा हुई जबकि अलवर, अजमेर, बांसवाड़ा, बारां, भरतपुर, भीलवाड़ा, चित्तौडग़ढ़, डूंगरपुर, गंगानगर, जयपुर, दौसा, जालोर, झालावाड़, झुंझुनूं, जोधपुर, करौली, कोटा, नागौर, पाली, राजसमंद, सवाईमाधोपुर, सीकर, सिरोही, टोंक एवं उदयपुर में सामान्य से कम बरसात दर्ज की गई। इनमें सर्वाधिक कमी वाला जिला धौलपुर हैं जहां अब तक 64.5 प्रतिशत बरसात की कमी हैं। धौलपुर में सामान्य वर्षा 173.30 मिमी की जगह अब तक 61.50 मिमी बारिश हुई जबकि बूंदी में अब तक 62.4 प्रतिशत बारिश की कमी है।

विभाग के अनुसार इस वर्ष अब तक प्रदेश में केवल जैसलमेर जिला ऐसा हैं जहां असामान्य वर्षा हुई हैं। जैसलमेर में अब तक सामान्य से 109 प्रतिशत बरसात अधिक हो चुकी है। जैसलमेर में सामान्य वर्षा 58.70 मिमी की तुलना में अब तक 122.67 मिमी बारिश दर्ज की गई है। प्रदेश में अब तक पांच जिले बाड़मेर, बीकानेर, चुरू, हनुमानगढ़ एवं प्रतापगढ़ में सामान्य से अधिक बरसात रिकॉर्ड की गई हैं।

राज्य में इस दौरान 165 स्थानों पर बारिश हो चुकी हैं जिनमें केवल 5 स्थानों पर ही भारी वर्षा हुई हैं जबकि 51 स्थानों पर मध्यम वर्षा दर्ज की गई। प्रदेश की इस बार अब तक सर्वाधिक 296 मिमी वर्षा झालावाड़ के गागरीन में हुई जबकि इस सीजन की अब तक की एक दिन में सर्वाधिक 121 मिमी बरसात गत चार जून को बांसवाड़ा में रिकॉर्ड की गई।

प्रदेश में इस बार अब तक मानसून के कमजोर रहने से छोटे बड़े कुल 727 बांधों में 509 बांध अभी खाली हैं तथा 190 बांध आंशिक रूप से भरे हैं, जबकि केवल छह बांध ही लबालब हो पाये है। लबालब हुए बांधों में केवल एक बांध ही ऐसा हैं जो 4.25 एमक्यूएम क्षमता से अधिक का है। राज्य में 22 बांधों की स्थिति के बारे में विभाग के पास कोई सूचना नहीं हैं। बांधों की भराव क्षमता 12626.32 एमक्यूएम की तुलना में वर्तमान में 4283.07 एमक्यूएम पानी हैं जो भराव क्षमता का 33.92 प्रतिशत हैं। यह गत 15 जून की स्थिति 5112.74 एमक्यूएम से भी कम हैं।

विभाग ने बताया कि इस बार राजधानी जयपुर सहित कई जगहों पर पेयजल आपूर्ति करने वाले टोंक जिले में स्थित बिसलपुर बांध में भी केवल 24.10 प्रतिशत पानी हैं। बांध की भराव क्षमता 1095.84 एमक्यूएम की तुलना में वर्तमान में केवल 264.11 एमक्यूएम पानी है। गत वर्ष इस दौरान बिसलपुर बांध में 601.64 एमक्यूएम पानी था।

राज्य में पिछले दो तीन दिनों में मानसून फिर सक्रिय हुआ है राजधानी जयपुर सहित कई स्थानों पर अच्छी बरसात हुई है और मौसम विभाग के अनुसार सोमवार को झुंझुनूं, सीकर, अलवर, जयपुर, दौसा, भरतपुर  एवं धौलपुर जिलों में एक दो स्थानों पर भारी एवं अलवर, झुंझुनूं एवं भरतपुर जिलों में एक-दो स्थानों पर भारी से अतिभारी वर्षा होने की संभावना है। इसी तरह मंगलवार को नागौर एवं पाली जिले में एक दो स्थानों पर भारी बारिश की संभावना जताई गई हैं।


Share