Friday , 19 April 2019
Top Headlines:
Home » Hot on The Web » 3 राज्यों के 50 ठिकानों पर कार्रवाई

3 राज्यों के 50 ठिकानों पर कार्रवाई

मप्र पुलिस को बताए बिना आयकर विभाग ने सीआरपीएफ के साथ मुख्यमंत्री कमलनाथ के करीबियों पर मारा छापा, टकराव
पहली बार ली सीआरपीएफ की मदद
आयकर सूत्रों के मुताबिक, मध्यप्रदेश के आयकर अफसरों को कार्रवाई की जानकारी नहीं दी गई थी। दिल्ली की टीम ने मध्यप्रदेश पुलिस की भी मदद नहीं ली। पहली बार सीआरपीएफ को छापेमारी की कार्रवाई में शामिल किया गया।
इंदौर में कई ठिकाने खंगाले गए
आयकर अफसरों ने छापेमारी के लिए इंदौर में एक ट्रैवल एजेंसी से गाडिय़ां बुक कीं। प्लानिंग के तहत 15 अफसरों ने रात 3 बजे कक्कड़ के आवास पर दबिश दी। यहां विजय नगर स्थित शोरूम, बीएमसी हाइट्स स्थित ऑफिस, शालीमार टाउनशिप और जलसा गार्डन, भोपाल स्थित आवास पर जांच की गई।16 करोड़ नकदी, 2 दर्जन से ज्यादा लग्जरी कारें बरामदभोपाल/इंदौर (एजेंसी)। आयकर विभाग ने रविवार को मध्यप्रदेश, दिल्ली और गोवा के 50 ठिकानों पर छापेमारी की। कार्रवाई में 500 आयकर अफसर शामिल हैं। इस दौरान मध्यप्रदेश के मुख्यमंत्री कमलनाथ के निजी सचिव प्रवीण कक्कड़, भांजे रातुल पुरी, सलाहकार आरके मिगलानी, कक्कड़ के करीबी प्रतीक जोशी और अश्विन शर्मा के ठिकाने खंगाले गए। अब तक करीब 16 करोड़ रूपए मिलने की बात सामने आई है। आयकर सूत्रों ने न्यूज एजेंसी को बताया कि ठोस इनपुट के बाद मध्यप्रदेश के भोपाल-इंदौर, गोवा और दिल्ली में एक साथ देर रात 3 बजे कार्रवाई शुरू की गई। अमिता ग्रुप और मोजर बियर के दफ्तर भी खंगाले गए। दिल्ली में मिगलानी की दो लग्जरी कारों से डॉलर मिले हैं।कार से मिले डॉलर : आयकर विभाग को प्लेटीनम प्लॉजा की पॉर्किंग में अश्विन की करीब दो दर्जन लग्जरी कारें मिली हैं। इसमें आधा दर्जन विंटेज कारें भी शामिल हैं। आयकर विभाग की टीम ने कारों की तलाशी भी ली है। उधर दिल्ली में मृगलानी की दो लग्जरी कारों से टीम ने डॉलर बरामद किए हैं।
हवाला और ट्रांसफर कराने का है करोड़ों रुपया : बताया जा रहा है कि बीते दिनों जबलपुर में पकड़े गए हवाला कारोबारी लालवानी के यहां आयकर विभाग ने छापा मारा था। भोपाल में भी कुछ दिन पहले एक हवाला गिरोह पकड़ाया था। मामले में बड़े नाम आने के बाद इसे रफा-दफा कर दिया गया। इसके बाद इसकी सूचना दिल्ली में आयकर विभाग के अधिकारियों को दी गई थी इसके बाद रविवार को ये कार्रवाई की गई। भोपाल में बरामद 9 करोड़ रुपए को लेकर ये भी कहा जा रहा है कि प्रदेश में बड़े पैमाने पर हुए तबादलों के दौरान हुए लेनदेन के बाद ये पैसा अश्विन के पास रखा हुआ था।
कक्कड़ ने कमलनाथ के मुख्यमंत्री बनने के बाद दिसंबर 2018 में ओएसडी का पद संभाला था। आम चुनाव की घोषणा के बाद उनके इस पद से इस्तीफा देने की बात सामने आई थी लेकिन म.प्र. कांग्रेस के मीडिया समन्वयक नरेन्द्र सलूजा के अनुसार उन्होंने अपने पद से इस्तीफा नहीं दिया था। मिगलानी ने छिंदवाड़ा में चुनाव प्रबंधन के लिए हाल ही में अपने पद से इस्तीफा दिया था। प्रतीक और अश्विन, कक्कड़ के करीबी
भोपाल में प्लेटिनम प्लाजा की छठी मंजिल पर प्रतीक जोशी और अश्विन शर्मा का आवास है। दोनों ही प्रवीण कक्कड़ के बेहद करीबी माने जाते हैं। यहीं पर दोनों के ऑफिस भी हैं। कक्कड़ के भोपाल में रहने के दौरान दोनों उनसे मिलने आते थे। प्रतीक के घर से बड़ी मात्रा में नकदी जब्त की गई। अश्विन के पास दो दर्जन लग्जरी कारें मिलीं।भोपाल में पुलिस और सीआरपीएफ में टकरावमप्र पुलिस : भोपाल के सिटी एसपी भूपिंदर सिंह ने कहा- हमारा इनकम टैक्स विभाग और छापे से कोई लेना-देना नहीं है। इन लोगों ने छापे के दौरान पूरे कॉम्प्लेक्स को बंद कर रखा है। लेकिन, यह रिहायशी कॉम्प्लेक्स है और यहां ऐसे लोग हैं, जिन्हें स्वास्थ्य सेवाओं की आवश्यकता है। कुछ लोगों ने स्थानीय पुलिस से मदद मांगी थी।
सीआरपीएफ : अधिकारी प्रदीप कुमार ने कहा- मप्र पुलिस हमें काम नहीं करने दे रही है। वे हमें धमका रहे हैं। हम तो केवल अपने वरिष्ठों के निर्देशों का पालन कर रहे हैं। वरिष्ठों ने हमसे कहा था कि किसी को भी अंदर नहीं आने देना है। हम केवल अपना कर्तव्य निभा रहे हैं।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

*

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.