बाजार जाने को निकला 18 साल का युवक उपद्रवियों संग हो लिया और मारा गया

बाजार जाने को निकला 18 साल का युवक उपद्रवियों संग हो लिया और मारा गया
Share

उदयपुर. नगर संवाददाता & शिक्षक भर्ती में सामान्य कोटे की सीटों को एसटी वर्ग को दिए जाने की मांग लेकर हुए उपद्रव में पुलिस द्वारा चलाई गोली से मरे दूसरे युवक के शव को भी परिजनों के सुपुर्द किया गया। मृतक मात्र 18 वर्ष का था और उसका भी इस भर्ती से कोई लेना-देना नहीं है। मृतक घर से बाजार जाने के लिए निकला और उपद्रवियों के साथ हो लिया, जो पुलिस पर हमले के प्रयास में मारा गया। पहचान होने पर जिला कलेक्टर ने मृतक के परिजनों को राज्य सरकार द्वारा सारी सहायता देने का आश्वासन दिया।

शिक्षक भर्ती में सामान्य वर्ग में भी आरक्षण की मांग कर रहे एसटी के अभ्यार्थियों का यह आंदोलन उग्र होने पर इस आंदोलन में बच्चे भी शामिल हो गए। खेरवाड़ा में पुलिस दल पर ट्रक चढ़ाने के प्रयास में हुए पुलिस द्वारा किए गए जवाब फायर में दो युवक मर गए। जिसमें एक तरूण मीणा का रविवार को पोस्टमार्टम करवाया गया। वहीं दूसरे मृतक कुलदीप मीणा (18) पुत्र कालूलाल मीणा निवासी घोड़ी वरणा ऋषभदेव के परिजन सोमवार को उदयपुर पहँुचे। मृतक का पिता कालूलाल मीणा अहमदाबाद में रहकर प्लम्बर का काम करता है और मृतक 10वीं का छात्र था, जो सप्लीमेंट्री आने पर पुर्न परीक्षा का इंतजार कर रहा था। यह मृतक भी 18 वर्ष का ही था। मृतक के पिता कालूलाल ने बताया कि यह दुकान पर जाने के बहाने अपने घर से निकला और इसके बाद इसका पता नहीं चल पा रहा था। परिजनों ने काफी तलाशा और इसके साथियों की भी तलाश की। साथी तो रविवार को पुन: आ गए, लेकिन वे गांव में आने के बाद भी छिपे-छिपे फिर रहे थे। इस पर परिजनों ने पूर्व प्रधान सालिगराम खराड़ी को बताया। इस पर पूर्व प्रधान खराड़ी ने इस बारे में आरएएस अधिकारी महावीर खराड़ी को फोन लगाया तो खराड़ी ने फोन नहंी उठाया तो फिर से सांसद अर्जुनलाल मीणा को फोन किया।

इसके बाद अधिकारी हरकत में आए। अधिकारियों ने बताया कि एक लड़के का शव उदयपुर में पड़ा है तो मृतक कुलदीप मीणा की उदयपुर में रहने वाली बुआ दुर्गा के लड़के प्रकाश चन्द्र खराड़ी को शिनाख्त के लिए भेजा। पहचान होने पर सुबह पूर्व प्रधान सालिगराम खराड़ी के साथ खेरवाड़ा में जिला कलेक्टर चेतन देवड़ा के पास पहँुचे, जहां पर जिला कलेक्टर ने मृतक के परिजनों को आश्वासन दिया कि राज्य सरकार की ओर से जो मुआवजे की घोषणा की है वह दिया जाएगा। इसके बाद पूर्व प्रधान सालिगराम खराड़ी और पुलिस जाब्ते के साथ मृतक के परिजन उदयपुर पहुँचे और यहां पर मेडिकल बोर्ड ने पोस्टमार्टम करवा शव परिजनों के सुपुर्द किया। मृतक के शव को भारी जाब्ते के साथ उसके गांव ले जाया गया और हाथों-हाथ अंतिम संस्कार करवाया गया, इस दौरान ज्यादा लोगो को एकत्रित नहीं होने दिया गया।

जानकारी के अनुसार इस मृतक कुलदीप मीणा का भी शिक्षक भर्ती परीक्षा में कोई लेना-देना नहंी था और यह भी जोश में आकर उपद्रव में शामिल हो गया और मारा गया। अभ्यार्थियों से शुरू हुआ यह आंदोलन कब बच्चों के हाथ में पहुँच गया, पता ही नहीं चला और आखिरकार बच्चों को अपनी जान गवानी पड़ी। जिन लोगों ने आंदोलन शुरू किया था वे तो आंदोलन की आग छेड़कर दूर हो गए और धीरे-धीरे यह आंदोलन बच्चों के हाथ में पहँुच गया।

पहले वाले का शव सुबह 5.30 बजे सुपुर्द : इसमेें से एक तरूण (19) पुत्र लक्ष्मण मीणा निवासी कारछा कलां घाटा खेरवाड़ा का रविवार शाम को पोस्टमार्टम करवाया गया। मृतक के शव को पुलिस ने रात भर मोर्चरी में ही रहने दिया गया। सोमवार सुबह करीब 5.30 बजे पुलिस अधिकारियों ने मृतक के शव को परिजनों के सुपुर्द किया, जिसका पुलिस सुरक्षा में अंतिम संस्कार किया गया।


Share