राजस्थान में कोरोना के 15398 नए मामले आए, 64 की मौत

कोरोना से मरने वालों में 90' की उम्र 40 से ज्यादा, 69' पुरूष
Share

जयपुर (कार्यालय संवाददाता)। प्रदेश में कोविड-19 संक्रमण के चलते मरीजों की मौत का सिलसिला लगातार जारी है। शुक्रवार को प्रदेश में 64 मरीजों की मौत कोरोना के चलते दर्ज की गई है, तो वहीं, 15,398 नए संमित मरीज सामने आए हैं। अब तक 3453 मरीज इस बीमारी से दम तोड़ चुके हैं और कुल संमित मरीजों की संख्या बढ़कर 4,83,273 पर पहुंच गई है।

शुक्रवार को सबसे अधिक मामले जयपुर, जोधपुर, कोटा और उदयपुर से देखने को मिले हैं, तो वहीं जोधपुर और उदयपुर में सर्वाधिक मरीजों की मौत दर्ज की गई है। चिकित्सा विभाग से मिली जानकारी के अनुसार शुक्रवार को अजमेर से 601, अलवर से 701, बांसवाड़ा से 188, बारां से 134, बाड़मेर से 95, भरतपुर से 102, भीलवाड़ा से 511, बीकानेर से 612, बूंदी से 105, चित्तौडग़ढ़ से 301, चूरू से 123, दौसा से 192, धौलपुर से 350, डूंगरपुर से 245, गंगानगर से 338, हनुमानगढ़ से 288, जयपुर से 3036, जैसलमेर से 115, और जालोर से 103 नए मामले सामने आए। इसी तरह झालावाड़ से 163, झुंझुनू से 85, जोधपुर से 1711, करौली से 73, कोटा से 1051, नागौर से 95, पाली से 951, प्रतापगढ़ से 355, राजसमंद से 157, सवाई माधोपुर से 459, सीकर से 585, सिरोही से 405, टोंक से 145 और उदयपुर से 923 संक्रमण के मामले देखने को मिले हैं।

वहीं, प्रदेश में एक्टिव केस की संख्या बढ़कर 1,17,294 पर पहुंच गई है। इसके अलावा शुवार को 5197 मरीज रिकवर हुए हैं, जिन्हें अस्पताल से डिस्चार्ज कर दिया गया है। कोरोना की स्थिति जोधपुर में सर्वाधिक मौतबीते 24 घंटों में प्रदेश में 64 मरीजों की मौत दर्ज की गई है और सबसे अधिक 14 मरीजों की मौत जोधपुर जिले से देखने को मिली है. वहीं, जयपुर में 13 मरीजों ने इस बीमारी से दम तोड़ दिया है। इसके अलावा अजमेर से 3, अलवर से 3, बारां से 1, भरतपुर से 1, भीलवाड़ा से 2, धौलपुर से 1, डूंगरपुर से 1, जैसलमेर से 1, जालोर से 1, झालावाड़ से 1, करौली से 1, कोटा से 5, नागौर से 1, राजसमंद से 1 और उदयपुर से 9 मरीजों की मौत दर्ज की गई है।

फिर से गरीबों को राशन मुहैया करवाएगी सरकार

कोरोना वायरस की दूसरी लहर की वजह से रोजाना बड़ी संख्या में मामले सामने आ रहे हैं। पिछले दो दिनों से देश में इतने मामले सामने आए हैं, जितने अभी तक किसी देश में नहीं मिले थे। संक्रमण की इस लहर को रोकने के लिए केंद्र सरकार से लेकर राज्य सरकारें जुटी हुई हैं। कुछ राज्य सरकारों ने वीकेंड लॉकडाउन, लॉकडाउन समेत कई तरह की पाबंदियों का ऐलान किया है। महामारी के इस समय में गरीबों को भोजन की समस्या से दो-चार न होना पड़े, इसके लिए केंद्र सरकार ने अहम कदम उठाया है। एक बार फिर से मोदी सरकार ने गरीबों को मुफ्त में राशन मुहैया करवाने का ऐलान किया है। प्रधानमंत्री गरीब कल्याण अन्न योजना के तहत केंद्र सरकार गरीबों के मई और जून 2021 के महीने में मुफ्त में राशन मुहैया करवाएगी। इस योजना के तहत दो महीनों में जनता को 5 किलो राशन दिया जाएगा। मुफ्त में राशन मिलने से तकरीबन 80 करोड़ लोगों को फायदा मिलेगा। सरकार ने पिछले साल भी कोरोना की लड़ाई से निपटने के दौरान, गरीबों को मुफ्त में राशन मुहैया करवाया था।

केंद्र सरकार की ओर से जारी बयान के अनुसार, गरीबों के लिए प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के कमिटमेंट को देखते हुए भारत सरकार ने 80 करोड़ लाभार्थियों को मुफ्त में राशन सामग्री मुहैया कराने का फैसला लिया है। इसी तरह से पिछले साल भी प्र.म. गरीब कल्याण योजना के तहत राशन मुहैया करवाया गया था। सरकार ने बताया कि प्र.म. नरेंद्र मोदी ने जोर देकर कहा है कि जिस समय देश कोरोना वायरस की दूसरी लहर का सामना कर रहा है, उस समय महत्वपूर्ण है कि गरीबों को पोषण मिल सके। केंद्र सरकार इस योजना के तहत तकरीबन 26 हजार करोड़ रूपये खर्च करेगी।


Share