15 हजार नई नौकरियों का ऐलान संभव – राजस्थान का पहला पेपरलेस बजट आज

मंत्रियों ने कहा -न्यायालय का सम्मान करेंगे
Share

जयपुर (कार्यालय संवाददाता)।  राजस्थान का बजट 24 फरवरी को आ रहा है। मुख्यमंत्री अशोक गहलोत सुबह 11 बजे विधानसभा में पेपरलेस बजट पेश करेंगे। इसे पढऩे के लिए विधायकों को टैब दिए जाएंगे। बजट में इस बार सोशल और मेडिकल सेक्टर पर ज्यादा जोर रहेगा। मेडिकल में बजट में इजाफा होना तय माना जा रहा है। युवाओं के लिए अलग-अलग विभागों में 15 हजार के आसपास नई भर्तियों का ऐलान हो सकता है। इसके अलावा, आंगनबाड़ी कार्यकर्ताओं का स्टेट से जुड़ा मानदेय बढ़ाया जा सकता है। इधर, राजस्व बढ़ाने के लिए लग्जरी टैक्स और तंबाकू पर टैक्स बढ़ाया जा सकता है। गहलोत ने पिछले साल 2 लाख 25 हजार करोड़ का बजट पेश किया था। इस बार कोरोना के बावजूद 2 लाख 40 हजार करोड़ यानी करीब 15 हजार करोड़ ज्यादा का बजट हो सकता है।

कोरोना संकट के चलते राज्य सरकार करों से मिलने वाली कमाई में करीब 25 हजार करोड़ रूपए पीछे चल रही है। प्रदेश की पूरी अर्थव्यवस्था ही उधार खाते चल रही है। अपने रोजमर्रा के खर्च चलाने के लिए सरकार अब तक सरकार बाजार से 40 हजार करोड़ रूपए का उधार ले चुकी है जो पिछले साल की इसी अवधि की तुलना में करीब 14 हजार करोड़ रूपए ज्यादा है।

2020-21 के बजट अनुमानों में गहलोत सरकार ने राजकोषीय घाटे का अनुमान 33922 करोड़ रूपए रखा था जो दिसंबर के अंत तक ही 18 प्रतिशत तक बढ़कर 40190 करोड़ रूपए हो चुका है। अनुमान के मुताबिक वित्त वर्ष पूरा होने तक राजकोषीय घाटा 45 हजार करोड़ रूपए का पार कर जाएगा।

बजट में गवर्नेंस को बेहतर करने पर रहेगा जोर

आपदा अपने साथ अवसर भी आता है। राज्य सरकार के पास भी आने वाले बजट में नए अवसर पैदा करने का मौका है। इसकी तैयारी भी की जा रही है। जानकारी के मुताबिक गहलोत सरकार इस बजट में गवर्नेंस पर फोकस करेगी। मकसद यह है कि सरकार की लागत घटे और लोगों को बेहतर सुविधा मिल सके।


Share