Thursday , 13 December 2018
Top Headlines:
Home » India » हिज्बुल कमांडर वानी ढेर

हिज्बुल कमांडर वानी ढेर

एएमयू छोड़ बना था आतंकी
श्रीनगर। जम्मू-कश्मीर के कुपवाड़ा जिले में गुरूवार को सुरक्षाबलों ने एक बड़े ऑपरेशन में दो आतंकियों को मार गिराया। इन दोनों में से एक आतंकी की पहचान हिज्बुल मुजाहिदीन के कमांडर मन्नान वानी के तौर पर हुई है। मन्नान वानी अलीगढ़ मुस्लिम यूनिवर्सिटी (एएमयू) का पूर्व स्टूडेंट था। वानी इसी साल एएमयू से लापता हुआ था। बाद में खबर आई कि वह आतंकी संगठन हिज्बुल मुजाहिदीन में शामिल हो गया था। एएमयू ने मन्नान वानी को निष्कासित कर दिया था।
सूत्रों के मुताबिक, हंदवाड़ा के शाटगुंड इलाके में सेना की राष्ट्रीय राइफल्स, पुलिस और सीआरपीएफ के एक संयुक्त ऑपरेशन में हिज्बुल मुजाहिदीन के दो आतंकियों को मार गिराया गया।
सेना की वॉन्टेड लिस्ट में था वानी
वानी ने इस साल की शुरूआत में अलीगढ़ मुस्लिम विश्वविद्यालय का पीएचडी कोर्स छोड़कर हिज्बुल मुजाहिदीन का हाथ थाम लिया था। हिज्बुल ने उसे कुपवाड़ा का कमांडर बनाया गया था। मन्नान के हिज्बुल जॉइन करने के बाद से ही सुरक्षा एजेंसियों को उसकी तलाश थी। वहीं पिछले दिनों सेना द्वारा जारी मोस्ट वॉन्टेड टेररिस्ट की सूची में मन्नान का भी नाम शामिल किया था।
आतंकियों ने फायरिंग कर भागने का किया प्रयास
हिज्बुल कमांडर की इसी तलाश के बीच गुरूवार सुबह सेना को हंदवाड़ा में उसके छिपे होने की जानकारी मिली। इसके बाद करीब 9 बजे राष्ट्रीय राइफल्स, पैरा स्पेशल फोर्स, एसओजी और सीआरपीएफ की टीमों ने शाटगुंड इलाके की घेराबंदी की और फिर लाउडस्पीकर के जरिए छिपे आतंकियों को सरेंडर करने के लिए कहा गया। वहीं सुरक्षाबलों की सख्त घेराबंदी के बीच आतंकियों ने फायरिंग कर भागने का प्रयास किया।
मुठभेड़ के बाद इलाके में भारी हिंसा
आतंकी फायरिंग के जवाब में सेना के जवानों ने मोर्चा संभालते हुए जवाबी फायरिंग की, जिसके बीच तीन आतंकियों को गिरफ्तार कर लिया गया। आतंकियों के गिरफ्तार होने की खबर पर तुरंत इलाके में मौजूद उपद्रवियों ने सुरक्षाबलों पर पथराव शुरू कर दिया, लेकिन सीआरपीएफ जवानों ने आंसू गैस के गोले और पैलेट गन का इस्तेमाल कर सभी को एनकाउंटर साइट के आसपास से खदेड़ दिया। इसके बाद हिरासत में लिए गए आतंकियों को किसी अज्ञात जगह पर ले जाकर पूछताछ शुरू की गई। (शेष पेज 8 पर)10 से 6 तक चुनाव प्रचार पर बैन
नई दिल्ली। पांच राज्यों में विधानसभा चुनाव की घोषणा के मद्देनजर आचार संहिता लागू हो जाने के बाद रात 10 बजे से लेकर सुबह 6 बजे तक एसएमएस या व्हाट््सएप कॉल के जरिये चुनाव प्रचार पर प्रतिबंध लगा दिया गया है। चुनाव आयोग ने सभी राज्यों में मुख्य चुनाव अधिकारियों को गत दिनों भेजे गए पत्र में यह बात कही है। पत्र में लिखा है कि आयोग ने 20 अप्रैल को जो पत्र लिखा था उसमें संशोधन कर यह जोड़ दिया गया है कि आदर्श चुनाव आचार संहिता लगने के बाद रात 10 बजे से सुबह 6 बजे तक घर-घर जाकर चुनाव प्रचार करने, एसएमएस करने या व्हाट््सएप कॉल करने पर रोक लगा दी गयी है, क्योंकि नागरिकों की निजता का सम्मान करना आवश्यक है ताकि उन्हें कोई परेशानी न हो। गौरतलब है कि 18 जुलाई के उच्चतम न्यायालय के आदेश के बाद आयोग ने 26 सितम्बर को चुनाव प्रचार के दौरान रात 10 बजे से सुबह छह बजे तक लाउडस्पीकर के इस्तेमाल पर रोक लगा दी थी। आयोग ने राज्यों के मुख्य चुनाव अधिकारियों से कहा है कि वे सभी चुनाव अधिकारियों को सुनिश्चित करें कि इस आदेश का पालन किया जाये और उसकी रिपोर्ट भी भेजी जाये।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

*

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.