सीमा पर पाकिस्तान को जवाब देंगी ‘शेरनियां

Share

30 महिला सैनिकों की टुकड़ी उत्तरी कश्मीर के तंगधार सेक्टर में तैनात
पैरामिलिट्री फोर्स असम राइफल्स से डेप्युटेशन पर हैं तैनात
कैप्टन गुरसिमरन कौर कर रही हैं महिला सैनिकों के दल की अगुवाई
नई दिल्ली (एजेंसी)। भारतीय सेना ने आंतरिक सुरक्षा और युद्ध में भाग लेने के मकसद से पहली बार पाकिस्तान से सटे नियंत्रण रेखा के पास अपनी महिला सैनिकों को तैनात किया है। इन महिला सैनिकों को अद्धसैनिक बल असम राइफल्स से डेप्युटेशन पर उत्तर कश्मीर के तंगधार सेक्टर में तैनात किया गया है।
30 महिला सैनिकों
का दल तैनात
करीब 30 महिला सैनिकों के दल की अगुवाई कैप्टन गुरसिमरन कौर कर रही हैं जो आर्मी सर्विस कॉर्प्स से हैं। वो अपने परिवार की तीसरी पीढ़ी की सैन्य अधिकारी हैं। एक अधिकारी ने बताया, महिला सैनिकों को एलओसी की तरफ सिक्यॉरिटी चेकपॉइंट्स के नजरिए से भीड़ नियंत्रण और महिला सुरक्षा के लिए तैनात किया गया है। खुफिया जानकारियां आती रहती हैं कि सीमा पार से हथियार और ड्रग्स की तस्करी होती है।
सीएमपी में शामिल की जाने लगी हैं महिलाएं
13 लाख सैनिकों की क्षमता वाली इंडियन आर्मी 1990 से सीमित संख्या में महिलाओं को ऑफिसर लेवल पर ही शामिल कर रही है। महिलाओं को इन्फेंट्री के फाइटिंग आर्म्स, आर्मर्ड कॉर्प्स, मेकनाइज्ड इन्फेंट्री और आर्टिलरी में शामिल नहीं किया जाता रहा। पिछले वर्ष आर्मी ने 50 महिलाओं को कॉर्प्स ऑफ मिलिट्री पुलिस में शामिल किया था जो अभी ट्रेनिंग के दौर से गुजर रही हैं। इंडियन आर्मी की योजना करीब 800 महिलाओं को मिलिट्री पुलिस में शामिल करने की है। इसके तहत आपराधिक मामलों, मसलन बलात्कार, छेड़छाड़ के साथ-साथ मिलिट्री फॉर्मेशनों में उचित अनुशासन सुनिश्चित करने के लिए हर वर्ष 50 महिलाओं की भर्ती की जाएगी।


Share