Thursday , 17 January 2019
Top Headlines:
Home » Sports » सिडनी में दोहराया मेलबर्न

सिडनी में दोहराया मेलबर्न

सिडनी (एजेंसी)। भारत और ऑस्ट्रेलिया के बीच चल रही चार टेस्ट मैचों की सीरीज का आखिरी टेस्ट में टीम इंडिया की खराब शुरूआत के बाद शानदार बल्लेबाजी की। टीम के लिए चेतेश्वर पुजारा ने बेहतरीन शतक लगाया उनके अलावा मयंक अग्रवाल ने भी टीम इंडिया को शुरूआती झटके से उबारते हुए 77 रनों की बेहतरीन पारी खेली और टीम में अपना स्थान और पक्का कर लिया। वहीं हनुमा विहारी ने भी नाबाद 39 रनों की प्रभावी पारी खेली। ऑस्ट्रेलिया के लिए जोश हेजलवुड ने सबसे अधिक दो विकेट लिए, वहीं मिशेल स्टॉर्क और नाथन लॉयन को एक-एक सफलता मिली है।
पहले दिन ही बन गया 300 से ज्यादा का स्कोर
चेतेश्वर पुजारा (130) की नाबाद शतकीय पारी के दम पर भारतीय क्रिकेट टीम ने ऑस्ट्रेलिया के खिलाफ जारी चौथे और अंतिम टेस्ट मैच के पहले दिन गुरूवार का खेल समाप्त होने तक चार विकेट के नुकसान पर 303 रनों का मजबूत स्कोर खड़ा कर लिया है। सिडनी क्रिकेट ग्राउंड पर जारी इस मैच में पुजारा के साथ हनुमा विहारी (39) नाबाद लौटे। भारत ने टॉस जीतकर पहले बल्लेबाजी का फैसला लिया था, लेकिन टीम इंडिया को दूसरे ओवर में ही केएल राहुल के रूप में झटका लगा और वे केवल 6 गेंद खेलकर आउट हो गए और टीम इंडिया का स्कोर केवल 10 रन पर एक विकेट हो गया। इसके बाद मयंक और पुजारा ने भारत की पारी को संभाला। लंच तक अपने विकेट बचाने के बाद मयंक ने अपनी हाफ सेंचुरी पूरी की। मयंक की यह फिफ्टी ओवर के 30वें ओवर में आई उन्होंने 96 गेंदों में 6 चौकों के साथ अपनी हाफ सेंचुरी पूरी की। ‘पुजारा से सीखकर बल्लेबाजी करनी होगीÓसिडनी (एजेंसी)। ऑस्ट्रेलिया के तीसरे नंबर के बल्लेबाज मार्नस लाबुशेन ने कहा है कि चौथे टेस्ट के नतीजे में पहली पारी की भूमिका महत्वपूर्ण होगी और उन्हें भारत के चेतेश्वर पुजारा का अनुकरण करते हुए लंबे समय तक बल्लेबाजी करनी होगी। लाबुशेन ने पहले दिन का खेल खत्म होने के बाद गुरूवार को कहा, वह स्तरीय खिलाड़ी हैं। क्रीज पर खेलते हुए उनके पास समय और धैर्य होता है। उन्होंने जिस तरह बल्लेबाजी की उससे निजी तौर पर मैं सीख लेना चाहूंगा। उन्होंने काफी लंबे समय तक बल्लेबाजी की और वह पूरी सीरीज के दौरान ऐसा करता रहे। हमें भी ऐसा ही करने की जरूरत है, जिससे कि बड़ा स्कोर खड़ा कर सकें। इससे पहले ऐडिलेड और मेलबर्न में क्रमश: पहले और तीसरे टेस्ट की पहली पारियों में भी उन्होंने शतक जड़ा था। लाबुशेन ने कहा, अगर दूसरे दिन गेंदबाज सही लाइन और लेंथ के साथ सही क्षेत्र में गेंदबाजी करते हैं तो मुझे भरोसा है कि हम जल्दी विकेट हासिल कर सकते हैं और उन्हें 400 रन से कम के स्कोर पर आउट कर सकते हैं। उन्होंने कहा, विकेट 3 दिन तक अच्छा रहता है और इसके बाद तेजी से टूटता है। इसलिए हमारे लिए पहली पारी महत्वपूर्ण होगी। लेग स्पिन गेंदबाजी करने वाले लाबुशेन ने पुजारा को गेंदबाजी की तो इस बल्लेबाज ने उनके पहले ही ओवर में 3 चौके जड़ दिए। इस ऑलराउंडर ने पूरे दिन में सिर्फ 4 ओवर गेंदबाजी की। अपने तीसरे ही टेस्ट में तीसरे नंबर पर बल्लेबाजी करने की भूमिका के बारे में पूछने पर लाबुशेन ने कहा, थोड़ा दबाव था। पहली गेंद ठीक थी और इसके बाद मैंने कुछ शॉर्ट गेंद फेंकी। अंतिम 3 ओवर गेंदबाजी के लिए जब मैं आया तो मैं सकारात्मक था।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

*

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.