Sunday , 24 March 2019
Top Headlines:
Home » India » सामान्य वर्ग को आरक्षण का रास्ता साफ

सामान्य वर्ग को आरक्षण का रास्ता साफ

लोस के बाद रास में भारी बहुमत से आरक्षण बिल पास
नई दिल्ली (एजेन्सी)। आर्थिक रूप से कमजोर सामान्य वर्ग को शिक्षा एवं रोजगार में 10 प्रतिशत आरक्षण देने से जुड़ा 124वां संविधान संशोधन विधेयक बुधवार को राज्यसभा में भी पास हो गया। सामान्य वर्ग आरक्षण बिल को लेकर राज्यसभा में हुई वोटिंग के दौरान इसके समर्थन में 165 और खिलाफ में केवल 7 वोट पड़े। इससे पहले बिल को सिलेक्ट कमिटी के पास भेजने के लिए कनिमोझी ने प्रस्ताव रखा था। हालांकि वोटिंग के दौरान इसके पक्ष में 18 और खिलाफ में 155 वोट पड़े। इसके साथ ही बिल को सिलेक्ट कमिटी में भेजने की मांग खारिज हो गई।
यहां उल्लेखनीय है कि सामान्य वर्ग आरक्षण के लिए लाए गए 124वें संविधान संशोधन विधेयक को लोकसभा ने एक दिन पहले मंगलवार को ही बहुमत के साथ पारित कर दिया था। सरकार पहले ही साफ कर चुकी है कि इस विधेयक को राज्यों की मंजूरी लेने की कोई जरूरत नहीं है। ऐसे में इस विधेयक को मंजूरी के लिए सीधे राष्ट्रपति के पास भेजा जाएगा। बसपा बोली- छक्का सीमा पार नहीं जाएगाइससे पहले चर्चा के दौरान राज्यसभा में कुछ दिलचस्प दावे सुनने को मिले। विपक्षी सांसदों ने चुनाव से ठीक पहले इस बिल को लाने को लेकर सरकार की मंशा पर सवाल खड़े किए। वहीं, सरकार ने बिल को ऐतिहासिक बताते हुए इसे मैच जिताने वाला छक्का बताया। इस पर बसपा ने दावा किया कि यह छक्का सीमा पार नहीं जा पाएगा।
बाद में बसपा नेता सतीशचंद्र मिश्रा ने सरकारी क्षेत्र में रोजगार के बेहद कम अवसर होने की ओर ध्यान दिलाया और इस विधेयक को एक ‘छलावाÓ बताया। उन्होंने कहा कि दो दलों (सपा और बसपा) के राष्ट्रीय अध्यक्षों की नववर्ष पर मुलाकात के बाद से ही सरकार दहशत में आ गई और रातों-रात यह विधेयक तैयार किया गया। ‘पिछड़ों को आरक्षण देने में किया बीज का कामÓ
केंद्रीय मंत्री एवं लोजपा प्रमुख रामविलास पासवान ने कहा कि ऊंची जाति के कई लोगों ने पिछड़ी जाति के लोगों को आरक्षण प्रदान करने में बीज देने का काम किया। उन्होंने कहा कि आजादी के बाद ऊंची जाति के लोगों में भी गरीबी बढ़ी है और उनकी कृषि भूमि का रकबा घटा है। उन्होंने कहा कि आज जब इस वर्ग को आरक्षण देने की बात आई है तो हम सभी को कंधे से कंधा मिलाकर इसके लिए संघर्ष करना चाहिए।
केंद्रीय मंत्री थावरचंद ने दिया जवाब
केंद्रीय सामाजिक न्याय एवं अधिकारिता मंत्री थावरचंद गहलोत ने कहा कि आज यह सदन एक ऐतिहासिक निर्णय लेने जा रहा है। इससे लाखों गरीब परिवारों को शैक्षणिक संस्थाओं और सरकारी सेवाओं में आरक्षण का लाभ मिलने लगेगा। उन्होंने कहा कि जिसने जिस ढंग से सोचा उस प्रकार से विचार रखे। नरेंद्र मोदी सरकार ने अच्छी नीति और अच्छे इरादे से इस बिल को सामने रखा है। सवर्ण आरक्षण बिल पर चर्चा में बोले प्रसाद’अभी और छक्के आने वाले हैंÓ
नई दिल्ली (एजेंसी)। आम चुनाव से पहले सामान्य वर्ग के आर्थिक रूप से कमजोर लोगों के लिए 10′ आरक्षण से जुड़े संविधान संशोधन विधेयक ने सियासी तूफान ला दिया है। केंद्र सरकार जहां इसे ऐतिहासिक कदम बता रही है तो विपक्ष इसकी टाइमिंग को लेकर सरकार की मंशा पर सवाल खड़े कर रहा है। इस बीच कानून मंत्री रविशंकर प्रसाद ने बुधवार को राज्यसभा में बिल पर चर्चा के दौरान स्पष्ट संकेत दिए कि आने वाले दिनों में ऐसे कदम और उठाए जा सकते हैं।
दरअसल, विपक्षी नेताओं के सवालों के जवाब देते हुए रविशंकर प्रसाद ने तृणमूल सांसद डेरेक ओ ब्रायन के क्रिकेट प्रेम की बात करते हुए कहा, उपसभापति जी क्रिकेट में छक्का स्लॉग ओवर में ही लगता है।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

*

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.