Tuesday , 17 September 2019
Top Headlines:
Home » India » ‘सफेद झंडा लाएं, शव ले जाएं’

‘सफेद झंडा लाएं, शव ले जाएं’

सेना ने पाक को कहा
नई दिल्ली (एजेंसी)। भारतीय सेना की कार्रवाई में मारे गए पाक आतंकियों के शव अब भी एलओसी पर पड़े हैं। भारतीय सेना ने पाक सेना को इन शवों को ले जाने का प्रस्ताव दिया है। भारत ने कहा है कि पाक सेना सफेद झंडे के साथ आकर अपने लोगों के शव ले जा सकती है। लेकिन पाकिस्तान की तरफ से इस संबंध में अभी तक कोई जवाब नहीं आया है। बता दें कि भारतीय सेना ने जम्मू-कश्मीर के केरन सेक्टर में फॉरवर्ड पोस्ट पर पाकिस्तानी सेना के बैट (बॉर्डर ऐक्शन टीम) के अटैक को नाकाम कर दिया था। इस दौरान सेना के जवाबी ऐक्शन में पाकिस्तान के कम से कम 5 से 7 सैनिक और आतंकवादी मारे गए थे।
फॉरवर्ड पोस्ट पर हमले की कोशिश कर रहे पाक सैनिकों और आतंकवादियों के शव अब भी एलओसी पर हैं। भारत ने कहा है कि पाकिस्तान की सेना चाहे तो सफेद झंडे के साथ आकर इन शवों को अंतिम क्रिया के लिए ले जा सकती है। सेना ने सबूत के तौर पर उनमें से 4 शवों की सैटलाइट तस्वीरें भी ली हैं। आधिकारिक सूत्रों के मुताबिक, पाकिस्तान की ओर से कश्मीर की शांति भंग करने की लगातार कोशिश की जा रही है और वह फायरिंग की आड़ में जैश-ए-मोहम्मद के आतंकियों की भारत में घुसपैठ कराने की फिराक में है।
रक्षा प्रवक्ता कर्नल राजेश कालिया ने बताया, कुपवाड़ा जिले के केरन सेक्टर की एक फॉरवर्ड पोस्ट पर बैट हमले की कोशिश को वहां मुस्तैद जवानों ने नाकाम कर दिया। इस दौरान जवाबी ऐक्शन में 5 से 7 पाकिस्तानी आतंकी मार दिए गए। सूत्रों ने बताया कि 31 जुलाई और 1 अगस्त की दरम्यानी रात पाकिस्तान की कुख्यात बॉर्डर ऐक्शन टीम ने घात लगाकर हमला किया था।
कर्नल कालिया ने बताया कि कम से कम चार शव पाकिस्तानी सेना के स्पेशल सर्विस ग्रुप (एसएसजी) के कमांडो के हो सकते हैं। वे भारतीय चौकी के करीब पहुंच चुके थे। इसके बाद पाकिस्तानी सैनिकों ने फायरिंग तेज कर दी ताकि भारतीय जवान आतंकियों के शवों को कब्जे में न ले सकें। सीमा पर सेना की कार्रवाई अब भी जारी है। पाकिस्तान ने भी अपनी तरफ एलओसी पर सामान्य से ज्यादा सैनिकों की तैनाती कर रखी है।
वहीं, पाकिस्तान ने एक बार फिर अपने ही सैनिकों को अपना मानने से इनकार कर दिया है। पाकिस्तान सेना के प्रवक्ता और डीजी आसिफ गफ्फूर ने कहा कि भारतीय सेना की ओर से पाकिस्तान आर्मी के जिन सैनिकों को मारने की बात कही जा रही है, वह महज एक दुष्प्रचार है। इस तरह की झूठी खबरें फैलाकर भारत कश्मीरियों के खिलाफ बढ़ रहे अत्याचार से दुनिया का ध्यान भटकाने की कोशिश कर रहा है।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

*