Tuesday , 18 December 2018
Top Headlines:
Home » Sports » विराट सेना की नजर इतिहास बदलने पर

विराट सेना की नजर इतिहास बदलने पर

पहला टेस्ट आज से : 15 साल से एडिलेड में नहीं जीता भारत
एडिलेड। विराट कोहली की अगुवाई में दुनिया की नंबर एक टेस्ट टीम भारत आस्ट्रेलियाई जमीन पर इतिहास रचने के लिये गुरूवार से अपने अभियान की शुरूआत करेगी जहां उसकी पहली परीक्षा मेजबान टीम के खिलाफ एडिलेड ओवल में होने वाला पहला टेस्ट मैच होगी।
भारत ने आस्ट्रेलिया में कभी भी टेस्ट सीरी•ा नहीं जीती है और दुनिया के नंबर एक टेस्ट बल्लेबा•ा विराट की अगुवाई में उसे पहली बार यहां इतिहास रचने का भरोसा है। आस्ट्रेलियाई टीम अपने मुख्य बल्लेबा•ाों स्टीवन स्मिथ, डेविड वार्नर और कैमरन बेनक्रॉफ्ट के निलंबन से जूझ रही है तो टीम प्रबंधन में चल रही उठापटक ने भी उसकी स्थिति कमजोर की है जिसने भारत के हौंसले और मजबूत किये हैं।
हालांकि आस्ट्रेलियाई खिलाड़ी और यहां की पिचें हमेशा ही भारतीय टीम के लिये अबूझ रही हैं और ट््वंटी 20 सीरीज में जिस तरह मेजबान टीम ने भारत को पहले मैच में हराया उसके बाद कहा जा सकता है कि मेजबान टीम को हल्के में लेना बड़ी भूल साबित हो सकती है। भारतीय टीम ने पिछले कुछ समय से चली आ रही परंपरा को आगे बढ़ाते हुये मैच की पूर्व संध्या पर अपनी 12 सदस्यीय टीम घोषित कर दी है जिसमें उसने पांच विशेषज्ञ गेंदबाज खेलाने की अपनी नीति बदली है।
भारतीय टीम में सीमित ओवर के विशेषज्ञ बल्लेबा•ा रोहित शर्मा और बल्लेबाजी ऑलराउंडर हनुमा विहारी को जगह दी गयी है। रोहित का 2014-15 में आस्ट्रेलिया दौरा बहुत खास नहीं रहा था लेकिन उनकी मौजूदा फार्म से वह अंतिम एकादश में जगह बना सके हैं और अभ्यास मैच में भी उन्होंने अच्छा प्रदर्शन किया था जबकि मध्यक्रम में इसी वर्ष टेस्ट पदार्पण करने वाले हनुमा को मौका मिला है।
(शेष पेज 8 पर)
आस्ट्रेलिया की उछाल भरी पिचें भारतीय बल्लेबाजों के लिये चुनौतीपूर्ण रह सकती हैं हालांकि तेज गेंदबाजों को यहां सफलता मिल सकती है और यही कारण है कि विपक्षी टीम भी अपने तेज गेंदबाजों मिशेल स्टार्क, जोश हेजलवुड और पैट कङ्क्षमस पर निर्भर दिख रही है। भारत हालांकि सात अनुभवी खिलाड़यिों के साथ उतर रही है जो आस्ट्रेलिया में पहले भी दौरों का हिस्सा रहे हैं जबकि आस्ट्रेलिया में केवल नाथन लियोन ऐसे खिलाड़ी अंतिम एकादश का हिस्सा हैं जो 2014-15 सीरीज में भारत के खिलाफ खेले थे। लेकिन आंकड़ों को देखें तो भारत ने आस्ट्रेलिया में कुल 44 टेस्टों मेंं अब तक पांच ही जीते हैं। भारत ने वर्ष 2003-04 में एडिलेड मैच जीता था और उम्मीद करनी होगी कि वह इस बार फिर यहां इसी जीत को दोहरा सके।
हम धीमी शुरूआत के ठप्पे को बदलना चाहेंगे: विराटएडिलेड। कप्तान विराट कोहली ने कहा है कि भारत विदेश दौरों में अपनी धीमी शुरूआत के लिये आलोचना झेलता रहा है लेकिन मौजूदा आस्ट्रेलिया दौरे में वह इस स्थिति को पूरी तरह बदलना चाहते हैं।
भारतीय कप्तान ने गुरूवार से शुरू हो रहे एडिलेड टेस्ट की पूर्व संध्या पर यहां संवाददाता सम्मेलन में कहा, भारत की शुरूआत विदेशी दौरों में धीमी रही है और इंग्लैंड तथा दक्षिण अफ्रीका के हालिया दौरों में भी ऐसा ही रहा था। लेकिन हमारी कोशिश मौजूदा दौरे में आस्ट्रेलिया की परिस्थितियों के अनुकूल खुद को जल्द ढालकर यहां अच्छी शुरूआत करने की रहेगी।
उन्होंने कहा, हम यहां हल्की फुल्की शुरूआत के बारे में नहीं सोच रहे हैं। हम सभी खिलाड़ी यहां सकारात्मक शुरूआत करना चाहते हैं और अपना खेल खुलकर दिखाना चाहते हैं। हम यहां अपना ए गेम खेलना चाहते हैं और वह भी पहले ही मैच और पहले ही दिन से जिससे आगे की सीरीज में भी हमें मदद मिलेगी। विराट ने कहा कि टीम परिस्थितियों के अनुकूल खुद को ढालने का इंतजार नहीं कर सकती है। उन्होंने कहा, हम इसमें समय नहीं गंवा सकते हैं कि यहां की पिच कैसी है हमें शुरूआत से इसे समझकर अपने खेल में बदलाव करने होंगे। हम ऐसा पिछले दो दौरों में नहीं कर सके हैं। लेकिन हम जब भी ऐसा करते हैं जीतते हैं। हमें सीरीज जीतने के लिये आगे इन बातों को ध्यान रखना होगा। हमें खेल में निरंतरता लानी होगी।
आस्ट्रेलियाई टीम इस बार स्टीवन स्मिथ और डेविड वार्नर की कमी से जूझ रही है जो निलंबित हैं और इससे भी भारत को आगामी सीरीज में फायदा मिल सकता है। हालांकि विराट ने इससे इंकार किया। उन्होंने कहा, आस्ट्रेलिया जिन भी खिलाडिय़ों के साथ खेलने उतरे वह कभी कमजोर नहीं है। हम उन्हें हल्के में नहीं ले सकते हैं चाहे उनके कितने ही अच्छे खिलाड़ी बाहर हों। हमें अपनी तरफ से अच्छा खेलना होगा।
(शेष पेज 8 पर)
सितंबर में पीठ में चोट के कारण बाहर चल रहे ऑलराउंडर हार्दिक पांड्या की अनुपस्थिति को हालांकि टीम के लिये बड़ा नुकसान बताया। उन्होंने कहा, हर टीम तेज गेंदबाजी ऑलराउंडर चाहती है और हार्दिक के चोटिल होने के कारण फिलहाल वह हमारे पास नहीं है। लेकिन उनकी अनुपस्थिति में बाकी खिलाड़ी स्थिति संभाल सकते हैं। हार्दिक का नहीं होना हमारे लिये नुकसान है लेकिन यह बड़ा मुद्दा नहीं है।
विराट ने आस्ट्रेलियाई ऑफ स्पिनर नाथन लियोन को भारतीय बल्लेबाजों के लिये बड़ा खतरा मानने से भी इंकार किया। कप्तान ने कहा, आखिरी बार हमने उनके खिलाफ खेला था और हमें उनके सामने सकारात्मक शुरूआत करनी होगी। वह इन परिस्थितियों में अच्छे गेंदबाज हैं। वह यहां की पिचें समझते हैं।
उन्होंने कहा, हमें हमारा गेंदबाजी क्रम मजबूत रखना होगा। हम किसी एक खिलाड़ी को खतरा नहीं मान रहे हैं। लेकिन हम किसी को कम भी नहीं समझ रहे। हमें हमारा गेम अच्छे से खेलना है।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

*

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.