Friday , 22 February 2019
Top Headlines:
Home » Sports » विराट-धोनी को अपनी टीम में चाहते हैं ऑस्ट्रेलियाई कोच

विराट-धोनी को अपनी टीम में चाहते हैं ऑस्ट्रेलियाई कोच

अभी भी कोहली से आगे हैं धोनी
एडिलेड (एजेंसी)। ऑस्ट्रेलियाई कोच जस्टिन लैंगर ने विराट कोहली की तुलना सचिन तेंदुलकर से की है। उन्होंने विराट की बल्लेबाजी में संतुलन को अविश्वसनीय बताया है। कोहली ने ऑस्ट्रेलिया के खिलाफ मंगलवार को खेले गए दूसरे वनडे मैच में 104 रनों की शतकीय पारी खेली। यह उनका वनडे में 39वां शतक है। उनकी शतकीय पारी की बदौलत भारत ने ऑस्ट्रेलिया के खिलाफ एडिलेड वनडे जीत कर सीरीज में 1-1 की बराबरी हासिल कर ली है।
मैच के बाद लैंगर से संवाददाता सम्मेलन में पूछा गया कि क्या कोहली का उन पर उसी तरह का प्रभाव है जिस तरह तेंदुलकर का था। लैंगर ने कहा कि भारतीय कप्तान का अंतरराष्ट्रीय क्रिकेट में अभी वही प्रभाव है, जो अपने जमाने में सचिन का हुआ करता था। लैंगर ने ऑस्ट्रेलिया की छह विकेट से हार के बाद कहा, मैं इन दोनों को अपनी टीम में रखना चाहूंगा। सचिन अविश्वसनीय क्रिकेटर थे। मैं उन्हें खेलते हुए देखता था और ऐसा लगता था कि जैसे वह ध्यानमग्न हैं। वह बेहद शांतचित्त होकर खेलते थे और इसलिए उनके रिकॉर्ड अद्वितीय हैं।
उन्होंने कहा, विराट भी यही काम कर रहे हैं। वह बल्लेबाजी में शांति से काम लेते हैं और बेहद प्रतिस्पर्धी हैं और तकनीकी तौर पर उनका संतुलन अविश्वसनीय है। खेल के सभी प्रारूपों में हर तरह का शॉट खेलना उनके लिए आसान काम है। भारत को इस मैच में जीत दिलाने में कोहली के साथ महेंद्र सिंह धोनी ने भी अहम योगदान दिया और आखिर तक खड़े रहकर टीम को जीत दिलाई।
लैंगर ने कहा कि ऑस्ट्रेलिया के युवा क्रिकेटरों के लिए यह फायदे की बात है कि उनका सामना कोहली और महेंद्र सिंह धोनी जैसे विश्वस्तरीय क्रिकेटरों से हो रहा है। उन्होंने कहा, वह (कोहली) कड़ा प्रतिस्पर्धी हैं और उनकी एकाग्रता अतुलनीय है। सचिन, विराट और धोनी ये सभी महानतम खिलाड़ी हैं। हमारे खिलाड़ी वनडे के सर्वश्रेष्ठ खिलाडिय़ों के खिलाफ खेल रहे हैं और इस अनुभव से वे बेहतर खिलाड़ी बनेंगे।एडिलेड (एजेंसी)। एडिलेड वनडे में आखिरकार भारत ने विराट कोहली और महेंद्र सिंह धोनी की सधी हुई पारियों के चलते सीरीज में बराबरी करते हुए छह विकेट से विजय पताका फहरा दी। विराट कोहली ने भले ही शतकीय पारी खेलकर भारत की जीत की आधारशिला रखी। लेकिन बावजूद इसके कोहली भारतीय विकेटकीपर महेंद्र सिंह धोनी को जीत का क्रैडिट देते हुए दिखे। वहीं, मैच के बाद सामने आए कुछ आंकड़े ने यह भी साबित कर दिया कि धोनी अभी भी दुनिया के बैस्ट फिनिशिर है। दरअसल लक्ष्य का पीछा करते वक्त महेंद्र सिंह धोनी की औसत 99.85 है जो कि कोहली से कुछ बेहतर है।धोनी ने बनाए हैं 111 मैचों में 2696 रन
धोनी ने 111 मैचों की 72 पारियों में लक्ष्य का पीछा करते हुए 99.85 की औसत से 2696 रन बनाए हैं। इस दौरान धोनी ने दो शतक तो 18 अर्धशतक भी लगाए। सबसे बड़ी बात यह रही कि धोनी 45 बार टीम को जिताकर नाबाद लौटे। उनका सर्वश्रेष्ठ नाबाद 183 रन का स्कोर भी लक्ष्य का पीछा करते के दौरान सामने आया था।
कोहली ने लक्ष्य का पीछा करते हुए 21 शतक लगाए
भारतीय कप्तान विराट कोहली महज 99.04 की औसत के साथ बैस्ट फिनिशयर की रेस में दूसरे नंबर पर बने हुए हैं। कोहली ने लक्ष्य का पीछा करते हुए 80 मैचों की 77 पारियों में 99.04 की औसत से 4853 रन बनाए है। सबसे बड़ी बात यह है कि विराट का सर्वश्रेष्ठ स्कोर भी धोनी की तरह 183 है। विराट ने इस दौरान 21 शतक और 19 अर्धशतक लगाए हैं।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

*

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.