Friday , 19 October 2018
Top Headlines:
Home » India » वायुसेना ने किया मारक क्षमता का प्रदर्शन

वायुसेना ने किया मारक क्षमता का प्रदर्शन

नई दिल्ली। दुनिया की चौथी सबसे बड़ी वायु सेना, भारतीय वायु सेना ने सोमवार को 86 वें स्थापना दिवस पर अपनी मारक क्षमता और हवाई कौशल का प्रदर्शन किया।
वायु सेना की स्थापना 8 अक्टूबर 1932 को हुई थी और इसके बाद से नये आयाम हासिल करते हुए 8 दशक से अधिक के सफर में उसने दुनिया भर में अपना अलग मुकाम हासिल किया है।
वायु सेना दिवस पर विभिन्न वायु सेना स्टेशनों पर विशेष आयोजन किये गये जबकि मुख्य समारोह राजधानी दिल्ली के निकट ङ्क्षहडन वायु सैनिक अड्डे पर किया गया। वायु सेना के लगभग सभी प्रमुख विमानों ने इस मौके पर अपने करतब दिखाते हुए आकाश में गर्जना कर अपनी ताकत का परिचय दिया।
राष्ट्रपति रामनाथ कोङ्क्षवद, उप राष्ट्रपति एम वेंकैया नायडू और प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी ने वायु सेना कर्मियों और उनके परिवारों को वायु सेना दिवस पर बधाई देते हुए कहा है कि देश को उन पर गर्व है।
वायु सेना प्रमुख एयर चीफ मार्शल बी एस धनोआ ने इस मौके पर भव्य परेड की सलामी ली। इस मौके पर वायु सेना के वरिष्ठ तथा सेवा निवृत अधिकारियों के साथ-साथ जाने-माने क्रिकेटर और मानद ग्रुप कैप्टन सचिन तेंदुलकर भी मौजूद थे।
एयर चीफ मार्शल धनोआ ने इस मौके पर कहा कि पिछले आठ दशकों में वायु सेना ने अत्याधुनिक प्रौद्योगिकी हासिल की है और वह देश की हवाई सीमाओं की रक्षा के लिए पूरी तरह तैयार है। वायु सेना राष्ट्रीय आपदाओं के समय भी आगे बढकर योगदान दे रही है। उन्होंने कहा कि वायु सेना अपने गौरवशाली इतिहास का स्मरण करते हुए अपने शूरवीरों को श्रद्धांजलि देती है।
उन्होंने कहा कि फ्रांस से खरीदे जाने वाले बहुउद्देशीय लड़ाकू विमान राफेल और रूस से खरीदी जाने वाली हवाई रक्षा प्रणाली एस-400 मिसाइलों से वायु सेना की ताकत बढेगी। उन्होंने देश को आश्वस्त किया कि भले ही वायु सेना के पास लड़ाकू विमानों के स्क्वैड्रन कम हो रहे हों लेकिन वह मौजूदा संसाधनों में भी किसी भी तरह की स्थिति का सामना करने में सक्षम है। वायु सेना ने एक साथ दो मोर्चों से निपटने के लिए विशेष रणनीति बना रखी है।
परेड के बाद वायु सेना के हेलिकॉप्टरों से लेकर मालवाहक विमानों और लड़ाकू विमानों ने अपने कौशल का परिचय देते हुए अपनी हवाई ताकत का प्रदर्शन किया। इनमें एमआई-17 वी 5 और रूद्र हेलिकॉप्टर, मालवाहक विमान सी -17 और सी-130 जे हरक्यूलिस, लड़ाकू विमान जगुआर, मिग-29, मिराज-2000 और सुखोई-30 शामिल हैं। आजादी के बाद 1947 में जम्मू कश्मीर में अपने दम खम का परिचय देने वाले पुराने विमान डकौटा के साथ साथ टाइगर मोथ और हारर्वड ने भी उडान भरी। इनसे पहले वायु सेना के छाताधारी सैनिकों की टीम आकाश गंगा ने मालवाहक विमान ए एन-32 से छलांग लगाते हुए साहसिक प्रदर्शन किया। ‘ब्रह्मोसÓ यूनिट से कथित आईएसआई एजेंट गिरफ्तार पाक को लीक की कई सूचनाएंनई दिल्ली। नागपुर से एक कथित आईएसआई एजेंट को गिरफ्तार किया गया है। निशांत अग्रवाल नाम का यह शख्स ब्रह्मोस की नागपुर यूनिट में काम कर रहा था। आरोप है कि ब्रह्मोस मिसाइल यूनिट में काम करते हुए उसने ब्रह्मोस संबंधी तकनीकी और अन्य खुफिया जानकारियां पाकिस्तान और अमेरिका को पहुंचाई हैं।
फिलहाल इस शख्स से पूछताछ की जा रही है। इसके साथ ही उसके बारे में और जानकारियां जुटाई जा रही हैं। यह भी पता लगाने की कोशिश की जा रही है कि उसने क्या-क्या सूचनाएं लीक की हैं।
कथित आईएसआई एजेंट को उत्तर प्रदेश एटीएस और सैन्य खुफिया अधिकारियों की संयुक्त कार्रवाई में गिरफ्तार किया गया है। बताया जा रहा है कि उसे ऑफिशियल सीक्रेट एक्ट के तहत पकड़ा गया है। खास बात यह है कि उसे 2017-18 का यंग साइंटिस्ट अवॉर्ड भी मिल चुका है।
सूत्रों से मिली जानकारी के अनुसार रविवार रात से ही एक टीम इस शख्स को ट्रैक करने की कोशिश में जुटी हुई थी, सोमवार को आखिरकार इसे पकड़ लिया गया। ब्रह्मोस एयरोस्पेस भारत और रूस का संयुक्त उपक्रम है। यह शख्स ब्रह्मोस एयरोस्पेस में सीनियर सिस्टम इंजीनियर है और यह हाइड्रोलिक-न्यूमेटिक्स और वारहेड इंटीग्रेशन (प्रोडक्शन डिपार्टमेंट) का नेतृत्व कर रहा था।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

*

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.