Monday , 22 October 2018
Top Headlines:
Home » Rajasthan » लिंचिंग केस : गृहमंत्री ने माना पुलिस हिरासत में हुई रकबर की मौत

लिंचिंग केस : गृहमंत्री ने माना पुलिस हिरासत में हुई रकबर की मौत

अलवर। गृहमंत्री गुलाब चंद कटारिया ने अलवर में हुई कथित मॉब लिंचिंग की घटना पर बड़ा बयान दिया है। गृहमंत्री ने माना है कि रकबर की मौत पुलिस हिरासत में हुई थी। इससे पहले शनिवार को अलवर में कथित गोरक्षकों की पिटाई के बाद रकबर की मौत की बात सामने आई थी। मंगलवार को अलवर में घटनास्थल का दौरा करने के बाद कटारिया ने इस मामले में न्यायिक जांच का आदेश दिया है।
कटारिया ने कहा, रकबर की मौत पुलिस हिरासत में हुई है। जो सबूत हमने इकट्ठा किए हैं, उससे लगता है कि रकबर की मौत पुलिस कस्टडी के दौरान हुई है। इस मामले में आगे की जांच जारी है। राज्य सरकार ने इस मामले की न्यायिक जांच कराने का फैसला लिया है। इसके साथ ही कटारिया ने दोषियों को सजा दिलाने का वादा किया और कहा कि किसी को किसी की जान लेने का कोई हक नहीं है।
कटारिया ने कहा, मैंने पीडि़त परिवारवालों से मुलाकात की है और उन्होंने मुझे बताया कि अब तक की कार्रवाई से वे लोग संतुष्ट हैं। मैंने उनसे कहा कि घटना के बारे में अगर वे कुछ और बताना चाहते हैं तो मुझसे कभी भी आकर मिल सकते हैं।
इसके साथ ही कटारिया ने राजस्थान सरकार में श्रम मंत्री जसवंत यादव के बयान से पल्ला झाड़ लिया। कटारिया ने कहा, अपने बयान पर जसवंत खुद जवाब दें। कानून किसी को किसी की जान लेने का हक नहीं देते। इस मामले में जो भी दोषी होगा, उसे सजा जरूर मिलेगी। बता दें कि मंत्री जसवंत यादव ने कहा था कि मॉब लिंचिंग रोकने के लिए मुस्लिमों को गो तस्करी बंद कर देनी चाहिए।
बता दें कि अलवर जिले के रामगढ़ इलाके के गांव लल्लावंडी में शुक्रवार रात कुछ स्थानीय लोगों ने रकबर नाम के एक शख्स को गो-तस्कर बताकर पीटना शुरू कर दिया। बाद में उसकी मौत हो गई। इस घटना की सूबे की मुख्यमंत्री वसुंधरा राजे से लेकर केंद्रीय मंत्री राज्यवर्धन सिंह राठौड़ तक ने कड़ी निंदा की थी। राजस्थान सरकार ने दोषियों पर कड़ी कार्रवाई करने का भरोसा भी दिलाया है। अब तक इस मामले में तीन लोगों की गिरफ्तारी हुई है।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

*

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.