Tuesday , 16 July 2019
Top Headlines:
Home » Business » रिजर्व बैंक ने घटाई ब्याज दर

रिजर्व बैंक ने घटाई ब्याज दर

घर-कार ऋण सस्ता होने की उम्मीद बढ़ी
मुंबई (कार्यालय संवाददाता)। रिजर्व बैंक ऑफ इंडिया (आरबीआई) ने ब्याज दरों में कटौती को लेकर बड़ा ऐलान किया है। गवर्नर शक्तिकांत दास की अध्यक्षता वाली मोनेटरी पॉलिसी कमेटी (एमपीसी) ने तकरीबन 18 महीने के बाद ब्याज दर में कटौती का फैसला किया है। छह सदस्यीय एमपीसी ने 4-2 के बहुमत के साथ रेपो रेट को 25 बेसिस प्वाइंट (.25′) तक कम करने पर सहमति जताई है। एमपीसी के फैसले से रेपो रेट अब 6.25′ हो जाएगा। इससे पहले यह 6.50′ था। रेपो रेट में पिछली बार अगस्त 2017 में कटौती की गई थी। बता दें कि रेपो रेट वह दर है, जिसपर आरबीआई बैंकों को लोन देता है। ऐसे में रेपो रेट में कटौती के ऐलान से बैंकों को कम ब्याज पर आरबीआई से पैसा मिल सकेगा। लिहाजा, आम लोगों को भी ब्याज दर में राहत मिलने की उम्मीद है। मालूम हो कि मोदी सरकार पिछले कई मौकों पर रिजर्व बैंक से ब्याज दर में कटौती करने की मांग कर चुकी है, ताकि मार्केट में अपेक्षाकृत आसानी से पैसा (क्रेडिट या लोन) मिल सके।
विकास अनुमान घटाया : रिजर्व बैंक (आरबीआई) ने वैश्विक मांग में सुस्ती और (शेष पेज 8 पर)किसान बिना गारंटी ले सकेंगे 1.6 लाख का ऋण
मुंबई (कार्यालय संवाददाता)। रिजर्व बैंक (आरबीआई) ने किसानों को बिना गारंटी मिलने वाले ऋण की अधिकतम सीमा एक लाख रूपये से बढ़ाकर एक लाख 60 हजार रूपये करने का फैसला किया है।
केंद्रीय बैंक की मौद्रिक नीति समिति की गुरूवार को समाप्त तीन दिवसीय छठी द्विमासिक बैठक के बाद विकास एवं नियामक नीतियों पर जारी बयान में यह बात कही गयी है। बयान में कहा गया है कि एक लाख रूपये तक बिना गारंटी के कृषि ऋण की सीमा वर्ष 2010 में तय की गयी थी। इस दौरान बढ़ी महंगाई और कृषि लागत के मद्देनजर इस सीमा को बढ़ाकर एक लाख 60 हजार रूपये करने का निर्णय लिया गया है।
आरबीआई ने बताया कि वह जल्द ही इस संदर्भ में एक सर्कुलर जारी करेगा। इससे औपचारिक ऋण प्रणाली में छोटे तथा सीमांत किसानों की भागीदारी बढ़ेगी।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

*