Tuesday , 18 June 2019
Top Headlines:
Home » Hot on The Web » ‘मिशन शक्ति’ से टेंशन में चीन-पाक

‘मिशन शक्ति’ से टेंशन में चीन-पाक

नई दिल्ली (एजेंसी)। भारतीय मिसाइल के बुधवार को प्रक्षेपण के तीन मिनट के भीतर ही लो अर्थ ऑर्बिट में एक सैटेलाइट को मार गिराने के साथ ही भारत भी अंतरिक्ष में मारक क्षमता हासिल करने वाले देशों की सूची में शामिल हो गया। अब तक ऐसी शक्ति केवल अमेरिका, रूस और चीन के पास थी। पुलवामा हमले के बाद एयर स्ट्राइक से बौखलाया पाकिस्तान अब भारत की इस उपलब्धि से और घबरा गया है। भारत के इस मिसाइल प्रक्षेपण के बाद पाक व इसके खास दोस्त ने अपने बयान में कहा कि भारत के मिशन शक्ति जैसे परीक्षण को देखना और उस पर नजर रखना अंतरराष्ट्रीय समुदाय की जिम्मेदारी है। पाक का कहना है कि युद्ध की तरफ जाने वाले इस कदम से बचना जरूरी है। वहीं चीन ने मिशन शक्ति को लेकर कहा कि उम्मीद है कि सभी देश अंतरिक्ष में शांति बनाए रखेंगे।
भारत का मिशन शक्ति अंतरिक्ष में देश की संपदा को सुरक्षित रखना है। भारत ने इस शक्ति को पाने के लिए खूब मेहनत की। अग्नि 5 मिसाइल के सफल परीक्षण के समय ही कई विशेषज्ञों ने यह संभावना जताई थी कि भारत के पास अंतरिक्ष में मार करने की क्षमता है। लेकिन, उस समय आधिकारिक रूप से इसकी पुष्टि नहीं की गई थी। साल 2007 में चीन ने जब अपने एक खराब पड़े मौसम उपग्रह को मार गिराया तब भारत की चिंता बढ़ गई थी। उस समय इसरो और डीआरडीओ ने संयुक्त रूप से ऐसी एक मिसाइल को विकसित करने की दिशा में अपने प्रयास तेज कर दिए थे।
दक्षिणी चीन सागर में बढ़ते अमेरिकी दखल और अपनी सामरिक क्षमता की वृद्धि के लिए चीन ने साल 2007 में इस क्षमता को प्राप्त किया था। अमेरिका का अधिकतर संचार सेटेलाइट के माध्यम से ही होता है। जिससे वह अंतरिक्ष में अमेरिकी सेटेलाइटों को निशाना बनाकर उसे हरा सकता है।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

*

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.