Thursday , 27 June 2019
Top Headlines:
Home » International » माल्या देश का पहला आर्थिक भगोड़ा घोषित

माल्या देश का पहला आर्थिक भगोड़ा घोषित

आर्थिक भगोड़ा कौन ?
जब्त होगी पूरी संपत्ति
नए अधिनियम के तहत जिसे आर्थिक भगोड़ा घोषित किया जाता है, उसकी सम्पत्ति तुरंत प्रभाव से जब्त कर ली जाती है। आर्थिक भगोड़ा वह होता है जिसके विरूद्ध सूचीबद्द अपराधों के लिए गिरफ्तारी का वारंट जारी किया गया होता है। साथ ही ऐसा व्यक्ति भारत को छोड़ चुका है, ताकि यहां हो रही आपराधिक कार्रवाई से बच सके या वह विदेश में हो और इस कार्रवाई से बचने के लिए भारत आने से मना कर रहा है। इस अध्यादेश के तहत 100 करोड़ रूपये से ज्यादा के धोखाधड़ी, चेक अनादर और लोन डिफाल्ट के मामले आते हैं।मुंबई (एजेंसी)। भगोड़ा आर्थिक अपराधी अधिनियम (एफईओए) के तहत विजय माल्या का नाम देश के पहले भगोड़े आर्थिक अपराधी के रूप में दर्ज हो गया। इस कानून में जांच एजेंसियों को एफईओए के तहत दर्ज अपराधी की सारी संपत्तियां जब्त करने का अधिकार है। अब कर्नाटक, इंग्लैंड और अन्य जगहों की विजय माल्या से जुड़ी संपत्तियां ईडी कुर्क कर सकता है।
इससे पहले ईडी के वकील और वरिष्ठ अधिवक्ता हितेन वेनगांवकर ने बताया कि एफईओए नया कानून है और काफी सख्त भी। इस कानून के दायरे में जांच एजेंसियां विजय माल्या की सभी प्रॉपर्टी जब्त कर सकती हैं। ये प्रॉपर्टी चाहे अपराध क्षेत्र के अंदर हों या बाहर, उससे फर्क नहीं पड़ता। आर्थिक भगोड़ा घोषित होने पर माल्या को ब्रिटेन से प्रत्यर्पित करने में भी मदद मिलेगी। स्पेशल कोर्ट माल्या की सभी अर्जियां पहले ही खारिज कर चुका है।
पीएमएलए कोर्ट ने भगोड़ा आर्थिक अपराधी अधिनियम (एफईओए) के तहत माल्या के खिलाफ अपना फैसला सुनाया। इस कानून के मुताबिक जो व्यक्ति अपराध करने के बाद देश छोड़ गया हो और जांच के लिए कोर्ट में हाजिर न हो रहा हो, जिसके खिलाफ गैर-जमानती वॉरंट जारी हो चुका हो लेकिन विदेश भागने के कारण वह हाजिर न हो रहा हो, उसे भगोड़ा आर्थिक अपराधी ठहराया जा सकता है।
मार्च 2016 में ब्रिटेन भाग गए विजय माल्या पर कई बैंकों के 9000 करोड़ रूपए गबन करने का आरोप है। बैंकों का कर्ज न चुकाने के मामले में वे भारत में वांछित हैं। माल्या ने बंबई हाई कोर्ट के फैसले को शीर्ष अदालत में चुनौती दी है। हाई कोर्ट ने हाल ही में मनी लॉन्ड्रिंग मामलों की विशेष अदालत में माल्या को (शेष पेज 8 पर)’माल्या के खिलाफ फैसला सरकार की जीतÓ
नयी दिल्ली (एजेंसी)। भारतीय जनता पार्टी ने बैंकों के हजारों करोड़ रूपये के देनदार विजय माल्या को मुंबई की एक विशेष अदालत द्वारा शनिवार को भगोड़ा आर्थिक अपराधी घोषित किये जाने को भ्रष्टाचार के खिलाफ मोदी सरकार की लड़ाई की बड़ी जीत बताया है।
भाजपा के प्रवक्ता संबित पात्रा ने यहां संवाददाता सम्मेलन में कहा कि सरकार ने पिछले वर्ष जुलाई में भगोड़ा आर्थिक अपराधी कानून बनाया था और माल्या इसके तहत पहला आर्थिक अपराधी घोषित हुआ है। उन्होंने कहा कि माल्या बैंकों का 9000 करोड़ रूपये का घोटाला कर विदेश भाग गया था जिसके खिलाफ (शेष पेज 8 पर)

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

*

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.