Saturday , 20 October 2018
Top Headlines:
Home » Political » भाजपा अध्यक्ष गरजे- दुर्गा पूजा रोकी तो ईंट से ईंट बजा देंगे

भाजपा अध्यक्ष गरजे- दुर्गा पूजा रोकी तो ईंट से ईंट बजा देंगे

‘भाजपा के लिए पहले देश, वोटबैंक बाद में’

कोलकाता। एनआरसी के मुद्दे पर हंगामे के बाद भाजपा अध्यक्ष अमित शाह ने पहली बार कोलकाता में रैली की। इस दौरान अमित शाह ने पश्चिम बंगाल की मुख्यमंत्री ममता बनर्जी पर हमला बोलने में कोई कसर नहीं छोड़ी। शाह ने रैली में बांग्लादेशी घुसपैठियों का मुद्दा भी उठाया। शाह ने कहा कि बांग्लादेशी घुसपैठिए ममता बनर्जी का वोटबैंक हैं, इसीलिए उनकी पार्टी एनआरसी का विरोध कर रही है। शाह ने राज्य सरकार पर आरोप लगाया कि भाजपा की आवाज जनता तक न पहुंचे इसलिए सरकार ने बंगाली चैनलों को भी बंद करा दिया। भाजपा अध्यक्ष ने कोलकाता में भाजपा विरोधी पोस्टरों का भी जिक्र करते हुए कहा कि भाजपा बंगाल विरोधी नहीं हो सकती, भाजपा के संस्थापक खुद बंगाली थे, लेकिन भाजपा ममता विरोधी जरूर है।
भाजपा अध्यक्ष ने टीएमसी को एनआरसी के मुद्दे पर जमकर घेरा। उन्होंने कहा, संसद के अंदर नैशनल रजिस्टर ऑफ सिटिजन (एनआरसी) पर चर्चा हो रही थी। ममता दीदी ने एनआरसी पर विरोध करने का काम किया। असम के अंदर से विदेशी घुसपैठियों को चुन-चुनकर बाहर निकालने की प्रक्रिया एनआरसी है। एनआरसी ममताजी आपके रोकने से नहीं रूकेगी। असम के अंदर एनआरसी की प्रक्रिया को हम न्यायिक तरीके से समाप्त करेंगे।
ममता ने की थी घुसपैठियों को निकालने की मांग
शाह ने कहा, एक समय था जब ये बांग्लादेशी घुसपैठिए कम्युनिस्ट पार्टी का वोटबैंक थे। उस समय ममता बनर्जी ने लोकसभा में हंगामा किया और बांग्लादेशी घुसपैठियों को वापस भेजने की मांग की, लेकिन अब वही बांग्लादेशी घुसपैठिए टीएमसी का वोटबैंक बन गए हैं। ममताजी, कांग्रेस पार्टी के अध्यक्ष यह स्पष्ट करें कि आप देश को आगे रखते हो या वोटबैंक को आगे रखते हो। असम अकॉर्ड को राजीव गांधी ने बनाया। उस समय कांग्रेस को कोई दिक्कत नहीं थी, लेकिन आज वोटबैंक के चक्कर में राहुल गांधी अपना मत स्पष्ट नहीं करते। शाह ने जनता से पूछा कि बंगाल के अंदर जो बम धमाके होते हैं, वह बांग्लादेशी घुसपैठिए करते हैं या नहीं करते हैं..। इसके बाद उन्होंने कहा कि ममता बनर्जी यह भ्रांति फैला रही हैं कि एनआरसी के तहत शरणार्थी भी चले जाएंगे, लेकिन मैं आश्वस्त करना चाहता हूं कि शरणार्थियों को वापस भेजने का कोई कार्यक्रम नहीं है। शरणार्थियों को यहां रखना भारत सरकार की जिम्मेदारी है।
बम पिस्टल के कारखाने बढ़ रहे
भारतीय जनता पार्टी के राष्ट्रीय अध्यक्ष ने कहा, ममताजी स्पष्ट करें कि जब सिटिजनशिप अमेंडमेंट आएगा तो वह समर्थन करेंगी या नहीं। ये घुसपैठिए जो हिंदू, मुस्लिम समेत अन्य वर्गों का हक छीन रहे हैं क्या इन्हें नहीं हटाना चाहिए। एक ऐसी प्रचंड ताकत खड़ी कीजिए कि एनआरसी का समर्थन करना पड़े। जब से तृणमूल कांग्रेस की सरकार आई है नारदा, शारदा, रोज वेली, भतीजे का भ्रष्टाचार…भ्रष्टाचार की एक सीरीज बनती चली गई। भ्रष्टाचार से यदि पश्चिम बंगाल को मुक्त करना है तो यदि नरेंद्र मोदी की सरकार बनाएंगे तभी मुक्ति मिल सकती है। पहले जो बंगाल के अंदर रवींद्रनाथ का संगीत सुनाई पड़ता था, चैतन्य महाप्रभु का कीर्तन सुनाई पड़ता था, आज वहां बम धमाकों की आवाजें सुनाई पड़ती हैं। टीएमसी शासन में बम और पिस्टल बनाने के कारखाने बढ़ रहे हैं।
‘डंके की चोट पर होगा दुर्गा विसर्जनÓ
अमित शाह ने बेहद तल्खी भरे अंदाज में कहा कि टीएमसी के शासन में मां दुर्गा की प्रतिमा का विसर्जन नहीं करने देते, स्कूलों में सरस्वती पूजा बंद कर दी गई। शाह ने कहा, हमारी सरकार बनने पर डंके की चोट पर दुर्गा प्रतिमा का विसर्जन होगा, डंके की चोट पर स्कूलों में सरस्वती पूजा होगी। शाह ने कहा कि यदि ममता बनर्जी ने फिर से विसर्जन रोकने की कोशिश की तो भारतीय जनता पार्टी का कार्यकर्ता ईंट से ईंट बजा देगा। (शेष पेज 8 पर) ममता के गढ़ में जमकर बरसे शाहटीएमसी का शाह को 72 घंटे का अल्टीमेटम
नई दिल्ली। भाजपा अध्यक्ष अमित शाह ने शनिवार को कोलकाता में एक रैली को संबोधित किया। तो इसके तुरंत बाद ही टीएमसी ने अमित शाह को 72 घंटे का अल्टीमेटम देते हुए माफी मांगने को कहा है। बता दें कि अपनी रैली में अमित शाह ने बंगाल से टीएमसी को उखाड़ फेंकने की बात कही थी। एनआरसी की चर्चा करते हुए अमित शाह ने कहा था कि बांग्लादेशी घुसपैठियों की वजह ममता बनर्जी हैं। उन्होंने कहा कि ममता बनर्जी इसलिए एनआरसी का विरोध कर रही हैं क्योंकि घुसपैठिए तृणमूल कांग्रेस का वोट बैंक हैं।
ऐसे में टीएमसी नेता डेरेक ओ ब्रायन ने उनके इस बयान का पलटवार करते हुए कहा कि अमित शाह बंगाल की संस्कृति नहीं जानते। जो कुछ भी उन्होंने कहा है वो बंगालियों का अपमान है। उन्होंने अमित शाह की रैली को फ्लॉप बताते हुए उन्हें माफी मांगने का अल्टीमेटम दे डाला है। डेरेक ने शाह को माफी मांगने के लिए मात्र 72 घंटे की मोहलत दी है।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

*

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.