Saturday , 21 September 2019
Top Headlines:
Home » Hot on The Web » फ्लोर टेस्ट टला, विस कार्रवाई स्थगित

फ्लोर टेस्ट टला, विस कार्रवाई स्थगित

विरोध में रात भर धरने पर बैठे भाजपा विधायक
बेंगलुरू (एजेंसी)। कर्नाटक के मुख्यमंत्री एचडी कुमारस्वामी को विधानसभा में विश्वास मत साबित करने के लिए एक दिन का वक्त और मिल गया है। विधानसभा में गुरुवार को विश्वास मत पर साढ़े सात घंटे चली बहस के बाद स्पीकर रमेश कुमार ने सदन की कार्यवाही शुक्रवार तक के लिए स्थगित कर दी। बहस के दौरान सदन से अनुपस्थित कांग्रेस विधायक श्रीमंत पाटिल का मुद्दा उठा। कांग्रेस ने आरोप लगाया कि भाजपा ने हमारे विधायक को अगवा कर लिया। उधर, विश्वास मत पर सत्ता पक्ष के भाषणों पर भाजपा ने सवाल उठाया। बीएस येदियुरप्पा ने कहा कि स्पीकर रमेश कुमार विश्वास मत को टालना चाहते हैं। विधायकों ने इस संबंध में राज्यपाल वजूभाई वाला को ज्ञापन भी सौंपा। राज्यपाल ने स्पीकर से कहा कि वे आज ही विश्वास मत कराए जाने पर विचार करें। कार्यवाही स्थगित होने के बाद भाजपा विधायकों ने रातभर सदन में ही धरना देने का फैसला किया। बागी विधायक मुंबई से नहीं लौटे
विधानसभा की कार्यवाही 11 बजे शुरू हुई। इस दौरान कुमारस्वामी को विश्वास मत साबित करना था। सत्ता पक्ष के भाषणों के दौरान भाजपा विधायकों ने सवाल उठाया कि इतने लंबे-लंबे भाषण किसलिए दिए जा रहे हैं। इस तरह के भाषण तो चुनावी रैलियों में दिए जाते हैं। भाजपा का आरोप था कि राज्यपाल खुद विश्वास मत को टालना चाहते हैं। वे अल्पमत की सरकार चलते रहने देना चाहते हैं। 5 विधायक सदन से गैर-हाजिर रहे
विश्वास मत के दौरान सदन से 5 विधायक गैर-हाजिर रहे। इनमें 2 कांग्रेस, 1 बसपा और और 2 निर्दलीय विधायक थे। 15 गैर-हाजिर, 15 बागी विधायकों के अलावा स्पीकर को हटाकर सदन की संख्या 203 हो गई। इस स्थिति में बहुमत साबित करने का आंकड़ा 102 हो गया। लेकिन, कांग्रेस-जेडीएस के पास 116 के मुकाबले विधायकों का आंकड़ा 98 रह गया था, जबकि भाजपा के पास 105। कांग्रेस विधायक की अनुपस्थिति पर हंगामा
कांग्रेस ने अपने विधायक श्रीमंत पाटिल की अनुपस्थिति पर सवाल उठाया। दरअसल, पाटिल ने अस्वस्थ होने और इलाज के लिए मुंबई जाने से संबंधित पत्र स्पीकर को सौंपा था। कर्नाटक कांग्रेस अध्यक्ष दिनेश गुंडु राव ने कहा- जिस रिजॉर्ट में हमने अपने विधायकों को ठहराया, वहां पास ही अस्पताल है। ऐसे में मुंबई क्यों गए? कांग्रेस ने आरोप लगाया कि भाजपा ने हमारे एक विधायक को अगवा कर लिया। इसके कुछ ही देर बाद पाटिल की मुंबई के एक अस्पताल में इलाज कराते हुए तस्वीरें सामने आईं। राज्यपाल ने स्पीकर को विश्वास मत पर विचार को कहा
विश्वास मत साबित करने में देरी को देखते हुए भाजपा के एक प्रतिनिधिमंडल ने राज्यपाल वजूभाई वाला से मुलाकात की। उन्होंने राज्यपाल से अपील की कि विश्वास मत गुरुवार को ही साबित किया जाए। सदन में भी येदियुरप्पा ने कहा कि भले ही रात में 12 बज जाएं, लेकिन कुमारस्वामी को विश्वास मत आज ही साबित करना चाहिए। राज्यपाल ने स्पीकर से कहा कि वे शुक्रवार को ही विश्वास मत कराए जाने पर विचार करें। सदन में ही धरने पर भाजपा विधायक
करीब साढ़े सात घंटे की बहस और आरोपों-प्रत्यारोपों के दौरान के बाद स्पीकर ने सदन की कार्यवाही शुक्रवार तक के लिए स्थगित कर दी। इसके बाद भाजपा विधायकों ने विरोध स्वरूप सदन में ही धरना शुरू कर दिया। उन्होंने कहा कि वे रात विधानसभा के भीतर ही बिताएंगे।विस सत्र के बाद शिक्षकों के तबादले
जयपुर (कार्यालय संवाददाता)। शिक्षा राज्यमंत्री गोविन्द ङ्क्षसह डोटासरा ने गुरूवार को विधानसभा में कहा कि विधानसभा सत्र के समाप्ति के बाद शिक्षकों के तबादले की प्रक्रिया शुरू करने के साथ ही पूर्व में राजनीतिक आधार पर दुर्भावनावश किए गए तबादलों से प्रताडि़त शिक्षकों के साथ न्याय किया जायेगा। डोटासरा प्रश्नकाल में विधायक द्वारा पूछे गए पूरक प्रश्नों का उत्तर दे रहे थे। उन्होंने कि पूर्व में देवली उनियारा विधानसभा क्षेत्र में 20 ङ्क्षप्रसिपल के तबादलों में 7 प्रधानाध्यापक के तबादले प्रशासनिक एवं राज्यादेश द्वारा किए गए थे। उन्होंने कहा कि अलीगढ़ कस्बे में ङ्क्षप्रसिपल के हुए तबादले पर पुलिसकर्मियों द्वारा प्रधानाध्यापक एवं छात्राओं के साथ मारपीट की गई थी। उन्होंने कहा कि इस प्रकरण को दिखाया गया है। उन्होंने सदन को आश्वस्त किया कि संबंधित पक्ष को न्याय दिलाया जाएगा।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

*