Friday , 16 November 2018
Top Headlines:
Home » Udaipur » पर घर पग नी मैळणों, वना मान मनवार : पार्षद

पर घर पग नी मैळणों, वना मान मनवार : पार्षद

मेले का झमेलापार्षद हुए एकजुट
बिना निमंत्रण नहीं जाएंगे पार्षद मेले में
संगठन के पदाधिकारी भी ओढ़ेे चुप्पी की चादर
उदयपुर। मेवाड़ के महान लोक संत बावजी चतरसिंह ने कहा था कि ”पर घर पग नी मैलणों, वना मान मनवार, अंजन आवे देख ने, सिंगल रो सत्कार।ÓÓ निगम के पार्षद भी बावजी के इसी दोहे को आगे रखकर चल रहे है और मेले का अघोषित बहिष्कार कर रखा है। मेले की वर्र्तमान व्यवस्था से एकजुट हुए पार्षदों का कहना है कि बिना निमंत्रण के मेले में जाने का कोई औचित्य नहीं है। रविवार से शुरू हुए इस मेले में जो भी घटनाक्रम चल रहा है, उस पर अब महापौर भी कन्नी काटने लगे और भाजपा संगठन के पदाधिकारी भी कुछ भी कहने से इंकार कर रहे है।
निगम में रविवार से प्रति वर्ष आयोजित होने वाला दशहरा-दीपावली मेला शुरू हुआ था। मेले के पहले ही दिन आचार संहिता का हवाला देते हुए राजनीतिक व्यक्तियों की वीआईपी दीर्घा में घुसने पर बैन लगा दिया था और बैनर लगा दिया है। निगम के मेले का पहले ही पास और निमंत्रण पत्र नहीं मिलने पर पार्षदों ने मेले का बहिष्कार करने का निर्णय ले रखा था और रविवार से इसका पालन करना भी शुरू कर दिया। एक भी पार्षद इस मेले में नहीं आया और दूरी बनाए रखी।
इधर मेले के बहिष्कार को अधिकारिक रूप से नकारते हुए भाजपा पार्षदों ने बातों ही बातों में बताया कि मेले में जब ‘हमारा मान-सम्मानÓ ही नहीं तो मेले में जाकर क्या करना है। एक पार्षद ने बावजी चतरसिंह के दोहे को सुना दिया। पार्षदों का कहना है होना यह चाहिए था कि व्यवस्था पहले की तरह ही बनी रहती और एक भी जनप्रतिनिधि स्टेज पर नहीं जाता। पार्षदों को पूरा मान-सम्मान दिया जाता। इधर रविवार को निगम में लगे बैनरों पर ऐतराज जताने वाले महापौर चन्द्रसिंह कोठारी ने इस मामले में उच्चाधिकारियों से बात करने का आश्वासन दिया था, परन्तु सोमवार को उन्होंने इस संदर्भ में बात नहीं की। महापौर कोठारी ने फोन ही रिसीव नहीं किया और चुप्पी साधे बैठे रहे। इधर पार्षदों का कहना है कि भाजपा संगठन भी इस मामले में चुप्पी साधे बैठा है, जो पार्षदों को अखर रहा है।
सारी व्यवस्थाएं हमने की, पर मान ही नहीं
इस संबंध में एक पार्षद से बात करने पर उसने बताया कि मेले को लेकर सारी व्यवस्थाएं पार्षदों ने की थी। जिसमें कलाकारों को बुलाने से लेकर, निगम में लाईटिंग, साज-सज्जा, टेंट, मंच और मेले में दुकानों अस्थाई नीलामी का काम भी पार्षदों ने किया था, आखिर में मेला अधिकारियों के हाथों में चला गया और अब पार्षदों की पूछ परख ही नहीं है।
दूसरे दिन भी नहीं रही मेले में भीड़
मेले में दूसरे दिन भी भीड़ नहीं थी। मेले में दूसरे दिन भी सांस्कृतिक प्रस्तुतियां हुई थी, उसे देखने के लिए जो बच्चे प्रस्तुति दे रहे थे, उनके परिजन या रिश्तेदार ही आए। इसके अलावा निगम के कर्मचारी ही थे। हालांकि मेले में तीसरे दिन जब बाहर से कलाकार आते है, तभी शहरवासी उमड़ते है।उदयपुर। नगर निगम दीपावली मेला 2018 के दूसरे दिन भी स्मार्ट सिटी उदयपुर की प्रतिभाओं ने दर्शकों को झूमने पर मजबूर कर दिया। स्थानीय प्रतिभाओं की प्रस्तुति देखकर उपस्थित दर्शक मंत्रमुग्ध होकर कहने लगे कि उदयपुर केवल स्मार्ट सिटी ही नहीं है बल्कि प्रतिभाओं से भरी सिटी भी है।
मेला अधिकारी भोज कुमार ने बताया कि दीपावली मेले के दूसरे दिन की शुरुआत हीर सिसोदिया द्वारा प्रसिद्ध राजस्थानी गीत ‘धरती धोरा रीÓ के नृत्य से प्रारंभ हुआ। इसके बाद अनवरत एक से बढ़कर एक प्रतिभाओं ने अपना उत्कृष्ट प्रदर्शन करते हुए दर्शकों की खूब वाहवाही लूटी। उपस्थित दर्शकों ने भी स्थानीय प्रतिभागियों का खूब उत्साहवर्धन किया।
मेला अधिकारी ने बताया कि एक तरफ सांस्कृतिक कार्यक्रम तो दूसरी ओर मेले में दिन से देर रात तक खरीदारों की खूब भीड़ रही। मेले में आने वाले लोगों ने जमकर खरीदारी की, झूलों का आनंद लिया, मौसम में हल्की गुलाबी ठंडक ने मेले का मजा और बढ़ा दिया है जिससे मेले में बिकने वाले गर्म व्यंजनों की मांग बढ़ गई है।
परिवार सहित पहुंचे शहरवासी
शाम ढलते ही शहरवासी परिवार के साथ मेले में घूमने पहुंचना शुरू हो गए, इनके आने का क्रम रात तक जारी रहा। मेला स्थल पर चकरी- डोलर में युवक-युवतियों व युवाओं ने झूलने का आनंद लिया, वहीं बच्चों ने छोटे झूलों में जुल कर मनोरंजन किया। महिलाओं ने मेला स्थल पर लगी मनिहारी, सजावट की सामग्री की दुकानों में खरीदारी की। गर्म पकोडियो, चाट, पाव भाजी की दुकानों पर ग्राहकों की कतारें देखी गई। मेले में शहरवासियों के साथ साथ आसपास के गांव के लोग भी घूमने पहुंचे।प्रसिद्ध गायक कलाकार दर्शन रावल आज बिखेरेंगे अपना जलवा
दीपावली मेले के तीसरे दिन प्रसिद्ध गायक एवं ‘मुझे खोने के बाद एक दिन तुम मुझे याद करोगेÓ फेम दर्शन रावल अपना जलवा बिखेरेंगे। युवा दिलों की धड़कन रावल प्रसिद्ध गायक कलाकार हैं अपनी गायिकी की विशेष अदाओ से दर्शन रावल ने युवाओं के दिल में अपनी अलग जगह बनाई है।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

*

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.