Saturday , 19 October 2019
Top Headlines:
Home » Hot on The Web » निर्मला का कठोर ‘बही खाता’

निर्मला का कठोर ‘बही खाता’

पेट्रोल-डीजल क्व 2.50 तक महंगा
महगाई
देश की अधिकांश परिवहन व्यवस्था डीजल वाहनों पर निर्भर है। डीजल की कीमत बढऩे
से परिवहन लागत बढ़ेगी, जिससे देश में महंगाई की मार आम जन पर पडऩा तय है…
नई दिल्ली (एजेंसी)। मोदी सरकार ने बजट में गरीब, किसान तथा ग्रामीण क्षेत्र को सौगात दी है और सुस्त पड़ी अर्थव्यवस्था को गति देने के लिए घरेलू तथा विदेशी निवेश बढ़ाने का ऐलान किया है। उम्मीद के विपरीत मध्यम आयकरदाताओं को कोई राहत नहीं दी गयी है जबकि अमीरों पर कर बढ़ाया है।
वित्त मंत्री निर्मला सीतारमण ने शुक्रवार को संसद में मोदी सरकार के दूसरे कार्यकाल का पहला बजट पेश किया। वर्ष 2019-20 के बजट में देश की विकास गति को फिर से पटरी पर लाने और 2025 तक 50 खरब डॉलर की अर्थव्यवस्था बनाने के लक्ष्य को हासिल करने के लिए बड़े स्तर पर ढांचागत निवेश और कल्याणकारी कार्यों के लिए संसाधन जुटाने के उद्देश्य से पेट्रोल और डीजल पर 2-2 रूपये प्रति लीटर कर बढ़ाया गया है।
शेयर बाजार को बजट रास नहीं आया और सेंसेक्स 0.99 प्रतिशत तथा निफ्टी 1.14 प्रतिशत टूटकर एक सप्ताह के निचले स्तर पर आ गया।
बजट में गांव, गरीब, किसान के जीवन स्तर को ऊंचा उठाने के लिए कई ऐलान किये गये हैं जबकि मध्यम वर्ग के वेतनभोगियों को किसी प्रकार की रियायत नहीं मिलने से खासी निराशा हुई है। अलबत्ता अमीरों पर कर बढ़ाया गया है।
45 लाख रूपये तक का मकान खरीदने वालों को आवास ऋण के ब्याज पर आयकर में दी जाने वाली छूट की सीमा भी बढ़ायी गयी है। अगले साल 31 मार्च तक मकान खरीदने वालों को 1.5 लाख रूपये तक की अतिरिक्त आयकर छूट की घोषणा की गयी है। इस तरह के मकानों के लिए 2 लाख रूपये तक की आयकर छूट की व्यवस्था पहले से है जिसे बरकरार रखा गया है।
पेट्रोल और डीजल पर एक-एक रूपये प्रति लीटर का उत्पाद शुल्क बढ़ाने के साथ ही इतनी ही राशि का भार ढांचागत विकास की मद में बढ़ाने का ऐलान किया है। इससे दोनों ईंधनों की कीमत शनिवार से दो-दो रूपये प्रति लीटर बढ़ जायेगी। सोना-चांदी और अन्य बेशकीमती धातुओं, काजू, पुस्तकों, ऑप्टिकल फाइबर केबल पर आयात शुल्क बढ़ाने से ये उत्पाद भी महंगे होंगे।
एयरकंडीशन, लाउडस्पीकर, वीडियो रिकॉर्डर, सीसीटीवी कैमरा, वाहन के हॉर्न, तंबाकू सिगरेट और मोबाइल के पाटर्स भी शुल्क बढ़ाने से महंगे होंगे। आयातित डिजिटल कैमरा, पूर्ण रूप से आयातित कार, साबुन बनाने के काम में आने वाला कच्चा माल, आयातित स्टैनलैस स्टील उत्पाद, न्यूजङ्क्षप्रट और मोबाइल फोन चार्जर आदि भी महंगे हो जायेंगे।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

*