Thursday , 13 December 2018
Top Headlines:
Home » Udaipur » नकली सोना बेचने वाले गिरोह का पर्दाफाश, 5 गिरफ्तार

नकली सोना बेचने वाले गिरोह का पर्दाफाश, 5 गिरफ्तार

अब तक आधा दर्जन से भी अधिक वारदातें कुबूली
उदयपुर। शहर के समीप परसाद थाना पुलिस ने गत दिनों एक होटल व्यवसायी को पीतल को खुदाई में मिला सोना होना बताकर एक लाख रूपए की ठगी करने में पांच आरोपियों को गिरफ्तार किया है। आरोपियों ने अब तक आधा दर्जन से अधिक इसी तरह की वारदातें करना स्वीकार किया है।
जिला पुलिस अधीक्षक कुँवर राष्ट्रदीप ने बताया कि जिले में विशेष आपराधिक गिरोह और ठगी करने वाले गिरोह के खिलाफ अतिरिक्त पुलिस अधीक्षक ग्रामीण नारायणसिंह राजपुरोहित, डिप्टी मोटाराम के निर्देशन में एक अभियान चलाया जा रहा है। इस अभियान के दौरान ही परसाद थाना क्षेेत्र में चंपालाल पुत्र शंकरलाल कलाल निवासी परसाद की होटल पर पांच युवकों ने उससे एक लाख रूपए लेकर नकली सोना देने की वारदात सामने आई। जिसमें पांचों युवकों ने होटल में चाय पीने के दौरान उसे एक चांदी का सिक्का बेचा। दूसरे दिन आरोपी फिर आए और सोने के टुकड़े दिए। इस पर उसने इस सोने के टुकड़ों की जांच करवाई तो वह भी सहीं निकला। इस दौरान आरोपियों ने चंपालाल को बताया कि वे जहां पर खुदाई करने का काम करते थे, वहां पर सोने की ईंटे निकली थी, जिसे वह बेचना चाहते है। तीनों के पूर्व में असली सोना और असली चांदी देने के कारण चंपालाल को इन आरोपियों पर विश्वास हो गया और उसने एक लाख रूपए देकर सोने की आधा किलो सोने की ईंट खरीद ली। बाद में जांच करवाई तो वह नकली निकली।
इस पर पुलिस अधीक्षक के निर्देश पर थानाधिकारी देवेन्द्रसिंह के नेतृत्व में कांस्टेबल मांगीलाल, अमिनलाल, अशोक कुमार, राजकुमार, चंदूलाल, ईश्वरसिंह के साथ-साथ थानाधिकारी सराड़ा रतनसिंह और कांस्टेबल ईश्वरसिंह की टीम का गठन किया। इस टीम ने साईबर सैल उदयपुर के गजराज और लोकेश रायकवाल की मदद से आरोपियों का पता लगाया। पुलिस ने आरोपियों की लोकेशन का पता लगाकर इस प्रकरण में पांच आरोपी वजाराम पुत्र दुर्गाराम वागरी, पूरण पुत्र हिरालाल वागरी, मानाराम पुत्र हिराराम वागरी, प्रकाश उर्फ पकिया, गिरोह का सरगना मानाराम पुत्र हाजाराम वागरी निवासी जालौर को गिरफ्तार किया। आरोपियों ने ठगी करना स्वीकार कर लिया। थानाधिकारी देवेन्द्रसिंह ने बताया कि आरोपियों ने अब तक गुजरात में डिसा, पालनपुर, सूरत, भुज, मुम्बई, जोधपुर, बालोतरा और परसाद में इस तरह से वारदात करना स्वीकार किया है। आरोपियों से पूछताछ की जा रही हैं।
ऐसे करते है ठगी : थानाधिकारी देवेन्द्रसिंह ने बताया कि यह गिरोह गांवों में जाकर किसी होटल पर जाकर चाय पीने के दौरान होटल संचालक या अन्य से व्यवहार बनाते है। इसके बाद आरोपी पहले तो असली सोना औने-पौने दामों में देते है और बाद में आरोपी अपने पास एक किलो सोना होने की जानकारी देकर एक से 10 लाख रूपए में जो भी हाथ में आए उसे लेकर फरार हो जाते है।
डेरे से 25 किलोमीटर दूर जाकर करते है वारदात
पुलिस के अनुसार आरोपी इतने शातिर है कि वे अपने डेेरे से करीब 25 से 30 किमी दूर बस में जाते है और इसके बाद वहां पर जाकर वारदातों को अंजाम देते। पुलिस के अनुसार आरोपी इतने शातिर है कि वारदात के बाद पुन: अपने डेरे पर जाकर छिप जाते है, जिससे किसी को पता नहीं चले।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

*

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.