Monday , 19 November 2018
Top Headlines:
Home » Udaipur » धूमधाम से मनी गणेश चतुर्थी

धूमधाम से मनी गणेश चतुर्थी

गणेशोत्सव का आगाज
उदयपुर। गणेश चतुर्थी का पर्व उदयपुर शहर सहित पूरे अंचल में धूमधाम से मनाया गया। बोहरा गणेशजी सहित विभिन्न मंदिरों में गणेशजी की प्रतिमाओं को आकर्षक आंगी धारण कराकर पूजा अर्चना की गई तथा लडडूओं का भोग लगाया गया। बोहरा गणेशजी में दर्शनों के लिए भक्तों का सैलाब उमड़ पड़ा। मंदिर में तड़के तीन बजे से ही दर्शनों के लिए भक्तों की कतारें लग गई। अन्य मंदिरों में भी भक्तों का तांता लगा रहा। भजन-कीर्तन की धूम रही। अंचल में दस दिवसीय गणेशोत्सव की धूम भी प्रतिमा स्थापना के साथ शुरू हो गई है।
गणेश चतुर्थी पर शहर के बोहरा गणेशजी मंदिर में प्रतिमा को स्वर्ण बरक की आंगी धारण कराई गई। इसके बाद गणेशजी का स्वर्णाभूषणों से शृंगारित किया गया तथा पूजा अर्चना कर लडडूओं को भोग अर्पित किया गया। आरती कर प्रसाद वितरण किया गया। इसके बाद हुए हवन अनुष्ठान में भक्तजनों ने आहुतियां देकर सुख-समृद्धि की कामना की गई। मंदिर में तड़के तीन बजे से ही भक्तों की आवाजाही शुरू हो गई। थोड़ी देर बाद तो भक्तों की लंबी-लंबी कतारें लग गई। भक्तों का तांता दिनभर लगा रहा। भक्तजनों ने नारियल, प्रसाद और माला अर्पित कर बोहरा गणेशजी के दर्शनों का लाभ लिया। मंदिर में सुबह से लेकर देर रात तक मेले सी रंगत बिखरी रही। मंदिर के बाहर से लेकर धूलकोट चौराहे तक मार्ग के दोनों और सैंकड़ो दुकानें सजीं। इनमें प्रसाद, नारियल के अलावा बच्चों के खिलौनों व घरेलू वस्तुओं की दुकानें शामिल थीं। चकरी-डॉलपर का खूब आनंद लिया। मंदिर में दर्शन के लिए आई महिलाएं स्टालों पर खरीददारी करती नजर आई। बोहरा गणेशजी के अलावा शहर के पाला गणेशजी, मावा गणेशजी, जाड़ा गणेशजी, पंचमुखी गणेशजी, दुधिया गणेशजी सहित अन्य गणेश मंदिरों में सुबह गणेशजी की प्रतिमाओं को आकर्षक आंगी धारण कराकर स्वर्णाभूषण धारण कराए गए। प्रतिमाओं को श्रृंगारित करने के बाद विशेष पूजा अर्चना कर गणेशजी को लडडूओं का भोग अर्पित किया गया। मंदिरों में सुबह से ही भक्तों का तांता लगा रहा तथा भजन कीर्तन की धूम मची रही। शाम को मंदिरों में महाआरती की गई। गणनायक की प्रतिमा प्रतिष्ठापित
उदयपुर। नारायण सेवा संस्थान के मानव मंदिर में गुरुवार को गणेश चतुर्थी पर संस्थापक-चेयरमैन कैलाश मानव के सान्निध्य में गाजे-बाजे से गणनायक गणपति की रिद्धि-सिद्धी सहित प्रतिमा प्रतिष्ठापित की गई। इस अवसर पर सह संस्थापिका कमला देवी अग्रवाल, अध्यक्ष प्रशान्त अग्रवाल, निदेशक वंदना अग्रवाल, विष्णु शर्मा हितैषी, महिम जैन, दिलीप चौहान व साधकों ने भगवान गणपति की पूजा-अर्चना की। संस्थान निदेशक वंदना अग्रवाल ने बताया कि लियों का गुड़ा स्थित सेवा महातीर्थ में भी गणेश प्रतिमा स्थापित की गई। पूजन पं. हरीश शर्मा ने करवाया तथा संचालन महिम जैन ने किया।
मंदिरों पर हुई आकर्षक सजावट
बोहरा गणेशजी सहित पाला गणेशजी, जाड़ा गणेशजी, मावा गणेशजी सहित गणेशजी के सभी मंदिरों को बिजली की रंगबिंरगी रोशनी, चमकीली फर्रियों और पुष्प पल्लवों से आकर्षक रूप से सजाया गया है। कई मंदिरो में सजाई गई धार्मिक झांकियां भक्तों के आकर्षण का केन्द्र रही। शाम को लकदक रोशनी से नहाए मंदिरों में देर रात तक भक्तों का तांता लगा रहा। शुरू हुआ गणेशोत्सवों का धूमधड़ाका
गणेश चतुर्थी से गणेशोत्सव का धूमधड़ाका शुरू हो गया है। सुबह से ही ढोल नगाड़ो के साथ गणेश प्रतिमाएं लाने का क्रम शुरू हो गया। शहर के रेलवे स्टेशन के सामने, सवीना चौराहा, हिरणमगरी मार्ग सहित अन्य स्थलों पर सजी गणेशजी की प्रतिमाओं के स्टालों पर भक्तजनों का तांता लगा रहा। भक्तजनों ने मनपंसद गणेश प्रतिमाएं खरीदकर श्रद्धापूर्वक पूजा अर्चना कर आरती की तथा अपने घर आमंत्रित किया। इसके अलावा शहर के गली मोहल्लों में आयोजित गणेशोत्सव को लेकर युवाओं की टोलियां ढोल-नगाड़ो के साथ प्रतिमाएं लेने पहुंची,जहां प्रतिमाओं की पूजा अर्चना के बाद वाहनों में विराजित किया गया तथा शोभायात्रा के साथ जैकारे लगाते हुए अपने-अपने पांडालों में ले जाया गया। शाम को शुभ मुहूर्त में सजे-पांडालों में गणेशजी की प्रतिमाओं की विधिवत स्थापना कर पूजा अर्चना की गई। रात्रि में आरती के बाद भजनकीर्तन और धार्मिक कार्यक्रम हुए। ड्डघर-घर में गणेशजी की पूजा, लगाया लड्डूओं का भोग
गणेश चतुर्थी पर घर-घर में परिवार के सदस्यों ने शुभ मुहूर्त में गणेशजी की प्रतिमाओं को आंगी धारण कराकर श्रद्धापूर्वक पूजा अर्चना की। इसके बाद गणेशजी को चुरमें के लडडूओं का भोग लगाया गया। गणेश चतुर्थी पर घर-घर में चुरमे के लडडू और दाल-बाटी बनाई गई। आरत संग्रह लेने उमड़े श्रद्धालु
उदयपुर। प्रथम पूज्य गजानन महाराज का जन्मोत्सव गणेश चतुर्थी पर गुरुवार को नमो विचार मंच की ओर से उदयपुर के आराध्य बोहरा गणेशजी की 11 हजार तस्वीरें श्रद्धालुओं को बांटी गई। इसके साथ ही इतनी ही पुस्तिकाएं आरती संग्रह की भी वितरित की गईं।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

*

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.