Friday , 24 May 2019
Top Headlines:
Home » International » ‘द. एशिया का एक देश क्षेत्र में आतंक फैला रहा’

‘द. एशिया का एक देश क्षेत्र में आतंक फैला रहा’

modi_theresaहांगझाऊ (चीन)। प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी ने सोमवार को यहां जी20 देशों के शिखर सम्मेलन में पाकिस्तान पर निशाना साधते हुये अंतरराष्ट्रीय समुदाय से आतंकवाद को समर्थन देने वाले देश को अलग-थलग करने और उस पर प्रतिबंध लगाने की मांग की।
मोदी ने सम्मेलन के अंतिम सत्र में बोलते हुये बिना पाकिस्तान का नाम लिये परोक्ष तरीके से पाकिस्तान पर जमकर निशाना साधा।
विदेश मंत्रालय के प्रवक्ता विकास स्वरूप ने बताया कि मोदी ने जी20 सम्मेलन के अंतिम सत्र ”विश्व अर्थव्यवस्था को प्रभावित करने वाले अन्य कारकÓÓ को संबोधित करते हुए पाकिस्तान का नाम लिये बिना कहा, दक्षिण एशिया का इकलौता राष्ट्र क्षेत्र में आतंक के एजेंटों को फैला रहा है। आतंकवाद को समर्थन देने वालों को अलग-थलग कर उन पर प्रतिबंध लगा देना चाहिये। उन्होंने अंतरराष्ट्रीय समुदाय से आतंकवाद के खिलाफ एकजुट होकर काम करने की अपील की। उन्होंने कहा, हिंसा एवं आतंकवाद की बढ़ती ताकतों ने मूलभूत चुनौती प्रस्तुत की है। कुछ देश ऐसे हैं जो इसका इस्तेमाल विदेश नीति की तरह कर रहे हैं। आतंकवाद के प्रति भारत की जीरो टॉलरेंस की नीति रही है क्योंकि इससे कम कुछ भी पर्याप्त नहीं है। हमारे लिए एक आतंकवादी सिर्फ आतंकवादी है।
मोदी ने आतंकवाद को वित्तीय मदद पर जी20 के रवैये की सराहना करते हुए कहा, आतंकवाद को मिल रही वित्तीय मदद के खिलाफ जी20 मुहिम की भारत सराहना करता है। सभी देशों को फायनेंशियल एक्शन टास्क फोर्स के मानकों का पालन करना चाहिए।
उन्होंने अपने संबोधन में कहा कि कई वैश्विक मुद्दे ऐसे हैं जो आर्थिक न होकर भी आर्थिक महत्व रखते हैं। पर्यावरण में परिवर्तन और स्वास्थ्य सुरक्षा इनमें महत्वपूर्ण है। उन्होंने कहा, पर्यावरण में बदलाव सबसे बड़ी चुनौती है। इस क्षेत्र में पेरिस अनुबंध ने आगे का रास्ता दिखाया है। हमें पर्यावरण को सुरक्षित रखना होगा। इसके लिये विकासशील देशों को किफायती वित्त एवं पर्यावरण हितैषी तकनीक की जरूरत होगी। प्रधानमंत्री ने स्वास्थ्य सुरक्षा को महत्वपूर्ण मुद्दा बताया। उन्होंने कहा, वैश्विक एवं सार्वजनिक स्वास्थ्य सुरक्षा एक महत्वपूर्ण मुद्दा है। हमें वैक्सीनों को साझा करने तथा विकासशील देशों को किफायती दवाएं मुहैया कराने के लिए नयी वैश्विक भागीदारियों की जरूरत है।
मोदी ने संबोधन के अंत में चीन के राष्ट्रपति शी जिनपिंग का पिछले दो दिनों की मेजबानी के लिए आभार व्यक्त किया।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

*

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.