Saturday , 21 September 2019
Top Headlines:
Home » India » New Delhi » बायोफ्यूल से प्लेन उड़ाएगा भारत

बायोफ्यूल से प्लेन उड़ाएगा भारत

नई दिल्ली। भारत की एविएशन इंडस्ट्री के लिए सोमवार का दिन बेहद खास होगा। इसकी वजह है बायोफ्यूल से उडऩे वाला प्लेन। दरअसल, सोमवार को भारत उस खास ग्रुप में शामिल हो सकता है कि जिन्होंने बायोफ्यूल से किसी प्लेन को उड़ाया है। मिली जानकारी के मुताबिक, सोमवार को स्पाइसजेट की एक फ्लाइट बायोफ्यूल की मदद से देहरादून से दिल्ली के लिए उड़ान भरेगी। अब तक कनाडा, ऑस्ट्रेलिया और अमेरिका जैसे विकसित देश ऐसा कर चुके है, लेकिन विकासशील देशों में यह कारनामा करने वाला भारत पहला देश होगा।

क्या है प्लान
सबसे पहले देहरादून के ऊपर 10 मिनट तक फ्लाइट उड़ाई जाएगी। फिर अगर नतीजे सकारात्मक रहे तो फ्लाइट को दिल्ली लेकर जाया जाएगा। फ्लाइट टेस्ट के वक्त डीजीसीए, सिविल एविएशन मिनिस्ट्री और एयरलाइंस के सीनियर लोग भी मौजूद होंगे। बता दें कि इस साल की शुरूआत में ही दुनिया की पहली बायोफ्यूल फ्लाइट ने लॉस एंजेलिस से मेलबर्न के लिए उड़ान भरी थी।

देहरादून से दिल्ली के बीच होगी उड़ान
क्या होगा फायदा
बायोफ्यूल सब्जी के तेलों, रिसाइकल ग्रीस, काई, जानवरों के फैट आदि से बनता है। जीवाश्म ईंधन की जगह इसका इस्तेमाल किया जा सकता है। दरअसल, एयरलाइंस इंटरनैशनल एयर ट्रांसपोर्ट असोसिएशन नाम की ग्लोबल असोसिएशन ने लक्ष्य रखा है कि उनकी इंडस्ट्री से पैदा होने वाले कॉर्बन को 2050 तक 50 प्रतिशत कम किया जाए। एक अनुमान के मुताबिक, बायोफ्यूल के इस्तेमाल से एविएशन क्षेत्र में उत्सर्जित होने वाले कार्बन को 80 प्रतिशत तक कम किया जा सकता है। क्या है भारत का प्लान
भारत तेल आयात पर अपनी निर्भरता कम करना चाहता है। प्र.म. मोदी ने भी हाल मे ‘नैशनल पॉलिसी फॉर बायोफ्यूल 2018Ó जारी की थी। इसमें आने वाले 4 सालों में एथेनॉल के प्रॉडक्शन को 3 गुना बढ़ाने का लक्ष्य है। अगर ऐसा होता है तो तेल आयात के खर्च में 12 हजार करोड़ रूपये तक बचाए जा सकते हैं।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

*