Thursday , 18 October 2018
Top Headlines:
Home » Rajasthan » दिनदहाड़े अस्पताल परिसर में पिता और बेटों की हत्या

दिनदहाड़े अस्पताल परिसर में पिता और बेटों की हत्या

बांसवाड़ा में ट्रिपल मर्डर

बांसवाड़ा। शहर कोतवाली क्षेत्र में दो अलग-अलग समुदाय के पड़ोसियों के बीच कुछ समय से चल रहे जमीनी विवाद ने शनिवार को खूनी रूप ले लिया। एक पक्ष ने दूसरे पक्ष के परिवार के तीन सदस्यों पर सरेआम ताबड़तोड़ कातिलाना हमला कर पिता और उसके दो बेटों को मौत के घाट उतार दिया। वारदात शहर के महात्मा गांधी चिकित्सालय परिसर के उस हिस्से में हुई जहां अमूमन सबसे ज्यादा आवाजाही रहती है। कुछ दिन से चल रहे जमीन विवाद पर शुक्रवार रात दोनों पक्षों के बीच कहासुनी हो गई थी। पुलिस की मध्यस्थता से समझाइश हो गई व दोनों पक्ष शांत हो गए। लेकिन शनिवार को न जाने किस बात को लेकर विवाद ने उग्र रूप ले लिया कि एक साथ तीन लोगों की जानें चली गई। हमलावर भीड़भरे अस्पताल क्षेत्र में चार पहिया वाहन से आए और हथियारों से ताबड़तोड़ वार किए। पिता और दोनों पुत्रों की तड़प-तड़प कर जान चली गई। इस घटना के तुरंत बाद बांसवाड़ा शहर और जिले के कईं हिस्सों में वारदात की सूचना बिजली की तरह दौड़ गयी। शहर में तो कुछ देर के लिए अफरा-तफरी का माहौल भी बन गया। जैसे-जैसे पता चलता गया, दुकानदारों ने तुरत-फुरत शटर गिराकर दुकानें भी बंद कर दी। इसी बीच जिला और पुलिस प्रशासन ने मामले की गंभीरता को देखते हुए ऐहतियातन सुरक्षा बढ़ा दी। एमजी हॉस्पिटल को भारी पुलिस बल ने घेर लिया और तीनों तरफ की आवाजाही बंद करा दी। शहर के अन्य संवेदनशील इलाकों में भी पुलिस जाप्ता तैनात कर कानून व्यवस्था बनाये रखने के इंतजाम किए गए। बाजार में अफवाहों के दौर चलें इससे पूर्व ही इंटरनेट बंद करने तक सोशल मीडिया पर कुछ लोगों ने संजीदगी का परिचय दिया और किसी भी तरीके से उन अफवाहों को प्रसारित न करने की अपील जारी करने का काम किया। थोड़ी देर बाद प्रशासन ने जिलेभर में इंटरनेट सेवाएं बंद कर दी गयी। समाचार लिखे जाने तक शहर में हालात काबू में हैं और सुरक्षा बंदोबस्त बढ़ा दिये गए हैं। शहर के मुख्य स्थानों पर पुलिस जाप्ता तैनात है और जिला तथा पुलिस प्रशासन घटना के बाद उत्पन्न होने वाली किसी भी अप्रिय हिंसात्मक वारदात पर नियंत्रण के लिए कड़ी नजर रखे हुए है।पूरा घटनाक्रम सीसीटीवी में कैद,
हमलावर फरारअफवाहों के चलते नेटबंदीशहर थाना कोतवाली के इन्दिरा कॉलोनी इलाके में शब्बीर मोहम्मद का परिवार रहता है। उन्हीं के पड़ोस में दूसरे पक्ष पन्नालाल का परिवार भी रहता है। दोनों के बीच जमीन को लेकर कुछ समय से विवाद चला आ रहा है। शब्बीर मोहम्मद का कहना था कि दूसरा पक्ष उनके आवास तक पहुंचने के मार्ग पर अनधिकृत कब्जा कर रहा है। इससे उनके घर तक आवाजाही बाधित हो रही है। इसी बात को लेकर मामला गर्माने लगा। दूसरा पक्ष जमीन पर अपने हक की बात पर अड़ा रहा और नौबत मारपीट तक आ गई। मामला तूल पकडऩे लगा और शनिवार को अज्ञात हमलावरों ने शब्बीर मोहम्मद निवासी इन्दिरा कॉलोनी और उनके दो पुत्रों शरीफ व सईद को मौत के घाट उतार दिया। पिता शब्बीर मोहम्मद और उनके एक पुत्र ने तो अस्पताल में ही दम तोड़ दिया जबकि हमले में घायल हुए दूसरे पुत्र को उदयपुर के लिए रेफर किया गया जिसकी रास्ते में मौत हो गई। घटना के बाद इंदिरा कॉलोनी और महात्मा गांधी अस्पताल परिसर में हड़कंप मचा रहा लेकिन प्रशासन ने स्थिति को समय रहते काबू में किये जाने को लेकर सख्त कदम उठा लिए। घटना के तुरंत बाद आईजी पुलिस बंसल पहुंचे बांसवाड़ा मामले की गंभीरता को लेकर पुलिस शुरूआत से ही चाक-चौबंद रही। उदयपुर रेंज के पुलिस महानिरीक्षक विशाल बंसल खुद घटना की जानकारी मिलने के तुरंत बाद बांसवाड़ा पहुंचे और वारदात के तुरंत बाद पुलिस प्रशासन द्वारा उठाये गये कदमों की समीक्षा की तथा स्थिति नियंत्रित रखने के लिए पुलिस अधिकारियों को आवश्यक निर्देश दिये।
पुलिस महानिरीक्षक ने बताया कि वारदात में शामिल आरोपी अस्पताल में लगाये गये सीसीटीवी कैमरों के फुटेज के आधार पर चिह्नित कर लिये गये है और उनकी शीघ्र गिरफ्तारी के प्रयास जारी है। हमलावरों के एक कार से अस्पताल परिसर तक पहुंचने और कातिलाना हमले की पुष्टि करते हुए बंसल ने बताया कि पुलिस मामले की गहनता से तहकीकात कर रही है।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

*

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.