Friday , 22 February 2019
Top Headlines:
Home » Udaipur » तेज रफ्तार ने ली दो भावी चिकित्सकों की जान

तेज रफ्तार ने ली दो भावी चिकित्सकों की जान

चीरवा टनल के बाहर हादसा रेलिंग ने चीरा कार व डॉक्टर को
खंभे को उखाड़ कर 50 फीट दूर फैंका, दो छात्र जख्मी
बाइक भी आई चपेट में सवार गंभीर
नगर संवाददाता & उदयपुर
जोधपुर से उदयपुर भ्रमण पर आते समय डॉ. सम्पूर्णानंद मेडिकल कॉलेज जोधपुर के एमबीबीएस के चार छात्रों की कार चीरवा टनल पार करने के बाद नेशनल हाईवे पर भैरूनाथ ढाबे के सामने अनियंत्रित हो बाइक को चपेट में लेकर, सड़क किनारे विद्युत खंभे को उखाड़, रेलिंग से टकराई, जिससे रेलिंग कार को चीरती हुई आरपार हो गई और साइड में बैठे युवक को चीरते हुए पीछे निकल गई। आगे बैठे दोनों भावी चिकित्सकों की मौके पर ही दर्दनाक मौत हो गई। इस हादसे में दो मेडिकल छात्र व बाइक चालक घायल हो गए। उनमें से बाइक चालक की हालत चिंताजनक है।
मिली जानकारी के अनुसार डॉ. सम्पूर्णानंद मेडिकल कॉलेज में एमबीबीएस प्री-फाईनल का एग्जाम देकर बिढाणी सांचोर जालौर निवासी सुनिल सारण (24) पुत्र जगदीशचंद्र विश्रोई, उसका मित्र बजू खालसा बीकानेर निवासी सुनिल जानी (21) पुत्र राजाराम विश्नोई, जोटवाड़ा जयपुर निवासी रोहित (21) पुत्र देवकरण चौधरी और हिसार हरियाणा निवासी सोनू विश्नोई (23) चारों जने छुट्टियां होने पर लेकसिटी में भ्रमण एवं दोस्तों से मिलने के लिए कार से आ रहे थे। बुधवार सुबह करीब साढ़े 9 बजे कार तेज गति से चीरवा टनल को पार करते हुए पुरोहितों के तालाब के मोड़ पर भैरूनाथ ढाबे के सामने आगे जा रहे बाइक सवार चीरवा निवासी प्रकाश (28) पुत्र लोगर गमेती को पीछे से टक्कर मार दी जिससे वह सिर के बल गिर गया और गम्भीर रूप से घायल हो गया, फिर भी कार संभली नहीं और पास लगे विद्युत खंभे को उखाड़ते हुए सड़क किनारे लगी रेलिंग से जा टकराई और सड़क किनारे उतर गई, जिससे कार में आगे सवार सुनिल सारण व सुनिल जानी की मौके पर ही मौत हो गई, जबकि पीछे बैठे इनके दोनों दोस्त रोहित चौधरी व सोनू विश्रोई घायल हो गए। इन दोनों छात्रों व बाइक चालक प्रकाश गमेती को तुरन्त 108 से एम.बी. चिकित्सालय में भर्ती कराया।
सूचना मिलने पर सुखेर थानाधिकारी नेत्रपाल सिंह, एएसआई हीर सिंह, हेड कांस्टेबल मुकेश कुमार मय जाब्ते के मौके पर पहुंचे व काफी मशक्कत के बाद कार के आगे फंसे हुए दोनों भावी चिकित्सकों के शवों को बाहर निकाला और सुनिल जानी के जेब में मिले आधार कार्ड से उसकी शिनाख्त की व दूसरे की शिनाख्त भी उसके साथियों ने की। उनके परिजनों को सूचना दी। उदयपुर में रह रहे उनके रिश्तेदार, मित्र और एम.बी. चिकित्सालय में अध्ययनरत चिकित्सक मुर्दाघर के बाहर एकत्र हो गए। सुखेर थानाधिकारी मय टीम के अस्पताल पहुंचे और दोनों मृतकों के शवों के पोस्टमार्टम की कार्यवाही करा परिजनों को सौंप दिया। स्थानीय स्तर पर रह रहे रिश्तेदार व मित्र शव लेकर गांव के लिए रवाना हो गए। उधर, गांव से भी परिजनों का रवाना होना बताया।
उधर, बाइक चालक के भाई मनोहरलाल गमेती ने रिपोर्ट दर्ज कराई कि उसका भाई प्रकाश सहारा इंडिया में काम करता है और आज सुबह 9 बजे करीब बाइक से अपनी नौकरी पर जा रहा था, चीरवा टनल से तेज गति से कार पीछे से आई और बाइक को टक्कर मारी, जिससे भाई सिर के बल सड़क पर गिर गया और गम्भीर घायल हो गया। कार की रफ्ïतार ने सड़क के साइड में लगे बिजली के खंभे एवं रेलिंग को तोड़ते हुए साइड में जाकर लटक गई। भाई की हालत ज्यादा गम्भीर होने पर उसे प्राथमिक उपचार के बाद अहमदाबाद ले गए। पुलिस ने धारा 279, 337 व 304-ए में मामला दर्ज किया है। सुनिल चारण इकलौता चिराग
मुर्दाघर के बाहर मिले सुनिल पुत्र जगदीशचंद्र सारण के रिश्तेदारों ने बताया कि उसके पिता सांचोर के वेरिया सरकारी चिकित्सालय में कम्पाऊंडर है और मां गृहणी है। यह उनका इकलौता बेटा है। इसकी एक बहन है जो विवाहित है। वहीं सुनिल जानी के रिश्तेदारों ने बताया कि इसके एक छोटा भाई व एक छोटी बहन है। सभी अविवाहित है और इसके पिता बीकानेर सीआईडी जोन में हेड कांस्टेबल के पद पर कार्यरत है। अभी दोनों के परिजनों को उनके मरने की सूचना नहीं दी है।
घूमने के साथ शादी के कार्ड भी बांटने थे
मुर्दाघर के बाहर इस बात की भी चर्चा थी कि बीकानेर निवासी सुनिल जानी की बहन कमला का विवाह दस दिन बाद होने वाला है और उसके विवाह समारोह के कार्ड उदयपुर में रह रहे अपने यूजी स्टूडेंट छात्रों व अन्य रिश्तेदारों को देने थे। यह कार हाल ही में खरीदी गई जिसे अपनी बहन को शादी में गिफ्ट किया जाना बताया गया है लेकिन इस बात की अभी किसी ने पुष्टि नहीं की। कार में शादी के कार्ड मिले है।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

*

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.