Friday , 19 October 2018
Top Headlines:
Home » Sports » ‘जीतने का हुनर सीखना होगा’

‘जीतने का हुनर सीखना होगा’

पुजारा-शमी चमके

आईसीसी टेस्ट रैंकिंग

कोहली शीर्ष पर बरकरार
दुबई । भारतीय क्रिकेट टीम के कप्तान विराट कोहली अंतरराष्ट्रीय क्रिकेट परिषद की टेस्ट बल्लेबाजों की रैंकिंग में शीर्ष स्थान पर बरकरार हैं। सोमवार को जारी ताजा रैंकिंग में कोहली के शीर्ष स्थान पर 937 अंक हैं। उल्लेखनीय है कि भारतीय टीम को इंग्लैंड के खिलाफ चौथे टेस्ट मैच में 60 रनों से हार मिली थी। ऐसे में पांच टेस्ट मैचों की सीरीज में इंग्लैंड ने 3-1 से अजेय बढ़त बना ली है।

इंग्लैंड के खिलाफ चौथे टेस्ट मैच में पहली पारी में 46 और दूसरी पारी में बनाए गए 58 रनों की बदौलत कोहली टेस्ट बल्लेबाजों की रैंकिंग में शीर्ष स्थान पर बरकरार हैं। कोहली ने अब तक खेले गए चार टेस्ट मैचों की 8 पारियों में कुल 544 रन बनाए हैं। रैंटिंग पॉइंट के आधार पर वह बेहतरीन टेस्ट बल्लेबाजों में 11वें स्थान पर हैं।
सिर्फ 2 पॉइंट और कई दिग्गज पीछे
विराट अब गैरी सोबर्स, क्लेड वॉलकॉट, विवियन रिचर्ड्स और कुमार संगकारा से केवल एक अंक पीछे हैं। आईसीसी ने सोमवार को जारी बयान में यह बात कही। टेस्ट बल्लेबाजों की इस रैंकिंग में भारत के चेतेश्वर पुजारा छठे स्थान पर बने हुए हैं। साउथम्पटन टेस्ट में भारत के लिए 132 रनों की नाबाद पारी खेलने वाले पुजारा के अंक 763 से 798 हो गए हैं। शमी टॉप-20 मेंभारत के तेज गेंदबाज मोहम्मद शमी ने चौथे टेस्ट मैच में कुल 6 विकेट लिए और इस प्रदर्शन के तहत वह टेस्ट गेंदबाजों की रैंकिंग में शीर्ष-20 खिलाडिय़ों में शामिल हो गए हैं। वह तीन स्थान ऊपर उठते हुए 19वें स्थान पर आ गए हैं। इसके अलावा, चौथे टेस्ट मैच में चार विकेट लेने वाले इशांत शर्मा ने भी एक स्थान ऊपर उठते हुए 25वां स्थान हासिल किया है। जसप्रीत बुमराह इस सूची में 37वें स्थान पर हैं।

हार से आहत कप्तान कोहली बोले

साउथम्पटन । भारतीय कप्तान विराट कोहली ने कहा कि उनकी टीम विदेशी दौरों पर सिर्फ प्रतिस्पर्धी बनकर ही संतोष नहीं कर सकती और उसे दबाव की स्थिति में नतीजे देने की कला सीखनी होगी। भारत को चौथे टेस्ट में 60 रन की हार का सामना करना पड़ा जिससे इंग्लैंड ने पांच मैचों की सीरीज में 3-1 की विजयी बढ़त बना ली है। इंग्लैंड के 245 रन के लक्ष्य का पीछा करते हुए भारतीय टीम 184 रन ही बना सकी।
कोहली ने कहा कि क्रीज पर खड़े होने के दौरान ही स्थिति को समझने की जरूरत है, मैच खत्म होने के बाद नहीं।

कोहली ने कहा, हम स्कोरबोर्ड को देखकर यह नहीं कह सकते कि हम सिर्फ 30 या 50 रन दूर थे। जब हम इस स्थिति से गुजर रहे हों तब हमें इसे समझना होगा, बाद में नहीं। हमें पता है कि हमने अच्छा क्रिकेट खेला लेकिन हम स्वयं को बार-बार यह नहीं कह सकते कि हमने अच्छी प्रतिस्पर्धा पेश की।
उन्होंने कहा, जब आप इतने करीब आ जाते हो तो नतीजा देना भी एक कला है, जिसे हमें सीखना होगा। हमारे अंदर क्षमता है, यही कारण है कि हम नतीजे के करीब पहुंच रहे हैं। लेकिन जब दबाव की स्थिति हो तो हमें प्रतिक्रिया देनी होगी और हमें इस पर काम करने की जरूरत है।
कप्तान ने कहा, इसके अलावा एक कप्तान के रूप में मुझे नहीं लगता कि किसी पहलू को नकारात्मक मानकर सोचने की जरूरत है क्योंकि हमने अपना सर्वश्रेष्ठ प्रयास किया। कोहली ने कहा कि उनकी टीम ने कभी हार नहीं मानी और इंग्लैंड को जीत दर्ज करने के लिए पसीना बहाना पड़ा।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

*

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.