Tuesday , 17 September 2019
Top Headlines:
Home » Udaipur » जयसमंद पर चल रही चादर, बारिश थमने से बांधों में कम पड़ी आवक

जयसमंद पर चल रही चादर, बारिश थमने से बांधों में कम पड़ी आवक

jaysamandउदयपुर। जिले और संभाग में पिछले कुछ दिनों से बारिश के बंद होने से बांधों में पानी की आवक कम हो गई है और कई बांधों के गेट बंद कर दिए है। इधर विश्व प्रसिद्ध जयसमंद झील में आस-पास की नदियों और तालाबों से लगातार पानी की आवक जारी है और जयसमंद झील पर झरना चल रहा है। इसके साथ ही शहर में भी प्रमुख फतहसागर झील का झरना चल रहा है और स्वरूपसागर का एक ओर गेट बंद कर दिया है।
शहर से मात्र कुछ ही किलोमीटर दूरी पर स्थित विश्व प्रसिद्ध और एशिया की सबसे बड़ी मीठे पानी की मानव निर्मित जयसमंद झील में आस-पास नदियों और नालों से लगातार पानी की आवक बनी हुई है। जिससे जयसमंद झील का झरना चल रहा है। सिंचाई विभाग के अनुसार जयसमंद झील पर वर्तमान में करीब 22 सेमी की चादर चल रही है और इसके साथ ही पानी की आवक भी लगातार जारी है। पिछले करीब एक सप्ताह से भी अधिक समय से संभाग और जिले में बारिश का दौर बिल्कुल ही थम गया है। बारिश के थमने से बांधों में पानी की आवक बंद होने को आई है। सिंचाई विभाग ने भी संभाग के सबसे बड़े बांध माही बजाज सागर के दो गेट का गेज कम कर दिया है। इधर नंदसमंद का एक गेट एक फिट खोला हुआ है। बाघेरी का नाका भी करीब 8 इंच ओवरफ्लो चल रहा है। इसके साथ ही गंभीरी के भी गेटो को बंद कर दिया है। उदयसागर के भी गेट को कम कर दिया है और शाम तक इसे पूर्ण रूप से बंद किया जा सकता है।
इसी तरह मदार बड़ा और मदार छोटा पर चल रही चादर आधा इंच से भी कम हो गई है। चिकलवास फिडर का ओवरफ्लो बंद हो गया है और मदार नहर करीब 1.8 फिट चल रही है। फतसागर के चार गेटों को आधा-आधा इंच से कम खोला हुआ है। इसी तरह नांदेश्वर 6 इंच चल रहा है और सीसारमा नदी करीब 2 फिट चल रही है।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

*