Tuesday , 16 July 2019
Top Headlines:
Home » Jaipur » गहलोत ने केंद्र के पाले में डाली गेंद

गहलोत ने केंद्र के पाले में डाली गेंद

मोदी से आरक्षण मांगे गुर्जर
कहा- आरक्षण के लिए संविधान संशोधन की जरूरत, इसलिए मोदी को दें ज्ञापन
जयपुर (कार्यालय संवाददाता), गुर्जर समुदाय राजस्थान में एक बार फिर आरक्षण की मांग को लेकर प्रदर्शन कर रहा है। गुर्जर नेता किरौड़ी सिंह बैंसला अपने समर्थकों के साथ शुक्रवार से सवाईमाधोपुर जिले में ट्रेन की पटरियों पर बैठे हैं। राजस्थान की गहलोत सरकार ने गुर्जर आरक्षण से पल्ला झाड़ते हुए केंद्र के पाले में गेंद डाल दी है। मुख्यमंत्री अशोक गहलोत ने गुर्जर नेताओं से बातचीत के लिए 3 मंत्रियों की कमिटी गठित की है। वहीं, बातचीत के लिए गठित कमिटी में शामिल राजस्थान सरकार के मंत्री ने दावा किया है कि बातचीत की प्रक्रिया शुरू भी हो चुकी है।
‘संविधान संशोधन की जरूरत, मोदी से मिलिएÓ
शनिवार को मुख्यमंत्री अशोक गहलोत ने कहा कि 5 फीसदी आरक्षण की मांग को लेकर आंदोलन कर रहे गुर्जर समाज के नेताओं को अपनी मांग से जुड़ा ज्ञापन प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी को सौंपना चाहिए क्योंकि यह संविधान संशोधन के बिना संभव नहीं है। गहलोत ने रेल पटरियों पर बैठे आंदोलनकारियों से अपील की है कि वे वहां से हट जाएं। गहलोत ने यहां पत्रकारों से कहा, पिछली बार भी उनकी अधिकतर मांगें राज्य सरकार द्वारा मानी गई थीं, इस बार भी उनसे बातचीत करने के लिए तीन मंत्रियों की कमिटी बना दी गई है। (शेष पेज 8 पर)सरकार ने वार्ता के लिए बुलाया जयपुर
बैंसला बोले : ट्रेक पर ही होगी बातजयपुर (कार्यालय संवाददाता)। राजस्थान में पांच प्रतिशत आरक्षण की मांग को लेकर आंदोलन कर रहे गुर्जर आरक्षण संघर्ष समिति से राज्य सरकार ने बातचीत के लिये रविवार सुबह तक का समय मांगा था, जिसे बैसला ने ठुकरा दिया।
राज्य सरकार की ओर से सवाई माधोपुर के मलारनाडूंगर में पटरियों पर पड़ाव डाले गुर्जर संघर्ष समिति से बातचीत के लिये सवाईमाधोपुर पहुंचे केबिनेट मंत्री विश्वेंद्र ङ्क्षसह और आईएएस नीरज के. पवन ने आरक्षण संघर्ष समिति के संयोजक कर्नल करोड़ी ङ्क्षसह बैंसला से सरकार को बातचीत के लिये समय देने, बातचीत के लिये संघर्ष समिति की ओर से एक प्रतिनिधिमंडल बनाने और बातचीत एकांत में करने का अनुरोध किया। (शेष पेज 8 पर)कई ट्रेन कैंसल, 20 के मार्ग बदले
गुर्जर आरक्षण के चलते रेलवे ट्रैक पर जारी प्रदर्शन के कारण रेल यातायात पर असर पड़ा है। शनिवार दोपहर तक 14 ट्रेनें कैंसल की जा चुकी हैं और 20 रेलगाडिय़ों के मार्ग बदले गए हैं।
कर्नल किरोड़ी सिंह बैंसला के नेतृत्व में गुर्जर समुदाय के लोग मलारना और निमोदा रेलवे स्टेशनों के बीच रेल पटरी को लगातार बाधित किए हुए हैं, जिसके कारण मुंबई-दिल्ली मार्ग पर रेल गाडिय़ों का संचालन बाधित है। निजामुद्दीन-इंदौर एक्सप्रेस और देहरादून एक्सप्रेस सहित कई अन्य रेलगाडिय़ां रद्द कर दी गईं। इन मार्गों पर यात्रा करने वालों को आंदोलन के कारण मुश्किलों का सामना करना पड़ा है। (शेष पेज 8 पर)गुर्जर आरक्षण आंदोलन का साइड इफेक्ट : आरएसएसबी ने स्थगित की 10 फरवरी की परीक्षाएंजयपुर (एजेंसी)। राजस्थान कर्मचारी चयन बोर्ड ने जयपुर और कोटा में रविवार 10 फरवरी को होने वाली राजस्थान एग्रीकल्चरल सुपरवाइजर रिक्रूटमेंट परीक्षा को स्थगित कर दिया है। इसके साथ ही अजमेर में होने वाली पर्यवेक्षक (आंगनवाड़ी कार्यकर्ता) भर्ती परीक्षा भी स्थगित कर दी गई है। बोर्ड ने यह परीक्षा अपरिहार्य परिस्थितियों के चलते रद्द किया है। बोर्ड के जरिए ह्म्ह्यद्वह्यह्यड्ढ. ह्म्ड्डद्भड्डह्यह्लद्धड्डठ्ठ.द्दश1.द्बठ्ठ पर नई तारीखों की घोषणा की जाएगी। कृषि पर्यवेक्षक भर्ती 2018 के तहत कुल 1832 पदों पर भर्ती होनी है। बता दें कि 8 फरवरी को इसका एडमिट कार्ड भी जारी किया गया था। बोर्ड ने अपरिहार्य कारणों का हवाला दिया है, लेकिन इसका मुख्य कारण प्रदेश में शुरू हुआ गुर्जर आरक्षण आंदोलन माना जा रहा है। कृषि पर्यवेक्षक के लिए रविवार सुबह 11 बजे से 1 बजे तक परीक्षा होनी थी। वहीं आंगनवाड़ी पर्यवेक्षक के 309 पदों के लिए दोपहर में 2.30 बजे से 5.30 बजे तक परीक्षा होनी थी। कई अभ्यर्थी पहले ही शहर में शनिवार को पहुंच गए थे लेकिन परीक्षा स्थगित होने से निराश हुए।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

*