Wednesday , 26 February 2020
Top Headlines:
Home » Hot on The Web » गर्लफ्रेंड पर था शक तो पहले सेक्स किया, फिर खून किया

गर्लफ्रेंड पर था शक तो पहले सेक्स किया, फिर खून किया

gf_murderनागपुर। कुछ लोगों के लिए उनका प्यार ही मौत की वजह बन जाता है। 18 साल की नुसरत फिजा खान, उर्फ मोनू के साथ भी यही हुआ। उसके 21 वर्षीय बॉयफ्रेंड मोहिबे रसूल अंसारी ने पहले तो एक सूनसान जगह पर उसके साथ सेक्स किया और फिर उसकी हत्या कर दी। घटना उमरेर रोड पर पचगांव के पास हुई। पुलिस ने रविवार को अंसारी को 3 फरवरी तक की हिरासत में ले लिया है। सक्करडारा पुलिस ने शनिवार को अंसारी को पकड़ा था। हत्या के बाद वह झारखंड भागने की योजना बना रहा था।
अंसारी ने जलन और शक के कारण अपनी गर्लफ्रेंड नुसरत का खून कर दिया। उसने नुसरत को बाइक पर किसी और आदमी के साथ बैठे देखा था। 26 जनवरी की शाम को उसने नुसरत से दिघोरी आने को कहा। वहां से दोनों लगभग 10 किलोमीटर दूर पचगांव गए। पुलिस का कहना है कि अंसारी, नुसरत को साथ लेकर एक निर्माणाधीन इमारत के पीछे सूनसान जगह पर ले गया।
अंसारी और नुसरत कई साल से एक-दूसरे को जानते थे। अंसारी अपने चाचा की गराज में काम करने के दौरान ही नुसरत से मिला था। वह भी उसी इलाके में रहती थी। नुसरत के परिवार को हालांकि अंसारी के साथ उसकी नजदीकी से काफी एतराज था। उन्होंने मिलकर अंसारी के चाचा पर दबाव बनाया और उन्होंने उसे गराज के काम से निकाल दिया। पिछले कुछ महीने से अंसारी बेरोजगार था। नुसरत के पिता रिक्शाचालक हैं। अपने पांच भाई-बहनों में वह तीसरी थी।
26 जनवरी की शाम को अंसारी और नुसरत ने अकेले में वक्त बिताया, लेकिन फिर बाइक पर किसी और आदमी के साथ घूमने की बात को लेकर दोनों में बहस हो गई। अंसारी जल्द-से-जल्द नुसरत के साथ शादी करना चाहता था। वह चाहता था कि नुसरत इस बारे में अपने परिवार को भी बता दे। बताया जा रहा है कि नुसरत अपनी जिंदगी के उस दूसरे शख्स से अलग नहीं होना चाहती थी। इसी बात को लेकर दोनों में झगड़ा बढ़ गया।
पुलिस का कहना है कि अंसारी घटना वाले दिन पहले से ही हत्या की योजना बनाकर आया था। उसने सोचा कि अगर नुसरत उसकी बात नहीं मानती तो वह उसे मार डालेगा। वह अपनी बाइक में एक लोहे की छड़ बांधकर पचगांव गया था। उसके पास एक चाकू भी था। नसरत से बहस होने पर अंसारी ने उसके सिर पर तबतक वार किया, जबतक कि वह बेहोश नहीं हो गई। उसने हत्या में इस्तेमाल किए हथियार को ठिकाने लगाने के साथ-साथ नुसरत का फोन तोड़कर उसका सिम कार्ड भी तोड़ दिया।
कुही पुलिस थाने के सहायक इंस्पेक्टर ने बताया कि नुसरत का शव 27 जनवरी को बरामद हुआ। उन्होंने बताया, काफी समय तक उसकी पहचान नहीं हो सकी, लेकिन बाद में कुही पुलिस थाने को खबर मिली कि सक्करडारा थाने में एक गुमशुदा लड़की की रिपोर्ट दर्ज है। पहचान के बाद हमने दोषी को खोजने का काम शुरू किया। नुसरत और अंसारी के परिवार को पूछताछ के लिए बुलाया गया। जब अंसारी अपने घर लौटकर आया तो वहां ताला बंद देख वह हैरान रह गया। उसे पता चल गया कि उसके पूरे परिवार पर निगरानी रखी जा रही है। सक्करडारा पुलिस थाने की एक टीम ने इटावरी पुलिस स्टेशन पर अंसारी को पकड़ा। पीआई चंद्रशेखर कदम ने बताया, उसने एक स्कार्फ से अपना चेहरा ढक रखा था और भागने की कोशिश कर रहा था।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

*