Thursday , 18 October 2018
Top Headlines:
Home » Political » गठबंधन की कमान भी सोनिया ने राहुल को सौंपी

गठबंधन की कमान भी सोनिया ने राहुल को सौंपी

नई दिल्ली। पेट्रोल और डीजल की बढ़ी हुई कीमतों के खिलाफ कांग्रेस के भारत बंद में राहुल गांधी ही छाए रहे। उन्होंने न सिर्फ राजघाट पहुंचकर बापू की समाधि पर कैलाश मानसरोवर से लाया जल चढ़ाया बल्कि वह संभावित गठबंधन का नेतृत्व करते भी दिखे। यूपीए अध्यक्ष सोनिया गांधी संयुक्त विपक्ष के धरने में कुछ देर के लिए जरूर आईं, लेकिन न तो मंच से उन्होंने भाषण दिया और न ही ज्यादा देर तक वहां रूकीं। सवाल है कि क्या सोनिया गांधी ने कांग्रेस की कमान सौंपने के बाद गठबंधन की भी जिम्मेदारी राहुल गांधी को सौंप दी है?
इसके पहले विपक्ष की बैठकों की अध्यक्षता सोनिया गांधी ही करती रही हैं। किसी से छुपा नहीं है कि शरद पवार और ममता बनर्जी सरीखे नेताओं का राहुल गांधी के नेतृत्व को लेकर क्या रूख है। यही वजह है कि जब राहुल गांधी राजघाट पहुंचे तो सबकी नजरें इस बात पर टिकी थीं कि कौन-कौन विपक्ष का नेता उनके साथ पेट्रोल पंप तक उनके पैदल मार्च में साथ रहेगा। रामलीला मैदान के सामने बने मंच पर जब विपक्ष के नेताओं ने एकजुट होना शुरू किया तो सबकी नजर इस बात पर टिक गई कि क्या राहुल गांधी विपक्ष की अगुवाई करने जा रहे हैं? क्योंकि तब तक तय कार्यक्रम के मुताबिक सोनिया गांधी को दोपहर बाद पेट्रोल डीजल की बढ़ी कीमतों को लेकर हो रहे प्रदर्शन में शामिल होना था।
मगर अचानक सोनिया गांधी रामलीला मैदान के सामने पेट्रोल पंप के पास बने मंच पर पहुंच गईं। सोनिया के पहुंचते ऐसा लगा कि एक बार फिर गठबंधन की कमान वही संभालने वाली हैं, लेकिन थोड़ी देर बाद ही उन्होंने राहुल से बात कर मंच छोड़ दिया और घर वापस लौट आईं।
सोनिया के जाते ही मंच की कमान राहुल गांधी ने संभाली। कांग्रेस के मीडिया प्रभारी रणदीप सिंह सुरजेवाला के साथ मिलकर उन्होंने ना सिर्फ मंच से बोलने वाले नेताओं के नाम निर्धारित किए बल्कि उनके बोलने का क्रम भी बनाया। सबसे बाद में सबसे वरिष्ठ नेता शरद पवार को बोलने के लिए बुलाया गया। उनके बाद खुद कांग्रेस अध्यक्ष राहुल गांधी ने भाषण दिया। मंच पर भाषण के क्रम को देखकर साफ था कि कांग्रेस ने इस मौके को राहुल गांधी के नेतृत्व के रूप में स्थापित कर दिया। यानी सबसे बड़ा नेता सबसे बाद में बोला।
पिछले साल दिसंबर में सोनिया ने राहुल को अध्यक्ष का पद चुनाव के जरिए सौंप दिया था। इसके बाद सोनिया गांधी के रायबरेली से चुनाव नहीं लडऩे पर भी तमाम कयास लगाए जाते रहे हैं। सोनिया के स्वास्थ्य को देखते हुए अब तक यह तय नहीं है कि वह रायबरेली चुनाव लड़ेंगी या बेटी प्रियंका। इस बीच सोनिया गांधी ने बड़ी चतुराई से संयुक्त विपक्ष की बैठक में राहुल गांधी को ही नेतृत्व का मौका देकर विपक्षी नेताओं को यह संदेश देने की कोशिश की कि अब राहुल गांधी भी विपक्ष के साथ समन्वय करेंगे।
विपक्षी गठबंधन में अगर ममता बनर्जी और शरद (शेष पेज 8 पर)

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

*

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.