Monday , 26 August 2019
Top Headlines:
Home » Udaipur » खेलगांव सोसायटी से मंजूरी नहीं और कर दिया स्कूल के लिए खेलों का प्रचार

खेलगांव सोसायटी से मंजूरी नहीं और कर दिया स्कूल के लिए खेलों का प्रचार

कन्वेंशन हॉल में खुले नीरजा मोदी स्कूल के ब्रोशर में किया खेल सुविधाएं देने का प्रचार
उदयपुर, (नगर संवाददाता)। शहर के चित्रकूटनगर में अंतरराष्ट्रीय स्तर के महाराणा प्रताप खेलगांव की सुविधाओं को अब पड़ौस में कन्वेंशन हॉल की इमारत में चालू होने वाले नीरजा मोदी स्कूल के प्रचार-प्रसार के लिए इस्तेमाल किया जाने लगा है। जबकि खेलगांव और स्कूल की हॉल की इमारत दोनों ही प्रोजेक्ट जुदा जुदा हैं।
खेलगांव परिसर से सटे कन्वेंशन हॉल के प्रोजेक्ट को कामर्शियल उपयोग के लिए तैयार करते हुए तत्कालीन राज्य सरकार ने इसे ठेके पर देने की छूट दी थी। इस पर इमारत बनाने वाली एजेंसी यूआईटी ने टेण्डर किया और उसे सबसे हाई वेल्यू प्राइज पर एसपी एंटरप्राइजेज ने छुड़वाया। यूआईटी इस इमारत को पूरा करने का पैसा और इसे चलाते हुए कमाई देने वाली ठेका कंपनी को ढूंढने के लिए बार-बार ठेके करती रही लेकिन कोई आया नहीं।
हाल ही सितम्बर में एसपी एंटरप्राइजेज को ठेका छूटा तो उसकी मदद से अब सोजतिया ज्वैलर्स ने नीरजा मोदी स्कूल वहां खोला है। मौके पर स्कूल के नाम के बोर्ड और रास्ते में सोजतिया ज्वैलर्स के विज्ञापन के होर्डिंग लगा दिए गए हैं। इस स्कूल में बच्चों को प्रवेश दिलाने के लिए तैयार की गई प्रचार सामग्री और ऑनलाइन प्रचार में स्कूल प्रबंधन ने स्पोट्र्स एक्टिविटी में बताया है कि स्कूल के पास लंबा चौड़ा मैदान है, जहां 400 मीटर एथेलेटिक ट्रेक, टेनिस कोर्ट, बास्केटबॉल, वालीबॉल, तीरंदाजी, टेबल टेनिस, फुटबॉल मैदान, क्रिकेट की नेट प्रेक्टिस, तैराकी आदि जैसे तमाम खेलों की गतिविधियों को राष्ट्रीय, अंतरराष्ट्रीय योग्य कोच के मार्गदर्शन में खिलाया जाता है।15 साल के लिए दिया ठेका
यूआईटी ने कन्वेंशन हॉल का काम पहली बार बनी भाजपा की वसुंधरा राजे सरकार में शुरू किया था लेकिन पूरा नहीं हो सका। बाद में गहलोत सरकार आई तो काम अटका रहा। फिर दूसरी बार भाजपा की वसुंधराजे सरकार बनी तब तत्कालीन सीएम ने इसे पूरा कर हर हालत में चालू करने पर जोर दिया। इस पर पूर्व सचिव रामनिवास मेहता ने स्पेशल प्रोजेक्ट बनाया। इससे पहले सरकार ने इससे राजस्व अर्जन करने के लिए इसे व्यावसायिक श्रेणी में संपरिवर्तित करने के लिए प्लान मंजूर किया। इसके बाद यूआईटी ने ठेके जारी किए लेकिन कोई सक्षम पार्टी नहीं आ सकी। इस बीच अमेरिका से एनआरआई भी होटल प्रोजेक्ट और अस्पताल प्रोजेक्ट के लिए कन्वेंशन हॉल देखने आए लेकिन बात जमी नहीं और हॉल खाली तथा अधूरा पड़ा रहा। अब यूआईटी ने इसे एसपी एंटरप्राइजेज को ठेके पर 15 साल के लिए दिया है।
हर महीने पौने सात लाख की आय
यूआईटी को फर्म हर महीने 6 लाख 72 हजार रुपए की आय दे रही है। फर्म की सिक्युरिटी के पेटे 25 लाख रुपए जमा होने बताए गए। जबकि वार्षिक रूप से इस राशि में दस प्रतिशत की वृद्धि भी की जाएगी। हॉल लेने से पहले फर्म ने इसे स्कूल बनाने के लिए आवश्यक खर्चे कर पूरी इमारत को तैयार भी किया।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

*