Friday , 16 November 2018
Top Headlines:
Home » Sports » ‘कोहली महानतम खिलाडिय़ों में से एक’

‘कोहली महानतम खिलाडिय़ों में से एक’

लेकिन किसी से तुलना में विश्वास नहीं : सचिन
मुंबई। विराट कोहली जिस तेजी से महान बल्लेबाज सचिन तेंडुलकर के रेकॉर्डों की तरफ बढ़ रहे है, उससे खुद मास्टर ब्लास्टर ने भी हैरानी जताते हुए कहा कि भारतीय टीम के मौजूदा कप्तान महानतम खिलाडिय़ों में से एक हैं, लेकिन वह ‘तुलना में विश्वासÓ नहीं करते। कोहली हाल ही में तेंडुलकर के रेकॉर्ड को तोड़कर एकदिवसीय क्रिकेट में सबसे तेज 10,000 रन बनाने वाले खिलाड़ी बने हैं। वह तेंडुलकर के वनडे में रेकॉर्ड 49 शतकों की तरफ भी तेजी से बढ़ रहे हैं। कोहली ने वेस्ट इंडीज के खिलाफ जारी मौजूदा सीरीज के तीसरे वनडे में अपना 38वां शतक लगाया था। तेंडुलकर ने कहा, एक खिलाड़ी के तौर पर विराट के विकास की बात करें तो मुझे लगता है कि उन्होंने काफी तेजी से सुधार किया है। मुझे हमेशा लगता था कि उनमें अच्छा करने की ललक है और मुझे शुरू से ऐसा लगता था कि वह दुनिया के शीर्ष बल्लेबाजों में शामिल होंगे। वह भी सिर्फ इस सदी के नहीं, बल्कि सर्वकालिक महान खिलाडिय़ों में से एक होंगे।
उन्होंने कहा, इस (कोहली को सर्वकालिक महान खिलाड़ी बताना) पर हर किसी की अपनी सोच है। अगर किसी को तुलना करनी हो तो मैं उसमें दखल नहीं करना चाहूंगा, क्योंकि 60, 70 और 80 के दशक के अलग तरह के गेंदबाज थे, जब मैं खेलता था तब और आज के दौर में भी गेंदबाजी अलग-अलग तरह की हो गई है।
(शेष पेज 8 पर)
तेंडुलकर यहां के डीवाई पाटिल स्टेडियम में मिडिलसेक्स ग्लोबल अकादमी के पहले भारतीय शिविर के आयोजन के मौके पर बोल रहे थे। यहां उनके बचपन के दोस्त और बल्लेबाज विनोद कांबली ने भी बच्चों का मार्गदर्शन किया। अंतरराष्ट्रीय क्रिकेट में शतकों का सैंकड़ा लगाने वाले इस बल्लेबाज ने कहा, पहली बात तो विराट ने जो कहा (दूसरे बल्लेबाज से तुलना करने के बारे में) और मैं भी 24 वर्षों तक खेलने के दौरान यही बाते कहता रहा हूं। मैंने कभी तुलना करने पर विश्वास नहीं किया। हर युग के साथ खेल का तरीका बदलता है। इसमें बदलाव निरंतर रहा है।
मास्टर ब्लॉस्टर ने इस मौके पर वेस्ट इंडीज के खिलाफ टेस्ट करियर शुरू करने वाले युवा सलामी बल्लेबाज पृथ्वी शॉ की तारीफ करते हुए कहा कि वह तेजी से चीजों को सीख रहे हैं। उन्होंने कहा, मुझे लगता है मैं पृथ्वी के बारे में बात कर सकता हूं। मैंने कभी भी चयन के मुद्दे पर यह नहीं कहा कि किसे चुना जाना चाहिए और किसे नहीं और मैं उसे ऐसे ही रखना चाहूंगा, क्योंकि इससे ऐसा लगेगा की मैं चयनकर्ताओं को प्रभावित कर रहा हूं। पृथ्वी को खिलाड़ी के तौर पर देखूं तो वह तेजी से सुधार कर रहा है। मुझे लगता है कि वह जिस उम्र में है वहां से सिर्फ सुधार ही हो सकता है। उसने हर प्रारूप में अच्छा प्रदर्शन किया है।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

*

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.