Wednesday , 20 November 2019
Top Headlines:
Home » Sports » कुक का संन्यास

कुक का संन्यास

भारत के खिलाफ खेलेंगे आखिरी टेस्ट

लंदन । इंग्लैंड के पूर्व कप्तान और सलामी बल्लेबाज एलिस्टर कुक ने अंतरराष्ट्रीय क्रिकेट से संन्यास लेने का फैसला किया था। वह भारत के खिलाफ ओवल में होने वाले आखिरी टेस्ट मैच के बाद अंतरराष्ट्रीय क्रिकेट को अलविदा कह देंगे।
कुक ने अंतरराष्ट्रीय टेस्ट क्रिकेट में इंग्लैंड के लिए अभी तक 12254 रन बनाए हैं। उन्होंने इंग्लैंड के लिए सबसे ज्यादा 160 टेस्ट मैच खेले हैं। ओवल टेस्ट उनका 161 टेस्ट मैच होगा।

कुक इस दौरान खराब फॉर्म से गुजर रहे हैं। टीम में उनके स्थान को लेकर भी काफी सवाल उठाए जाने लगे थे। भारत के खिलाफ मौजूदा सीरीज में भी वह रन बनाने में असफल रहे हैं। वह हालांकि एसेक्स के लिए काउंटी क्रिकेट में खेलते रहेंगे।
कुक ने एक बयान जारी कर कहा, पिछले कुछ महीनों में काफी सोच विचार के बाद मैंने अंतरराष्ट्रीय क्रिकेट से संन्यास लेने का फैसला किया है। भारत के खिलाफ ओवल टेस्ट मेरे करियर का आखिरी टेस्ट मैच होगा।
उन्होंने कहा, हालांकि यह एक दुखभरा दिन है लेकिन मैं अपने चेहरे पर खुशी के साथ यह बात कह सकता हूं क्योंकि मैं जानता हूं कि मैं अपना सब कुछ दे दिया है और मेरे पास अब देने के लिए कुछ नहीं बचा है। उन्होंने आगे कहा, मैंने जो हासिल किया उसके बारे में मैंने कभी विचार भी नहीं किया था। इतने लंबे समय तक इंग्लैंड टीम के दिग्गजों के साथ खेलकर मैं गर्व महसूस कर रहा हूं। इंग्लैंड के सबसे कामयाब बल्लेबाज ने कहा कि टीम के कुछ साथियों के साथ भविष्य में ड्रेसिंग रूम न शेयर करने का विचार ही मेरे लिए काफी चुनौतीपूर्ण है। लेकिन मैं जानता हूं कि यही सही वक्त है।
33 वर्षीय कुक ने एशेज सीरीज में ऑस्ट्रेलिया के खिलाफ दोहरा शतक भी लगाया था। इससे पहले वेस्ट इंडीज के खिलाफ एजबेस्टन में भी कुक ने डबल सेंचुरी जड़ी थी। लेकिन इस बीच उनकी फॉर्म उनसे रूठी ही रही। 2017 से लेकर अब तक उन्होंने सिर्फ तीन हाफ सेंचुरी और दो डबल सेंचुरी लगाईं। भारत के खिलाफ भी सात पारियों में वह सिर्फ दो बार ही 20 से ज्यादा का स्कोर बना पाए हैं।
साउथहम्पटन में सीरीज के चौथे टेस्ट मैच के बाद कुक के मेंटॉर ग्राहम कूच ने कहा था कि उन्हें कुक के खेल में कोई सुधार नजर नहीं आ रहा है। बीबीसी रेडियो 4 के साथ बात करते हुए उन्होंने कहा था कि एक बल्लेबाज के रूप में आपको लगातार अपने खेल में सुधार करना होता है लेकिन कुक के खेल में ऐसा नजर नहीं आ रहा है।
कुक ने अपने करियर की शुरूआत 2006 में भारत के खिलाफ नागपुर में की थी। उन्होंने इस मैच में शतक लगाया था। यह संयोग ही है कि उनके करियर का आखिरी टेस्ट मैच भी भारत के ही खिलाफ होगा।
टेस्ट क्रिकेट में सबसे ज्यादा रन बनाने वाले बल्लेबाजों की लिस्ट में वह फिलहाल छठे स्थान पर हैं। उनसे आगे सचिन तेंडुलकर (15,921), रिकी पोंटिंग (13,378), जैक कालिस (13,289), राहुल द्रविड़ (13,288) और कुमार संगाकारा हैं। कुक के नाम फिलहाल 32 टेस्ट शतक हैं। कुक ने रेकॉर्ड 59 टेस्ट मैचों में इंग्लैंड की कप्तानी भी की। इसमें 24 टेस्ट मैचों में इंग्लैंड ने जीत हासिल की। वह माइकल वॉन के बाद इंग्लैंड के सबसे कामयाब कप्तान भी रहे।

लंदन । इंग्लैंड के पूर्व कप्तान और सलामी बल्लेबाज एलिस्टर कुक ने अंतरराष्ट्रीय क्रिकेट से संन्यास लेने का फैसला किया था। वह भारत के खिलाफ ओवल में होने वाले आखिरी टेस्ट मैच के बाद अंतरराष्ट्रीय क्रिकेट को अलविदा कह देंगे।
कुक ने अंतरराष्ट्रीय टेस्ट क्रिकेट में इंग्लैंड के लिए अभी तक 12254 रन बनाए हैं। उन्होंने इंग्लैंड के लिए सबसे ज्यादा 160 टेस्ट मैच खेले हैं। ओवल टेस्ट उनका 161 टेस्ट मैच होगा। कुक इस दौरान खराब फॉर्म से गुजर रहे हैं। टीम में उनके स्थान को लेकर भी काफी सवाल उठाए जाने लगे थे। भारत के खिलाफ मौजूदा सीरीज में भी वह रन बनाने में असफल रहे हैं। वह हालांकि एसेक्स के लिए काउंटी क्रिकेट में खेलते रहेंगे।
कुक ने एक बयान जारी कर कहा, पिछले कुछ महीनों में काफी सोच विचार के बाद मैंने अंतरराष्ट्रीय क्रिकेट से संन्यास लेने का फैसला किया है। भारत के खिलाफ ओवल टेस्ट मेरे करियर का आखिरी टेस्ट मैच होगा।
उन्होंने कहा, हालांकि यह एक दुखभरा दिन है लेकिन मैं अपने चेहरे पर खुशी के साथ यह बात कह सकता हूं क्योंकि मैं जानता हूं कि मैं अपना सब कुछ दे दिया है और मेरे पास अब देने के लिए कुछ नहीं बचा है। उन्होंने आगे कहा, मैंने जो हासिल किया उसके बारे में मैंने कभी विचार भी नहीं किया था। इतने लंबे समय तक इंग्लैंड टीम के दिग्गजों के साथ खेलकर मैं गर्व महसूस कर रहा हूं। इंग्लैंड के सबसे कामयाब बल्लेबाज ने कहा कि टीम के कुछ साथियों के साथ भविष्य में ड्रेसिंग रूम न शेयर करने का विचार ही मेरे लिए काफी चुनौतीपूर्ण है। लेकिन मैं जानता हूं कि यही सही वक्त है।
33 वर्षीय कुक ने एशेज सीरीज में ऑस्ट्रेलिया के खिलाफ दोहरा शतक भी लगाया था। इससे पहले वेस्ट इंडीज के खिलाफ एजबेस्टन में भी कुक ने डबल सेंचुरी जड़ी थी। लेकिन इस बीच उनकी फॉर्म उनसे रूठी ही रही। 2017 से लेकर अब तक उन्होंने सिर्फ तीन हाफ सेंचुरी और दो डबल सेंचुरी लगाईं। भारत के खिलाफ भी सात पारियों में वह सिर्फ दो बार ही 20 से ज्यादा का स्कोर बना पाए हैं।
साउथहम्पटन में सीरीज के चौथे टेस्ट मैच के बाद कुक के मेंटॉर ग्राहम कूच ने कहा था कि उन्हें कुक के खेल में कोई सुधार नजर नहीं आ रहा है। बीबीसी रेडियो 4 के साथ बात करते हुए उन्होंने कहा था कि एक बल्लेबाज के रूप में आपको लगातार अपने खेल में सुधार करना होता है लेकिन कुक के खेल में ऐसा नजर नहीं आ रहा है।
कुक ने अपने करियर की शुरूआत 2006 में भारत के खिलाफ नागपुर में की थी। उन्होंने इस मैच में शतक लगाया था। यह संयोग ही है कि उनके करियर का आखिरी टेस्ट मैच भी भारत के ही खिलाफ होगा।
टेस्ट क्रिकेट में सबसे ज्यादा रन बनाने वाले बल्लेबाजों की लिस्ट में वह फिलहाल छठे स्थान पर हैं। उनसे आगे सचिन तेंडुलकर (15,921), रिकी पोंटिंग (13,378), जैक कालिस (13,289), राहुल द्रविड़ (13,288) और कुमार संगाकारा हैं। कुक के नाम फिलहाल 32 टेस्ट शतक हैं। कुक ने रेकॉर्ड 59 टेस्ट मैचों में इंग्लैंड की कप्तानी भी की। इसमें 24 टेस्ट मैचों में इंग्लैंड ने जीत हासिल की। वह माइकल वॉन के बाद इंग्लैंड के सबसे कामयाब कप्तान भी रहे।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

*